B.Ed (बीएड) ka full form – B.Ed Full Form in Hindi

आज हम आपको टीचरों के लिए सबसे महत्वपूर्ण डिग्री B.Ed के बारे में बात करने जा रहे हैं। आपने अक्सर यह सुना होगा की यदि आपको किसी सरकारी/निजी विद्यालय में कक्षा 5 से लेकर कक्षा 12वीं तक अध्यापक के रूप पढ़ाना चाहते हैं तो आपके पास बी.एड. की डिग्री होनी आवशयक है और इसके साथ ही आपको TET की परीक्षा पास करनी होती है। हमारे इस आर्टिकल में आप B.Ed Full Form in Hindi से संबंधित सभी जानकारियों को प्राप्त करेंगे। कृपया आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें।

B.Ed (बीएड) ka full form - B.Ed Full Form in Hindi
B.Ed Full Form in Hindi

B.Ed Full Form in Hindi

दोस्तों B.Ed. की फुल फॉर्म होती है “BACHELOR OF EDUCATION” यह एक तरह का पोस्ट-ग्रेजुएशन कोर्स होता है । जिसको करने के लिए आपके पास किसी भी स्ट्रीम से स्नातक की डिग्री होना आवश्यक है। बी.एड करने के लिए आपको स्नातक में 50% अंकों के साथ उत्तीर्ण होना होता है तभी आप बी.एड की प्रवेश परीक्षा के लिए योग्य माने जाते हैं। वैसे देखा जाए तो B. Ed एक शिक्षण स्किल आधारित कोर्स है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

सामान्यतः इस कोर्स की अवधि 2 साल की होती है। परंतु 2018 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के शिक्षा अधिनियम तहत लिए गए एक फैसले के बाद B. Ed के कोर्स में हुए संसोधन में B. Ed को और अधिक प्रोफेशनल बनाने के लिए इंटेग्रेटेड कोर्स प्रोग्राम तैयार किया गया जिसके तहत 3 साल ग्रेजुएशन और 1 साल का B. Ed कोर्स खाका तैयार किया गया। जैसे विद्यार्थियों के विकास शिक्षक के हाथ में होता है वैसे ही BDC का कार्य गाँव विकास कार्य पूरा करना होता है।

यह भी पढ़े :-

Top 10 Schools in India | भारत के टॉप 10 स्कूल 2023

BSC Full Form in Hindi

B.Tech Full Form in Hindi

बी.एड इंटेग्रेटेड कोर्स प्रोग्राम :

अब आप बी.एड इंटेग्रेटेड कोर्स के तहत इस कोर्स को 1 साल के अंतराल में कर सकते हैं पर यह अभी भी सभी राज्यों में लागू नहीं है B.Ed. इंटेग्रेटेड कोर्स की सूची :-

  • B.A. (3 वर्ष )+B.Ed (1 वर्ष ) = 4 वर्ष
  • B.Sc. (3 वर्ष)+B.Ed (1 वर्ष ) = 4 वर्ष
  • B.Com. (3 वर्ष )+B.Ed (1 वर्ष ) = 4 वर्ष इत्यादि ।

B.Ed कोर्स के अंतर्गत स्पेशलाइजेशन किए जाने विषय :

बीएड कोर्स के अंतर्गत आप बहुत सारे विषयों में से किसी एक को चुनकर स्पेशलाइजेशन कर सकते हैं विषयों की लिस्ट इस प्रकार से है –

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
  • अंग्रेजी
  • हिन्दी,
  • संस्कृत
  • उर्दू
  • पंजाबी
  • भौतिकी
  • कॉमर्स
  • गणित
  • इतिहास
  • राजनीति विज्ञान
  • अर्थशास्त्र
  • मनोविज्ञान
  • भूगोल
  • रसायन विज्ञान
  • जीव विज्ञान
  • समाजशास्त्र
  • सामाजिक विज्ञान
  • गृह विज्ञान

बीएड कोर्स करने वाले देश के टॉप संस्थान/कॉलेज :

यहाँ हमने देश के टॉप 10 कॉलेजस की लिस्ट दे रखी है जो B.Ed. का कोर्स करवाते हैं –

क्रम
संख्या
कॉलेज/संस्थान
1Lady Irwin College, Delhi
2Banaras Hindu University (BHU), Varanasi
3Kasturi Ram College of Higher Education, Delhi
4SNDT Women’s University, Mumbai
5आंध्र विश्वविद्यालय, विशाखापत्तनम
6लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर
7गवर्नमेंट कॉलेज फॉर विमेन एजुकेशन, कोयंबटूर
8जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, नई दिल्ली
9एमिटी यूनिवर्सिटी, नोएडा
10Government College of Education, Chandigarh

बीएड कोर्स करने के फीस कितनी लगती है ?

यदि आप किसी सरकारी कॉलेज से बी एड का कोर्स करते हैं तो आपको इस कोर्स की फीस लगभग प्रत्येक वर्ष के लिए ₹50,000/– जमा करनी होती है ।और यदि आप किसी निजी संस्थान/कॉलेज से यह कोर्स करते हैं तो फीस बहुत अधिक देनी होती है तथा यह संस्थान के अनुसार अलग – अलग हो सकती है ।

B.Ed के बाद वेतनमान कितना दिया जाता है ?

जब आप B.Ed करने के बाद किसी स्कूल में टीचर के पद पर कार्यरत होते हैं तो आपको एक अच्छा खास सैलरी पैकेज मिलता है । जिसमें वार्षिक 2 लाख से 5 लाख रुपये तक का वेतनमान दिया जाता है और इसके जरूरी दैनिक भत्ते भी दिए जाते हैं।

B.Ed कोर्स के लिए पात्रता :

बी एड कोर्स में डमिशन के लिए आपके पास निम्नलिखित पात्रताएँ होनी चाहिए :

  • यदि आप 12 वीं के बाद बी एड करना चाहते हैं तो आपको 12वीं कक्षा में 50 % अंकों के साथ TGT (Trained Graduate Teacher) परीक्षा पास करनी होती है ।
  • SC/ST/दिव्यांग वर्ग के उम्मींदवारों को 5 % तक की छूट दी जाती है ।
  • यदि आप ग्रेजुएशन के बाद इस कोर्स को करना चाहते हैं तो आपके पास किसी भी विषय से स्नातक की डिग्री होनी चाहिए । स्नातक होने के बाद आपको TGT परीक्षा देने की आवश्यकता नहीं होती है।

B.Ed कोर्स के बाद करियर के विकल्प :

B.Ed कोर्स करने के बाद आप निम्नलिखित क्षेत्रों में अपना करियर बना सकते हैं –

  1. टीचर
  2. लाइब्रेरीयन
  3. प्रशिक्षक
  4. प्रशासनिक
  5. सहायक अध्यक्ष
  6. प्रिन्सपल
  7. सैन्य प्रशिक्षक
  8. शिक्षा शोधकर्ता
  9. पाठ्यक्रम डिजाइनर

B.Ed के बाद किए जाने वाले कोर्स :

B.Ed करने के बाद आप PGT(Post Graduate Teacher) की परीक्षा उत्तीर्ण कर M.Ed. , M.A. , M.Phil. , PhD आदि कोर्स में ऐडमिशन ले सकते हैं ।

B.Ed के कोर्स के आवेदन कैसे करें :

यदि आप बी एड के कोर्स के लिये आवेदन करना चाहते हैं तो आप भारत के अलग – अलग कॉलेजस जो यह कोर्स करवाते हैं उन कॉलेजस की ऑफिसियल वेबसाईट पर जाकर ऑनलाइन माध्यम से या कॉलेज जाकर ऑफलाइन माध्यम से आवेदन कर सकते हैं । हमें उम्मीद है कि हमारा इस आर्टिकल से आपको बीएड कोर्स के बारे पूर्ण रूप से जाकारी मिल गई होगी। यदि आपके मन में कोई डाउट रह गया हो तो आप कमेन्ट बॉक्स में पूछ सकते हैं। पूरा आर्टिकल पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद जैसे B.Ed करने के बाद आप शिक्षक बन सकते हो वैसे ही एक कोर्स और है। डीएलएड जो एक डिप्लोमा कोर्स है D.EL.ED करने के बाद आप अपना शिक्षक बनने का सपना पूरा कर सकते हो

B.Ed Full Form in Hindi सम्बंधित प्रश्नोत्तर (FAQs)

B.Ed की फुल-फॉर्म क्या होती है ?

B.Ed की फुल-फॉर्म BACHELOR OF EDUCATION होती है जिसे हिंदी में शिक्षा में स्नातक भी कहा जाता है।

B.Ed में दाखिला लेने के लिये क्या शैक्षिक योग्यतायें होनी आवश्यक है ?

B.Ed करने के लिये कैंडिडेट को किसी भी स्ट्रीम से स्नातक होना आवश्यक है तभी वे B.Ed कोर्स में दाखिला ले सकते है।

क्या B.Ed कोर्स में एडमिशन लेने के लिये एंट्रेंस परीक्षा पास करनी पड़ती है ?

सरकारी कॉलेजो में B.Ed कोर्स में दाखिला लेने के लिये प्रवेश-परीक्षा पास करनी अनिवार्य है। निजी कॉलेजो में छात्र मेरिट के आधार पर दाखिला ले सकते है।

देश में B.Ed कोर्स करने के लिये टॉप-कॉलेज कौन-कौन से है ?

देश में टॉप B.Ed कॉलेज की लिस्ट देखने के लिये आपको ऊपर दिया गया लेख पढ़ना होगा। इस लेख के माध्यम से आपको देश के टॉप 10 B.Ed कॉलेजो की सूची दी गयी है।

Leave a Comment