आईपीएस ऑफिसर (IPS Officer) कैसे बने – How to become an IPS officer

आईपीएस ऑफिसर कैसे बने :- भारत के लगभग सभी लोगों का अपने जीवन में सफल होना एक सपना होता है। और सफल होने के लिए उन्हें सरकारी नौकरी की चाह होती है। भारत में सरकारी पद पर नौकरी पाने के लिए आपको इससे सम्बंधित परीक्षा को देकर पास करना होता है। भारत में UPSC के द्वारा उच्च पदों की भर्ती कराई जाती है। भारत में लगभग लाखों लोग इन भर्तियों के लिए आवेदन करते हैं, परन्तु अच्छी तैयारी न होने के कारण असफल हो जाते हैं। UPSC के अंतर्गत आने वाले बड़े अफसरों के पद में IPS Officer का पद एक बहुत महत्वपूर्ण और उच्च वर्ग का पद है। यदि आप IPS Officer बनना या इसके बारे में जानकारी हासिल करना चाहते हैं या आईपीएस ऑफिसर कैसे बने जानना चाहते हैं तो आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

आईपीएस ऑफिसर (IPS Officer) कैसे बने - How to become an IPS officer
आईपीएस ऑफिसर (IPS Officer) कैसे बने – How to become an IPS officer

IPS Officer कौन होता है ?

UPSC अर्थात यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन  के अंतर्गत कई उच्च पद के अफसरों की भर्ती होती है। IPS Officer इनमे से ही एक उच्च वर्ग का पद होता है। IPS Officer का पूरा नाम Indian Police Service है। यह पद IAS Officer जैसे बड़े पद से भी ऊपर का पद होता है। IPS Officer का पद राज्य पुलिस और भारत के केंद्रीय सशस्त्र पुलिस के सभी कर्मचारियों को शक्ति प्रदान करता है। इसकी स्थापना 1948 में हुई थी। IPS की कैडर पर नियंत्रण का अधिकार गृहमंत्रालय का होता है। एक IPS Officer का कार्य मुख्य रूप से अपराध को रोकना, कानून और समाज में व्यवस्था बनाये रखना, दुर्घटनाओं से बचने और इससे निपटने आदि का होता है। एक IPS Officer, SBI और RAW का संचालक भी बन सकता है और नेशनल सिक्योरिटी अड़वाइज़र National Security Adviser के पद पर भी जा सकते हैं।

आईपीएस की परीक्षा में आवेदन करने के लिए जरुरी योग्यतायें

  • IPS की परीक्षा में आवेदन करने के लिए आपके पास भारत की नागरिकता होना आवश्यक है।
  • किसी भी विषय में आपका स्नातक होना जरुरी है।
  • ग्रेजुएशन में आपके अंकों की कोई सीमा नहीं रखी गयी है, अगर आपके ग्रेजुएशन में 35% भी हैं तब भी आप इस परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • इसके लिए आपको एक औपचारिक विषय का चयन करना होता है।
  • एक IPS बनने के लिए आपका दिमाग बहुत तेज़ होना चाहिए।
  • IPS बनने के लिए आपका मेडिकल टेस्ट भी लिया जाता है तो आपका मेडिकल भी सही होना चाहिए।

IPS Officer बनने के लिए आयु सीमा

IPS Officer बनने के लिए आयु की सीमा कम-से-कम 21 वर्ष और ज्यादा-से-ज्यादा 32 वर्ष होती है। आयु सीमा में कुछ वर्गों को छूट भी प्रदान कराई जाती है। इसमें OBC के लिए 3 वर्ष और ST/SC के लिए 5 वर्ष की छूट मिलती है। सामान्य वर्ग के लिए कोई छूट नहीं होती है।

आईपीएस बनने के लिए Attempt

IPS की परीक्षा में attempt को भी गिना जाता है। आपकी आयु के साथ साथ, आपने कितनी बार इस परीक्षा के लिए आवेदन कर लिया है, इसकी भी एक सीमा होती है। इसमें भी वर्गों के अनुसार छूट मिलती है। इसमें सामान्य वर्ग के लोग मात्र 6 बार ही ये परीक्षा दे सकते हैं,वहीँ OBC वर्ग के लोग मात्र 9 बार ये परीक्षा दे सकते हैं। किन्तु SC/ST वर्ग के लिए ऐसी कोई सीमा नहीं हैं। वे लोग ये परीक्षा के लिए तब तक प्रयास कर सकते हैं, जब तक की उनकी आयु सीमा समाप्त न हो जाए।

शारीरिक योग्यता

IPS Officer बनने के लिए – पुरुष की हाइट 165cm और महिला की हाइट 150cm होनी आवश्यक है। इसमें भी आरक्षित वर्ग और पहाड़ी क्षेत्र के नागरिकों को कुछ छूट प्रदान कराई जाती है। दोनों ही स्थिति में आपको 5cm की छूट मिलती है। IPS Officer बनने के लिए आपकी आँखों का भी टेस्ट लिया जाता है, तो इसमें आपकी नजर स्वस्थ आँख के लिए 6/6 या 6/9 और कमजोर आँख के लिए 6/12 या 6/9 होना आवश्यक है।

परीक्षा का स्वरुप [Pattern]

IPS Officer बनने के लिए UPSC CSE की परीक्षा देनी होती है। इस परीक्षा के मुख्यतः तीन चरण होते हैं।

  1. प्रारंभिक परीक्षा [pre or prelims]
  2. मुख्य परीक्षा [mains]
  3. साक्षात्कार [interview]
प्रारंभिक परीक्षा [pre or prelims]
  • UPSC CSE की परीक्षा में ये आपकी सबसे पहली परीक्षा होती है।
  • इस परीक्षा में आपको वैकल्पिक प्रश्नों को हल करना होता है।
  • प्रारंभिक परीक्षा में आपको दो पेपर देने होते हैं।
  • दोनों पेपर दो-दो सौ अंकों के होते हैं।
  • इसमें एक पेपर आपका सामान्य अध्ययन तथा दूसरा पेपर सिविल सेवा योग्यता का होता है।
  • इस परीक्षा में माइनस मार्किंग भी होती है।
  • दोनों पेपर के लिया आपका समय निर्धारित होता है।
  • प्रत्येक पेपर के लिए आपको दो घंटे का समय दिया जाता है।
मुख्य परीक्षा [mains]
  • प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने के बाद आपको मुख्य परीक्षा देनी होती है।
  • मुख्य परीक्षा के प्रश्न पत्र विवरणात्मक प्रकार के होते हैं, अर्थात इनमे आपको अपने उत्तर निबंध शैली में देने होते हैं।
  • मुख्य परीक्षा में आपके पूरे नौ पेपर होते हैं।
  • दो पेपर भाषा के होते हैं जिनमे से एक अंग्रेजी तथा दूसरा भारतीय भाषा का होता है।
  • दोनों पेपर तीन-तीन सौ नंबर के होते हैं।
  • बाकी 7 पेपर 250-250 नंबर के होते हैं।
  • चार पेपर आपके सामान्य अध्ययन के होते हैं।
  • दो पेपर औपचारिक होते हैं, और एक पेपर निबंध का होता है।
  • इन 7 पेपर के लिए आपको तीन-तीन घंटे का समय दिया जाता है।
साक्षात्कार [interview]
  • दोनों परीक्षाओं में पास होना जरुरी है। तभी आप आगे इंटरव्यू के लिए बुलाये जाते हैं।
  • इसमें इंटरव्यू के लिए कुछ विशेषज्ञों का एक ग्रुप होता है।
  • इंटरव्यू में कई प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं, और आपके उत्तर के अनुसार आपको नंबर दिए जाते हैं।
  • इसमें इंटरव्यू 275 नंबर का होता है।

परीक्षाओं में सफल होने के बाद सभी के लिए मेरिट लिस्ट लगती है, और आपको आपके नंबर के अनुसार पोस्ट प्रदान की जाती है। इसके बाद आपको मिली पोस्ट के अनुसार ट्रैनिग करनी होती है। IPS Officer की ट्रेनिंग तीन साल की होती है, इसके अंतर्गत आपको प्रशासन और पुलिस की सभी जानकरियों से अवगत कराया जाता है। तीन साल की ट्रेनिंग के पश्चात् आपको IPS Officer के पद पर नियुक्त किया जाता है।

आईपीएस ऑफिसर कैसे बने से सम्बंधित कुछ प्रश्न-उत्तर

IPS Officer कौन होता है ?

IPS का पूरा नाम Indian Police Service होता है। IPS Officer भारतीय पुलिस का एक उच्च पद होता है। जिसका चयन यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन अर्थात UPSC के अंतर्गत होता है।

IPS Officer का क्या काम होता है ?

IPS Officer का मुख्य काम अपराध और अपराधियों को रोकना, कानून और समाज में व्यवस्था बनाये रखना। और इसके साथ साथ राज्य की पुलिस और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस के कर्मचारियों को शक्ति प्रदान करना होता है।

UPSC की परीक्षा में कोई कितनी बार आवेदन कर सकता है ?

UPSC की परीक्षा के लिए सामान्य वर्ग के लोग मात्रा 6 बार, OBC के लोग 9 बार और SC/ST के लोग आयु सीमा समाप्त होने तक प्रयास कर सकते हैं।

UPSC में परीक्षा का स्वरुप [Pattern] क्या होता है ?

UPSC में परीक्षा तीन चरण में संपन्न कराई जाती है। 1. प्रारंभिक परीक्षा 2. मुख्य परीक्षा 3. इंटरव्यू अर्थात साक्षात्कार। तीनो परीक्षाओं में पास होने के पश्चात् ही आप किसी पद के लिए योग्य माने जाते हैं।

मुख्य परीक्षा में कितने पेपर होते हैं ?

मुख्य परीक्षा में आपके 9 पेपर होते हैं। जिनमे से दो भाषा, चार सामान्य अध्ययन, दो औपचारिक विषय और एक निबंध का होता है। इसमें भाषा के दो पेपर तीन-तीन सौ नंबर, और 7 पेपर 250-250 नंबर के होते हैं। प्रत्येक पेपर के लिए आपको तीन घंटे का समय दिया जाता है।

Leave a Comment