सभी दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में यहाँ जानें | Pulses Name in English and Hindi with Pictures

दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में: आज हम आप को इस लेख के माध्यम से दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में बताने जा रहे हैं। आप की प्रतिदिन की दिनचर्या में दाल तो शामिल होगी ही। पर क्या आप सभी दालों का इस्तेमाल करते हैं ? या फिर आप के घर में मौजूद सभी दालों का नाम हिंदी और अंग्रेजी में आप को पता है ? अगर नहीं तो , तो आज आप के लिए ये लेख बहुत ही फायदेमंद होने वाला है। इस के माध्यम से आप को दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में , दोनों में ही पता चल जाएंगे। साथ ही आप को हम दालों के नाम के साथ उनकी फोटो या इमेजेज भी दिखाएंगे। ताकि इस लेख को पढ़ने के बाद आप आसानी से सभी दालों को पहचान सकें। Pulses Name in English and Hindi with Pictures जानने के लिए आप इस लेख को पूरा पढ़ें।

दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में यहाँ जानें

हमारे दैनिक जीवन में हम रोज कोई न कोई दाल का सेवन करते ही हैं। जिनमे से कुछ हमारी पसन्दीदा दालों में से होती हैं जबकि कुछ दालें हम अपने स्वास्थ्य को ध्यान में रखकर खाते हैं। अगर भोजन की थाली की बात हो और दाल न हो तो ऐसा हो नहीं सकता। हमारी पारम्परिक थाली में दाल का अपना विशेष स्थान होता है। दाल प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत होती हैं। इस के अलावा दाल हमारे शरीर में बहुत से जरुरी मिनरल और विटामिन्स की पूर्ती भी करती है। जोकि हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। इसके आधार पर हम कह सकते है कि दालें अनेक तरह के विटामिन, फॉस्फोरस, मिनरल्स और कार्बोहायड्रेट जैसे गुणों से भरपूर होती है। आज इस लेख में हम इन दालों ( Pulses Name with Pictures ) के बारे में ही बात करेंगे। दालों को इंग्लिश में कहते हैं Lentils और Pulses कहते हैं। अब आगे सभी दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी में /Pulses Names in Hindi and English (Lentils in Hindi) इमेज सहित बताएंगे।

मानव शरीर के अंगों के नाम

Pulses Name with Pictures

आइये अब शुरुआत करते हैं हमारे पारम्परिक थाली में मिलने वाली दालों की। जिन्हे खाने से न सिर्फ आप को पोषण मिलेगा बल्कि इस से बीमारिया भी आप से कोसो दूर रहेंगी। यूँ तो आप जानते होंगे की हमारे खान पान में बहुत सी दालें हैं। लेकिन यहाँ हम कुछ अक्सर बनायी जाने वाली दालों की बात करेंगे।

अरहर दाल (Arhar Daal in English ): अरहर की दाल को तुअर दाल के नाम से भी जाना जाता है। इसे अंग्रेजी में Pigeon Pea / Yellow split Pigeon peas कहते हैं। इसे Red Gram के नाम से भी जानते हैं। इसमे पोटैशियम, प्रोटीन, सोडियम, विटामिन ए, बी 12 और कार्बोहायड्रेट मौजूद होता है।

अरहर दाल

मसूर की दाल : अंग्रेजी में इसे Red Lentil (split and skinned) नाम से जानते हैं। मसूर की दाल में प्रोटीन और फाइबर की भरपूर मात्रा होती है। पेट और पाचन संबंधी रोगों के लिए फायदेमंद होती है। साथ ही इस से गले व आँतों की बीमारी से भी बचाव होता है।मसूर की दाल दो तरह की होती है। एक धुली दाल और दूसरी छिलके वाली। बिना छिलके वाली मसूर को धुलि दाल कहते हैं जिसका रंग गुलाबी होता है। इसकी तासीर गर्म होती है।

मसूर की दाल

मूंग की दाल : मूंग की दाल को अंग्रेजी में Green Gram / Yellow lentils (धुली दाल , बिना छिलके वाली ) कहते हैं । इस में से धुली मूंग की दाल जल्दी पच जाती है यानी सुपाच्य होती है। इसीलिए किसी बीमार व्यक्ति को मूंग की दाल या खिचड़ी खाने को कहा जाता है। मूंग की दाल दो प्रकार की होती है। पहली साबुत मूंग दाल जिसे Green Gram whole और दूसरी छिलके वाली मूंग दाल green gram split .

मूंग की दाल

उड़द की दाल : इसे अंग्रेजी में black gram जानते हैं। उड़द की धुली दाल में आयरन की मात्रा बहुत अधिक होती है। उड़द की दाल के दो प्रकार से खायी जाती है। एक तो साबुत ( black gram Whole ) दूसरी धुली या बिना छिलके वाली (husked split black gram )

उड़द की दाल

हरा चना : Green chickpeas dry को बहुत पौष्टिक माना जाता है।

हरा चना

चने की दाल : Yellow lentil , Bengal Gram यानी चने की दाल। इस दाल में प्रचुर मात्रा में फाइबर और प्रोटीन्स पाया जाता है।

चने की दाल

काले चने : काले चने की दाल को यानी की साबुत काले चने को Bengal gram whole या black chickpeas कहते हैं। ये दाल बहुत ही पौष्टिक होती है।

काले चने

काबुली चने : इसे इंग्लिश में White Chickpeas या फिर Garbanzo Beans कहा जाता है।

काबुली चने

राजमा की दाल : ये दाल अपने आकार के कारण Red Kidney Beans के नाम से प्रचलित है। इसकी तासीर ठंडी मानी जाती है। यूँ तो इसे किसी भी मौसम में खाना पसंद करंट हैं लेकिन इसे गर्मियों में खाना ज्यादा फायदेमंद होता है। इसके 3 प्रकार या वैरायटी हमे सामान्यतः देखने को मिलती है। एक लाल , काली और सफ़ेद।

राजमा की दाल

छोले / सफ़ेद मटर : इसे Dry peas या White Peas के नाम से जाना जाता है। इसे हरे मटरों को सूखा कर बनाया जाता है।

सफ़ेद मटर की दाल
छोले / सफ़ेद मटर

लोबिया :  लोबिया को Black eyed peas और Cow pea भी कहा जाता है। लोबिया में एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं जो कैंसर से लड़ने में हमारी सहायता करते हैं। साथ ही ये मधुमेह जैसी बीमारियों में भी लाभकारी है। यह दाल सुपाच्य होती है और गर्मी और सर्दी में सामान रूप से खाया जा सकता है। इसमें लाल रंग की लोबिया भी मिलती है जिन्हे red beans के नामा से भी जानते हैं।

लोबिया की दाल
लोबिया

सोयाबीन्स : इस दाल को अंग्रेजी में भी Soyabeans ही कहते हैं। सोयाबीन्स दो तरह के होते हैं एक सफ़ेद और दूसरे काले।

सोयाबीन की दाल
सोयाबीन की दाल

कुल्थी की दाल : इस दाल को Horse Gram कहते हैं।

कुल्थी की दाल
कुल्थी की दाल

मोठ/ मटकी : ये दाल अंग्रेजी में Moth Beans के नाम से जानी जाती है।

मोठ मटकी की दाल
मोठ/ मटकी

दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी से सम्बंधित प्रश्न उत्तर

दाल कितने प्रकार की होती है उनके नाम?

दाल विभिन्न प्रकार की होती हैं , जिनमे से कुछ नाम हैं – अरहर , राजमा , उड़द , मसूर , मलका , मूंग , चना दाल , हरी मूंग , लोबिया आदि।

सबसे ज्यादा प्रोटीन वाली दाल कौन सी है?

सबसे ज्यादा प्रोटीन मून की दाल में होता है। मूंग की दाल दो प्रकार की होती है। पहली है हरी मूंग और दूसरी है पीली मूंग। धुली और छिली हुई मूंग दालें पीले रंग की होती हैं। इनमे सबसे अधिक प्रोटीन पाया जाता है।

कुलथी की दाल का दूसरा नाम क्या है?

इस दाल को हॉर्स ग्राम के नाम से भी जाना जाता है. यह दक्षिण भारत की महत्वपूर्ण फसलों में से एक है। इसका रंग गहरा भूरा होता है और देखने में मसूर की दाल की तरह लगती है.

कौन सी दाल गर्म होती है?

मसूर की दाल की तासीर गर्म होती है।

इंग्लिश में चने को क्या बोलते हैं?

चने को इंग्लिश में ग्राम (Gram) बोलते हैं।

उड़द की दाल की तासीर क्या होती है?

उड़द की दाल की तासीर ठंडी होती है।

दालों का राजा किसे कहा जाता है?

अरहर की दाल को दालों का राजा कहा जाता है।

इस लेख के माध्यम से हमने आप को विभिन्न दालों के नाम हिंदी और अंग्रेजी Pulses Names in Hindi and English (Lentils in Hindi) में बताये हैं। साथ ही इनसे संबंधित जानकारी भी दी है। अगर आप को इस बारे में कुछ अन्य जानकारी चाहिए हो या कुछ सुझाव देना चाहते हों तो तो आप हमे इस बारे में संपर्क कर सकते हैं। आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमसे इस बारे में पूछ सकते हैं । हम आप के प्रश्नों का उत्तर अवश्य देंगे व आप के सुझावों का भी स्वागत करेंगे।

Leave a Comment