VIP और VVIP का फुल फॉर्म क्या होता है | VIP & VVIP Full Form In Hindi

आपने भी प्रतिदिन के जीवन में लोगों को VIP या VVIP शब्द का इस्तेमाल करते हुए सुना होगा। जब भी कोई महत्वपूर्ण व्यक्ति किसी कार्यक्रम, शहर या अन्य स्थान पर आता है तो तो कहा जाता है की आज वह VIP या VVIP व्यक्ति आया है। अक्सर आपके मन में भी यह ख्याल आता होगा की यह VIP या VVIP क्या होता है ? तो आज के इस लेख में हम जानेगे की VIP और VVIP का फुल फॉर्म क्या होता हैVIP और VVIP क्या होता है। और VIP & VVIP Full Form In Hindi (Full Form Of VIP & VVIP In Hindi) भी जानेगे और इनका क्या महत्व है हम इस लेख के माध्यम से इस विषय में जानकारी प्राप्त करेंगे।

VIP और VVIP का फुल फॉर्म क्या होता है | VIP & VVIP Full Form In Hindi
VIP और VVIP का फुल फॉर्म क्या होता है | VIP & VVIP Full Form In Hindi

क्या है VIP और VVIP का फुल फॉर्म

VIP का फुल फॉर्म होता है VERY IMPORTANT PERSON जिसका हिंदी में मतलब होता है बहुत महत्वपूर्ण व्यक्ति अर्थात किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति के लिए इस शब्द का उपयोग किया जाता है। वहीं VVIP का फुल फॉर्म होता है VERY VERY IMPORTANT PERSON अर्थात बहुत बहुत महत्वपूर्ण व्यक्ति। हमें यह जानना जरुरी है की ये दोनों ही शब्द महत्वपूर्ण व्यक्तियों के लिए उपयोग किये जाते है परन्तु VVIP व्यक्ति VIP व्यक्ति से अधिक महत्वपूर्ण होता है अर्थात वह पद, सम्मान, प्रतिष्ठा एवं अन्य चीजों में VIP व्यक्ति से महत्वपूर्ण होता है एवं उसको VIP व्यक्ति से अधिक सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाता है। तो अब आप अच्छे से समझ गए होंगे की VIP और VVIP की फुल फॉर्म क्या होती है। इनमें क्या अंतर है। अब जानते है इनके बारे में अधिक जानकरियां

किन किन लोगो को मिलता है VIP तथा VVIP का दर्जा

आप भी यह जानने को उत्सुक होंगे की किसी व्यक्ति को कैसे VIP या VVIP का दर्जा मिलता है। क्या यह दर्जा किसी विशेष कार्य को करने से मिलता है इसी तरह कुछ और वजहों से तो हम आपको बताना चाहते है की यह दर्जा किसी भी व्यक्ति विशेष को उसके पद, उसकी द्वारा प्राप्त सम्मान, उसके द्वारा प्राप्त विशेष उपाधि, उसके द्वारा प्राप्त प्रसिद्धि और ऐसे ही उसके द्वारा किये गए अन्य कार्यो से जिससे उसको समाज में विशेष स्थान प्राप्त हुआ हो के आधार पर प्रदान किया जाता है। इस प्रकार से किसी व्यक्ति को अलग अलग कारणों से VIP या VVIP का दर्जा मिलता है।

कौन कौन लोग आते है इसकी श्रेणी में

हमारे देश में VIP तथा VVIP में अलग अलग श्रेणी के लोग आते है। इसमें अलग-अलग क्षेत्र से आये व्यक्तियों को शामिल किया जाता है। अलग-अलग क्षेत्र के लोगो को निम्न प्रकार से विभाजित कर सकते है।

  • राजनीतिक क्षेत्र से – राजनीतिक क्षेत्र से प्रधानमन्त्री, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, लोकसभा अध्यक्ष, राज्यसभा अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष, कैबिनेट मंत्री, सांसद, मुख्यमंत्री, राज्यपाल, विधानसभा अध्यक्ष, विधानसभा के मंत्रिपरिषद के सदस्य विधायक, महापौर एवं पार्षद आदि राजनैतिक हस्तियां आती है।
  • प्रशासनिक क्षेत्र से – प्रशासनिक क्षेत्र से भारत में भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों जैसे IAS, IPS, IFS, IRS एवं कैबिनेट सचिव, मुख्य सचिव, विभागीय सचिव एवं अन्य अधिकारियों को रखा जाता है।
  • कला जगत से-कला जगत से भी प्रसिद्ध अभिनेताओं, कलाकारों, गायको एवं ऐसे ही अन्य व्यक्तियों को VIP एवं VVIP की श्रेणी में रखा जाता है।
  • उद्योग जगत से -उद्योग जगत से भी प्रसिद्ध उद्योगपतियों को VIP एवं VVIP की श्रेणी में रखा जाता है।
  • साहित्य जगत से – साहित्य जगत के प्रसिद्ध लेखकों, कथाकार, नाटककार एवं ऐसे ही प्रसिद्ध व्यक्तियों को VIP एवं VVIP की श्रेणी में रखा जाता है।
  • समाजसेवा क्षेत्र से – समाज सेवा क्षेत्र से भी समाज की भलाई हेतु कार्य करने वाले व्यक्तियों को VIP एवं VVIP की श्रेणी में रखा जाता है।

इस प्रकार विज्ञान,अर्थशास्त्र, सोशल मीडिया के प्रसिद्ध व्यक्तियों, चिकित्सा क्षेत्र,नोबेल पुरस्कार, भारत रत्न एवं ऐसे ही अन्य महत्वपूर्ण पुरस्कार प्राप्त व्यक्ति एवं अलग-अलग क्षेत्र के सम्मान्नित एवं प्रसिद्ध व्यक्तियों को VIP एवं VVIP की श्रेणी में रखा जाता है।

क्या है VIP और VVIP होने से लाभ

अगर किसी व्यक्ति को VIP या VVIP का दर्जा मिलता है तो उसे कई प्रकार से लाभ मिलते है। VIP एवं VVIP व्यक्तियों के साथ आम आदमियों से अलग तरीके से व्यवहार किया जाता है। उन्हें अधिक सम्मान प्रदान किया जाता है। VIP एवं VVIP व्यक्तियों को मिलने वाले लाभ निम्न है।

  • VIP एवं VVIP व्यक्तियों के लिए अलग-अलग प्रोटोकॉल होते हैं जिसके अनुसार उनके साथ अलग अलग स्थितियों में अलग-अलग तरीके से व्यवहार किया जाता है।
  • VIP एवं VVIP व्यक्तियों को हर कार्यक्रम, हर स्थान, हर महोत्सव एवं अन्य अवसरों पर विशेष सम्मान के साथ व्यवहार किया जाता है एवं उनके लिए विशेष व्यवस्थायें की जाती है।
  • VIP एवं VVIP व्यक्तियों के लिए हर जगह अलग व्यवस्थायें प्रदान की जाती है जैसे लाइन पर लगने की आवश्यकता नहीं ,विशेष एंट्री एवं ऐसी ही अन्य सुविधाऐ।
  • VIP एवं VVIP व्यक्तियों को विशेष सुरक्षा प्रदान की जाती है।

इसी प्रकार से VIP एवं VVIP व्यक्तियों के लिए हर जगह अलग अलग सुविधाएं प्रदान की जाती है।

क्या है VIP एवं VVIP लोगो को मिलने वाली सुरक्षा श्रेणी

जैसे की हम पहले ही बता चुके है की VIP एवं VVIP लोगो को मिलने वाली सुरक्षा विशेष प्रकार की होती है। चूँकि VIP एवं VVIP लोग प्रसिद्ध व्यक्ति होते है अतः इन्हे विशेष सुरक्षा प्रदान किया जाना आवश्यक है। इन लोगो की सुरक्षा की लिए विशेष प्रोटोकॉल होते है। VIP एवं VVIP लोगो को मिलने वाली सुरक्षा श्रेणियाँ इस प्रकार से है।

  • SPG – सिर्फ भारत के प्रधानमंत्री हेतु
  • Z+ प्रथम श्रेणी सुरक्षा
  • Z द्वितीय श्रेणी सुरक्षा
  • Y+ तृतीय श्रेणी सुरक्षा
  • Y चतुर्थ श्रेणी सुरक्षा
  • X पंचम श्रेणी सुरक्षा

इस प्रकार से VIP एवं VVIP लोगो को उनके वर्गानुसार अलग अलग सुरक्षा श्रेणियाँ प्रदान की जाती है।

इसके दुष्प्रभाव

हालाँकि यह VIP एवं VVIP स्टेटस देखने सुनने में जितना अच्छा लगता है इससे आम लोगो को उतनी ही परेशानी भी होती है। सबसे पहले यह मनुष्यों के बीच भेदभाव करता है और मानवीय गरिमा को ठेस पहुंचाता है। आम लोगो को VIP एवं VVIP लोगो के लिए विशेष व्यवस्था बनाये जाने के कारण बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है जैसे सड़क पर VIP और VVIP लोगो के गुजरने पर रोड को डाइवर्ट किया जाता है या जनता को जाम से दो चार होना पड़ता है। इसी प्रकार से अन्य समस्याऐ भी है।

वर्तमान में इस संस्कृति को खत्म करके सबके साथ बराबरी का व्यवहार किये जाने की जरुरत है हालांकि VIP एवं VVIP लोगो की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा की विशेष व्यवस्था बनायीं रखी जानी चाहिए परन्तु इससे आम लोगो को कोई दिक्कत न हो यह भी ध्यान रखा जाना चाहिए।

Leave a Comment