Goldfish ka Scientific Naam Kya hai? – गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?

Goldfish ka Scientific Naam:- तो दोस्तों जैसा की आप सभी जानते ही है की हम सभी इस धरती पर निवास करते है। हमारी इस धरती पर अनेकों प्रकार के जीव व जंतु भी रहते है। कई जीव जमीन पर रहते है और कुछ जीव पानी में रहते है। पानी में रहने वाले भी कई प्रकार के जीव होते है। जैसे की – दरियाई घोडा, मछली, ऑक्टोपस, आदि जैसे का जीव। तो दोस्तों आप सभी ने मछलियां तो बहुत से प्रकार की देखि होंगी। क्योंकि मछलियों की भी कई प्रजातियां होती है। उन सभी प्रजाति की मछलियों में एक मछली का नाम Goldfish. तो दोस्तों आप सभी ने इसके बारे में तो सुना ही होगा। बल्कि बहुत से लोगो के घर में यह मछली भी देखने को मिल जायेगी। इस मछली को बहुत से लोग अपने घर में पालना पसंद करते है। तो दोस्तों इस मछली का नाम गोल्डफिश है परन्तु हर जीव व जंतु या फिर इंसान का scientific name भी होता है।

Goldfish ka Scientific Naam Kya hai? – गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?
Goldfish ka Scientific Naam Kya hai?

तो दोस्तों क्या आप यह जानते है की Goldfish ka Scientific Naam Kya hai ? अगर नहीं तो आपको इसमें बिलकुल भी चिंता करने की कोई भी आवश्यकता नहीं है। क्योंकि आज हम आप सभी को इस लेख के जरिये गोल्डफिश के बारे में बहुत सी जानकारी प्रदान करने वाले है जैसे की – Goldfish ka Scientific Naam Kya hai और गोल्डफिश किस वातावरण में रहना पसंद कृत्य है। गोल्डफिश का आकार केसा होता है , अदि जैसी कई अन्य जानकारी। तो दोस्तों क्या आप भी गोल्डफिश के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है। अगर हाँ तो उसके लिए आप सभी को हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा।

क्योंकि इस लेख में ही हमने गोल्डफिश से सम्बंधित जानकारी जैसे की – Goldfish ka Scientific Naam Kya hai और गोल्डफिश किस वातावरण में रहना पसंद कृत्य है। गोल्डफिश का आकार केसा होता है , अदि जैसी कई अन्य जानकारी के बारे में बताया हुआ है जिसको पढ़ने से ही आप इसके बारे में जान सकेंगे। तो दोस्तों इसलिए कृपया करके हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़े और इससे सम्बंधित जानकारी प्राप्त करें।

इसपरभी गौर करें :- जानवरो के वैज्ञानिक नाम

Goldfish ka Scientific Naam Kya hai | गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है?

तो दोस्तों आप भी यह जानना चाहते होंगे की Goldfish का साइंटिफिक नाम क्या होता है। तो इसलिए आप सभी को यह बता दे की जिस प्रकार से हर किसी जीव का साइंटिफिक नाम अवश्य होता है उसी प्रकार से आपको यह बता दे की गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम कैरासियस औराटस (Carassius Auratus) होता है। आप सभी यह तो जानते ही होंगे की गोल्डफिश देखें में कैसी होती है क्योंकि इस मछली को पहचानना काफी आसान होता है जिसको कोई भी आसानी से पहचान सकता है। आप सभी को यह भी बता दू की गोल्डफिश को गोल्डन क्रूसियन कॉर्प (Golden Crucian Corp) के नाम से भी जाना जाता है। कई लोग तो इस मछली को सुनहरी मछली के नाम से भी जानते है।

गोल्डेनफिश को दुनिया की सबसे सुन्दर मछलियों में से एक माना जाता है। आज के समय में बहुत से लोग इस मछली को अपने घर में पलना पसंद करते है। माना यह जाता है की इस मछली का इतिहास करीब 1700 वर्ष पुराना है। इसको लोग अपने घर में इसलिए पालते है क्योंकि इस मछली को गुड लक का प्रतीक मानते है। इसी को सोचते हुए लोग इस मछली को अपने घरों में पालते है। तो दोस्तों अब हम आप सभी को यहाँ पर गोल्डफिश के बारे में कई अन्य जानकारी भी प्रदान करने वाले है। तो इसके बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए दी गयी जानकारीको ध्यान से पढ़े।

गोल्डफिश कैसी होती है ?

तो दोस्तों जैसा की आप सभी जानते होंगे की गोल्डफिश देखने में सुनहरे रंग की होती है। जिसको हिंदी में सुनहरी मछली के नाम से भी जाना जाता है। इस मछली का scientific name (वैज्ञानिक नाम) कैरासियस औराटस (Carassius Auratus) है। इस मछली की आयु करीब 5 वर्ष से लेकर 6 वर्ष तक होती है। आप सभी को यह मछली अधिकतर मीठे पानी में मिलेगी। क्योंकि इसको मीठे पानी में रहना ही पसंद होता है।इस मछली का आकार करीब 20 सेंटीमीटर तक होती है। इस मछली को कई प्रकार का भोजन देना होता है जैसे की – शैवाल, कीट, लार्वा, आदि। माना यह भी जाता है की इस मछली को मूल स्थान चीन है। यह मछली केवल मीठे पानी में ही ज़िंदा रह सकती है। अगर इस मछली को समुन्द्र के खारे पानी में छोड़ दिया जाए तो यह मछली वहा पर जीवित नहीं रह सकती। खारे पानी में इसकी मृत्यु हो जायेगी।

यह मछली कई अन्य रंग में भी पाई जाती है जैसे की – लाल, पीले, नीले, बैंगनी, काले, सफेद आदि जैसे रंग। यह मछलियां कई बार काफी अधिक बड़ी होती है। आपको कई बार इस मछली का वजन करीब 3 किलो तक देखने को मिल जाएगा।

Goldfish का आकार केसा होता है |

तो दोस्तों जैसा की हमने आप सभी को बताया है की Goldfish का साइज करीब 20 से लेकर 25 सेंटीमीटर तक होता है। यह मछली देखने में छोटी होती है परन्तु इस मछली के रंग के कारण लोगो को यह मछली काफी अधिक प्रिय हो जाती है। इसके दो पंख भी है जो की इसकी सुंदरता को और भी अधिक बढ़ा देते है। वैसे तो इस मछली के कई रंग होते है जैसे की – लाल, पीले, नीले, बैंगनी, काले, आदि। लोगो को इसके सभी रंग पसंद आते है परन्तु लोगो को अधिकतर यह सुनहरे रंग की प्रिय होती है। जैसे की कई लोग मछली खाते है उस प्रकार से इस मछली का उपयोग कभी भी भोजन के तौर पर नहीं किया गया है।

क्योंकि लोग इस मछली को काफी शुभ मानते है। इसलिए वह इसको अपने घर में पालते है। ताकि उनके घर में भी खुशियां बनी रहे। आप सभी को यह बता दे की इस मछली को सबसे पहले चीन में ही पालतू जीव के तौर पर रखा गया था। तब ही से लोग इसको अपने घर में पालते है और इस मछली का सेवन नहीं करते है।

गोल्डफिश का पालन किस प्रकार से किया जाता है ?

तो दोस्तों आप सभी यह तो जानते ही होंगे की गोल्डफिश एक अनोखी मछलियों में से ही एक है। इसलिए इसको पालने के लिए कुछ ख़ास बातों का ध्यान रखना होता है। इसलिए अगर आप भी गोल्डफिश पालना चाहते है तो उससे पहले यह जान ले की गोल्डन फिश को पलने के लिए किस किस बात का ध्यान रखना होता है। अगर आप इस मछली को पल रहे है तो सबसे पहले यह ध्यान में रखे की इस मछली को पलने के लिए सबसे महत्वपूर्ण यह है की आप जिस स्थान पर उस मछली को रख रहे हो चाहे वो एक्वेरियम हो या फिर तालाब उस स्थान का टेम्परेचर करीब 20 सेल्सियस होना चाहिए।

इसके साथ साथ यह भी ध्यान रखे की उस स्थान पर इतनी जगह होनी चाहिए की उस में मछली आसानी से तैर सके। जिस स्थान पर आप उस एक्वेरियम को रखे वहा पर थोड़ी थोड़ी धुप आना भी बहुत आवश्यक होता है। कुछ दिनों के पश्चात पानी को बदलते रहे ताकि जिस पानी में मछली रह रही हो वह पानी साफ़ रहे। इसका कारण यह भी है की गोल्डफिश बहुत ही जल्दी पानी को गन्दा कर देती है। इसलिए इसके पानी को बार बार बदलना पढता है। आपको इस मछली यानि के गोल्डफिश के खाने पीने का भी काफी अधिक ध्यान देना होगा क्योंकि यह मछली कई बार कुछ ज्यादा ही खा लेती है जिसकी वजह से इनको परेशानी का भी सामना करना पढ़ सकता है।

अगर आपको इनकी तबियत के बारे में जानना है तो आपको यह बता दे की अगर कभी मछली कुछ अलग प्रकार का व्यवहार करती है तो आपको तुरंत ही पशु चिकित्सक से मछली की जाँच करवा लेनी होगी क्योंकि जब भी इसमछलि की तबियत ठीक नहीं होती है तो यह कुछ अजीब सा व्यवहार करती है। जब यह मछली करीब 1 वर्ष की हो जाती है तो उसके बाद ही यह मछली अपनी सुंदरता को दर्शाना शुरू करती है।

Goldfish से सम्बंधित कुछ अन्य जानकारी

तो दोस्तों अब हम आप सभी को यहाँपर गोल्डफिश से सम्बंधित जानकारी के बारे में बताने वाले है। तो अगर आप भी इससे सम्बंधित जानकारी जानना चाहते है तो दी गयी जानकारी को ध्यान से पढ़े।

  • Goldfish को हिंदी में सुनहरी मछली के नाम से जाना जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम Carassius Auratus होता है। इसके साथ साथ इस मछली को गोल्डन क्रूसियन के नाम से भी जाना जाता है।
  • इस मछली को करीब 1700 वर्ष पुराना माना जाता है। इस मछली को सबसे पहले चीन में पाया गया था। उसके साथ साथ इस मछली को पालतू जीव के तौर पालने की शुरुआत भी चीन के निवासियों ने ही की थी।
  • यह मछली केवल मीठे पानी में जीवित रहती है ,अगर इसको खारे यानि के समुद्र के पानी में छोड़ा जाए तो वहा पर इसकी मृत्यु हो जायेगी।
  • इस मछली को घर में रखना काफी शुभ माना जाता ही। इसलिए लोग इसको अपने घर में पालते है। इस मछली को खाया नहीं जाता है क्योंकि यह मछली गुड लक माना जाता है।
  • यह मछली सुनहरे रंग के साथ साथ कई अन्य रंगो में भी पाई जाती है जैसे की – लाल, पीले, नीले, बैंगनी, काले आदि जैसे रंग की मछलिया ,इस मछली के सभी रंग काफी अनोखे व सुन्दर भी होते है।
  • इस मछली की आयु करीब 5 वर्ष से लेकर 6 वर्ष तक की होती है। इस मछली की लम्बाई भी करीब 20 सेंटीमीटर से लेकर 25 तक की होती है।
  • यह मछली केवल 18-26 डिग्री सेल्सियस के तापमान के पानी में ही जीवित रह सकती है।
  • इस मछली को खाने के लिए बहुत सी चीजें दी जा सकती है जैसे की – मच्छरों के लार्वा, पानी के पिस्सू, कीड़े, मटर, दलिया, अंडे आदि जैसी कई चीजें खिलाई जाती है।
  • इस मछली का आकार बहुत ही काम होने के कारण इन मछलियों को बहुत से पक्षी भी अपना भोजन बना लेते है।

कुछ सम्बंधित प्रश्न व उनके उत्तर यहाँ पर जानिए ?

Goldfish ka Scientific Naam Kya hai

आप सभी को यह बता दे की जिस प्रकार से हर किसी जीव का साइंटिफिक नाम अवश्य होता है उसी प्रकार से आपको यह बता दे की गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम कैरासियस औराटस (Carassius Auratus) होता है।

Goldfish का आकार केसा होता है

Goldfish का साइज करीब 20 से लेकर 25 सेंटीमीटर तक होता है। यह मछली देखने में छोटी होती है परन्तु इस मछली के रंग के कारण लोगो को यह मछली काफी अधिक प्रिय हो जाती है। इसके दो पंख भी है जो की इसकी सुंदरता को और भी अधिक बढ़ा देते है।

Goldfish कितने तापमान में जीवित रह सकती है ?

यह मछली केवल 18-26 डिग्री सेल्सियस के तापमान के पानी में ही जीवित रह सकती है।

गोल्डफिश की आयु कितनी होती है ?

गोल्डफिश की आयु करीब 5 वर्ष से 6 वर्ष तक होती है।

Leave a Comment

Join Telegram