e nam रजिस्ट्रेशन: ई-नाम ऑनलाइन किसान पंजीकरण @enam.gov.in Portal

केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानो के जीवनस्तर को बेहतर बनाने के लिए समय-समय पर विभिन योजनायें लांच की जाती है। इसी क्रम में केंद्र सरकार द्वारा ई-नाम (National Agriculture Market (e-NAM) पोर्टल की शुरुआत की गयी है। इस पोर्टल के माध्यम से किसान उपज को ऑनलाइन बेचकर अपने बैंक अकाउंट में भुगतान प्राप्त कर सकते है साथ ही पोर्टल के माध्यम से व्यापारियों को भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है ताकि वे भी आसानी से उपज का प्रोक्यूर्मेंट कर सके। किसानो को लाभ प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है ताकि अधिक से अधिक किसान इस सुविधा का लाभ ले सके साथ ही मोबाइल App के माध्यम से भी किसान e-NAM portal पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

ई-नाम पोर्टल

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की ई-नाम (e-NAM) पोर्टल क्या है? इस पोर्टल का उद्देश्य, लाभ, और रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या-क्या है ? साथ ही इस लेख के माध्यम से आपको पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन और लॉगिन की प्रक्रिया से भी अवगत करवाया जायेगा। केंद्र सरकार द्वारा देश की सभी एपीएमसी (APMC) मंडियों को जोड़ने के लिए और राष्ट्रीय कृषि बाजार को एकीकृत करने के लिए ई-नाम (e-NAM) पोर्टल की शुरुआत की गयी है। ई-नाम (e-NAM) पोर्टल एक राष्ट्रीयकृत इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है जो की देश की विभिन कृषि उपज और पशुधन बाजार समिति (APMC मंडियों) को आपस में जोड़कर देश के कृषि उत्पादों के क्रय-विक्रय में समानता लाता है।

इस पोर्टल के माध्यम से किसान बिना किसी मध्यस्थ (बिचौलियों) की सहायता से सीधे व्यापारियो से ट्रेड कर सकते है और अपनी उपज का सही मूल्य प्राप्त कर सकते है। यह पोर्टल केंद्र सरकार द्वारा संचालित की जा रही APMC मंडियों का ही व्यापक रूप है जिसके माध्यम से कृषि उत्पादों के व्यापार में और सरलता लायी गयी है। अब तक इस पोर्टल पर 1.70 करोड़ से भी अधिक किसान रजिस्ट्रेशन करवा चुके है। इस पोर्टल का संचालन लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (SFAC) के द्वारा कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से किया जा रहा है।

e-NAM portal, Highlights

इस टेबल के माध्यम से आपको ई-नाम पोर्टल से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओ की जानकारी प्रदान की गयी है।

पोर्टल का नाम ई-नाम (e-NAM) पोर्टल
उद्देश्य देश के किसानो को उपज विक्रय हेतु ऑनलाइन पोर्टल उपलब्ध करवाना
लांच किया गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा
लाभार्थी पूरे देश के किसान
वर्ष 2022
संचालित लघु कृषक कृषि व्यापार संघ (SFAC) के द्वारा
लाभ किसान ऑनलाइन माध्यम से अपनी उपज बेच सकेंगे
सम्बंधित विभाग कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार
आधिकारिक वेबसाइट https://enam.gov.in/
रजिस्ट्रेशन का माध्यम ऑनलाइन/ऑफलाइन

e-NAM Portal, उद्देश्य

किसानो द्वारा फसल के उत्पादन के बाद उनके सामने फसल को बेचने की समस्या होती है। हालांकि अधिकतर किसान एपीएमसी (APMC) मंडियों के माध्यम से अपनी फसल बेचते है परन्तु कई बार फसली मौसम में उपज के दाम कम हो जाते है ऐसे में किसानो को अपनी उपज का सही मूल्य नहीं मिल पाता। साथ ही सीमित खरीददार होने और मध्यस्थों के कारण भी किसानो को अपनी फसल का उचित दाम नहीं मिलता है और उन्हें अपनी फसल को कम दामों पर बेचकर आर्थिक हानि का सामना करना पड़ता है। इन सभी समस्याओ को दूर करने और उन्हें उपज का सही मूल्य दिलाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा ई-नाम e-NAM portal को लॉच किया गया है।

इस पोर्टल की शुरुआत प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी द्वारा 14 अप्रैल 2016 को की गयी थी। ई-नाम (e-NAM) पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को ऑनलाइन माध्यम से बेच सकते है और अपनी उपज का दाम भी ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त कर सकते है। इस पोर्टल की सहायता से केंद्र सरकार द्वारा देश की सभी एपीएमसी मंडियों को e-NAM पोर्टल के साथ जोड़ा गया है जिससे की किसानो को पूरे देश में अपनी उपज को बेचने का मौका मिले। साथ ही इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग को भी इस पोर्टल के माध्यम से बढ़ावा दिया जा सकेगा।

हरियाणा ई-खरीद ऑनलाइन पंजीकरण- ऐसे करें आवेदन

e-NAM portal पर ना सिर्फ किसानों बल्कि उपज के खरीददार व्यापारियों को भी रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है ताकि वे भी पोर्टल के माध्यम से अपनी मनचाही उपज को खरीद सके। e-NAM पोर्टल के माध्यम से देश के किसानों को पूरे देश के मार्केट का एक्सेस मिलता है जिससे की वे अपनी उपज को लाभ पर बेच सकते है साथ ही बाजार मूल्यों की जानकारी भी प्राप्त कर सकते है। इसके माध्यम से किसानो को अपनी उपज बेचने के लिए मध्यस्थों को पैसा नहीं देना पड़ेगा और वे अपनी उपज का पूरा लाभ खुद ही प्राप्त कर सकते है। इससे देश के कृषको की आय दुगुनी करने के लक्ष्य को पूरा करने के सहायता मिलेगी साथ ही कृषि में तकनीक के उपयोग को भी प्रोत्साहन मिलेगा।

e-NAM portal के 5 वर्ष पूरे

e-NAM portal को प्रधानमन्त्री मोदी के द्वारा 14 अप्रैल 2016 को लॉच किया गया था जो की 20 अप्रैल 2021 को लॉन्चिंग के 5 वर्ष पूरे कर चुका है। इस पोर्टल के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा किसानो को अपनी उपज को पूरे देश में बेचने की सुविधा प्रदान की गयी है जिसे की उन्हें देश के वृहद् बाजार का लाभ मिल सकेगा साथ ही वे उपज का बेहतर दाम प्राप्त करके कृषि में भी निवेश कर सकते है। इस पोर्टल के 5 वर्ष पूरे होने के मौके पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा पोर्टल के माध्यम से 3 नयी सुविधाओं का आरंभ किया गया है। अब किसान पोर्टल के माध्यम से ई-नाम मंडी जानकारी, सहकारी मॉड्यूल और मौसम पूर्वानुमान का लाभ भी प्राप्त कर सकते है। इन सुविधाओं का वर्णन इस प्रकार से है :-

  • ई-नाम मंडी जानकारी:- ई-नाम मंडी जानकारी के माध्यम से किसान बाजार की मांग एवं पूर्ति के हिसाब से उपज का वास्तविक मूल्य (real time price discovery) देख सकते है और अपनी फसल को अधिकतम लाभ पर बेचकर अपनी उपज का अधिकतम मूल्य प्राप्त कर सकते है।
  • सहकारी मॉड्यूल:- सहकारी मॉड्यूल के तहत कृषि उत्पादक सहकारी समितियाँ अपनी फसल को सीधे अपने गोदामों के माध्यम से ही विक्रय कर सकती है जिसके लिए उपज को मंडी ना लाकर सीधे क्रेता को बेचा जाता है। इससे कृषि सहकारी समितियों को लाभ होगा।
  • मौसम पूर्वानुमान सूचना:- किसानो को मौसम सम्बंधित पूर्वानुमान की जानकारी प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा पोर्टल के माध्यम से मौसम पूर्वानुमान सूचना की शुरुआत की गयी है। इसके माध्यम से किसान अपने APMC मंडी की जानकारी के साथ-साथ राज्य के विभिन भागों में मौसम सम्बंधित जानकारी भी प्राप्त कर सकेंगे जिससे की उन्हें फसल की बुवाई और कटाई सम्बंधित कार्यो में लाभ मिलेगा।

पोर्टल के लाभ

e-NAM portal के माध्यम से किसानो, व्यापारियों और नागरिको को लाभ होगा। इस पोर्टल के माध्यम से विभिन हितधारकों को होने वाले लाभ इस प्रकार है :-

  • e-NAM पोर्टल के माध्यम से देश के कृषि बाजार में एकरूपता आएगी जिससे की किसानो, व्यापारियों और उपभोक्ताओं को लाभ होगा।
  • पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसल को देश के किसी भी हिस्से में बेच सकता है और अपनी उपज का अधिकतम लाभ प्राप्त कर सकता है।
  • इस पोर्टल के माध्यम से व्यापारियों को भी रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है जिससे की वे बिना मध्यस्थों की मदद से सीधे किसान से फसल का प्रोक्यूर्मेंट कर सकते है।
  • पोर्टल के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा सभी APMC मंडियों को एक साथ जोड़ा गया है ताकि देश में इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग को बढ़ावा दिया जा सके। इससे किसान आसानी से उपज के लिए खरीददार ढूंढ सकेंगे।
  • किसानो को फसल का रियल-टाइम प्राइस देने के लिए भी पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन सुविधा प्रदान की गयी है।
  • e-NAM पोर्टल के माध्यम से अपनी फसल को बेचने पर किसान ऑनलाइन माध्यम से भुगतान अपने बैंक अकाउंट में प्राप्त कर सकेंगे।
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसानो को देश के विस्तृत कृषि बाजार तक पहुँच मिलेगी साथ ही वे बेहतर मूल्य भी प्राप्त कर सकेंगे।
  • पोर्टल के माध्यम से व्यापारी भी उपज की गुणवत्ता की जानकारी प्राप्त कर सकते है। साथ ही वे पोर्टल पर विविध प्रकार के खाद्यान को भी ऑनलाइन माध्यम से ख़रीद सकते है।
  • e-NAM पोर्टल पर फसलों को ई-बोली प्रक्रिया के द्वारा क्रय-विक्रय किया जाता है ऐसे में यह प्रक्रिया पूर्णतया पारदर्शी है।

e-NAM पोर्टल पर उपलब्ध कमोडिटीज

e-NAM portal पर सरकार द्वारा विभिन प्रकार के कृषि उत्पादों के व्यापार की सुविधा प्रदान की गयी है। पोर्टल पर उपलब्ध कृषि उत्पादों की सूची इस प्रकार है।

  • खाद्य अनाज/दालें (FOOD GRAINS/ CEREALS) – 26
  • तिलहन (OILSEEDS) – 14
  • फल (FRUITS) -31
  • सब्जियाँ (VEGETABLES) – 50
  • मसाले (SPICES) – 16
  • विभिन खाद्यान (MISC)- 38

ये है जरूरी दस्तावेज

e-NAM portal पर रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए आवेदकों के पास निम्न दस्तावेज होने जरुरी है।

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाणपत्र
  • बैंक अकाउंट की पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

इस पोर्टल के माध्यम से सरकार द्वारा किसानो, व्यापारियों और अन्य हितधारकों को रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है ऐसे में उन्हें सरकार द्वारा निर्धारित अन्य सम्बंधित दस्तावेज भी जमा करने आवश्यक होंगे।

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल, ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करे।

  • सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जायें। आपको कुछ इस तरह का इंटरफ़ेस प्रदर्शित होगा।
ई-नाम पोर्टल
  • होमपेज पर आपको Registration का ऑप्शन दिखाई देगा। इस पर क्लिक करें।
ई-नाम पोर्टल
  • इसके बाद आपके सामने योजना का आवेदन फॉर्म खुल जायेगा। इसमें मांगी गयी सभी जानकारियाँ दर्ज कर दे। साथ ही सभी जरुरी दस्तावेजों को अपलोड करके Submit के विकल्प पर क्लिक कर दे।
ई-नाम पोर्टल
  • सभी फॉर्मलिटीज पूरी करने के बाद आप आवेदन फॉर्म का प्रिंटआउट निकालकर भविष्य के लिए सुरक्षित कर ले।
  • इस प्रकार से आप पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

इन माध्यमों से भी कर सकते है रजिस्ट्रेशन

सरकार द्वारा ई-नाम (e-NAM) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए ई-नाम (e-NAM) मोबाइल एप्प भी लॉच किया गया है। मोबाइल एप्प की मदद से भी किसान ई-नाम (e-NAM) पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। आप चाहे तो अपनी नजदीकी APMC मंडी पर जाकर भी ई-नाम (e-NAM) पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है। इसके लिए मंडी समिति से सम्पर्क करके और अन्य फॉर्मलिटीज पूरी करके आप रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को पूरी कर सकते है।

समाम किसान पंजीकरण- ये है आवेदन प्रक्रिया

ये है लॉगिन की प्रक्रिया

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल पर लॉगिन करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करे।

  • सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट https://enam.gov.in/ पर जायें।
  • होमपेज पर आपको लॉगिन का ऑप्शन दिखाई देगा। इस पर क्लिक कर दे।
e-NAM portal login
  • इसके बाद अगले पेज पर यूजरनेम, पासवर्ड और लैंग्वेज चुन ले। साथ ही कैप्चा दर्ज करके लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक कर दे।
e-NAM portal login process
  • इस प्रकार से आप पोर्टल पर लॉगिन कर सकते है।

ई-नाम (e-NAM) मोबाइल App डाउनलोड करके की प्रक्रिया

ई-नाम (e-NAM) मोबाइल एप्प को डाउनलोड करने के लिए इन स्टेप्स को फ़ॉलो करे।

  • सबसे पहले अपने स्मार्टफोन में गूगल प्ले स्टोर/ IOS एप्प स्टोर को ओपन करे।
  • इसके बाद सर्च ऑप्शन पर क्लिक कर दे। सर्च में जाकर ई-नाम (e-NAM) मोबाइल App टाइप करे। इसके बाद सर्च के ऑप्शन पर क्लिक कर दे।
e-NAM Mobile App
e-NAM Mobile App
  • अब आपके सामने App की लिस्ट शो होने लगेगी। इसमें से सबसे ऊपर प्रदर्शित एप्प पर क्लिक करें।
  • इसके बाद आपके सामने इंस्टाल का ऑप्शन आएगा। इस पर क्लिक कर दे।
  • इस प्रकार से आप ई-नाम (e-NAM) मोबाइल एप्प को डाउनलोड कर सकते है।

पोर्टल पर उपलब्ध डैशबोर्ड देखने की प्रक्रिया

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल पर उपलब्ध डैशबोर्ड देखने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करे।

  • सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट https://enam.gov.in/ पर जायें।
e-NAM portal
  • होमपेज पर आपको Dashboard का ऑप्शन दिखाई देगा। इस पर क्लिक करें।
e-NAM portal Dashboard
  • इसके बाद आपके सामने निम्न सुविधाओं के लिए डैशबोर्ड देखने का ऑप्शन प्राप्त होगा:-
    • ट्रेडिंग डिटेल्स (Trading Details)
    • स्टेकहोल्डर डाटा (Stakeholder Data)
    • स्टेट यूनिफाइड लाइसेंस (State Unified License)
e-NAM portal Dashboard.
  • ई-नाम MIS (e-NAM MIS)
    • लाइव ट्रेड (Live Report)
    • नाम रिपोर्ट (NAM Report)
    • रेम्स प्राइस दिस्सेमेनशन (ReMS Price Dissemination)
    • एगमार्कनेट प्राइस डैशबोर्ड (Agmarknet Price Dashboard)
    • ई-नाम लाइव प्राइस इनफार्मेशन (e-NAM live Price Information)
    • ई-नाम वर्सेज एगमार्कनेट प्राइस डैशबोर्ड (e-NAM Vs Agmarknet Price Dashboard)
  • आप दिए गए ऑप्शन में से उपयुक्त ऑप्शन चुनकर क्लिक कर दे।
  • इसके बाद आपके सामने सम्बंधित विभाग से रिलेटेड डाटा शो होने लगेगा।
  • इस प्रकार से आप पोर्टल पर उपलब्ध विभिन प्रकार का डाटा चेक कर सकते है।

शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया

अगर आपको पोर्टल से सम्बंधित सुविधाओं के उपयोग में किसी प्रकार की असुविधा होती है तो आप पोर्टल के माध्यम से शिकायत भी दर्ज कर सकते है। पोर्टल पर शिकायत दर्ज करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करे।

  • सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट https://enam.gov.in/ पर जायें।
  • होमपेज पर आपको Contact Us का ऑप्शन दिखाई देगा। इस पर क्लिक करे।
e-NAM portal Contact Us
  • इसके बाद आपको Purpose to Contact Us में Grievance Redressal का विकल्प चुनना होगा। अब आप अपना नाम, मोबाइल नंबर, अड्रेस, सेन्डर ID चुनकर डिस्क्रिप्शन में अपनी शिकायत का विवरण दर्ज कर सकते है ।
e-NAM portal Grievance Redressel
  • साथ ही Email ID और कैप्चा दर्ज करके आप Submit के ऑप्शन पर क्लिक कर दे।
  • इस प्रकार से आप पोर्टल के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज कर सकते है।

ये सुविधायें भी है उपलब्ध

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल के माध्यम से सरकार द्वारा ना सिर्फ किसानो को बल्कि व्यापारियों और किसान उत्पादक संगठनो को भी रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है। इसके अतिरिक्त कृषक सहकारी संगठन और कृषि से जुड़े विभिन हितधारकों को भी रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है। किसान उत्पादक संगठनो को रजिस्ट्रेशन करने के लिए होमपेज पर FPOs के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद Register के ऑप्शन पर क्लिक करके और अन्य फॉर्मलिटीज पूरी करके आप FPOs रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को पूरी कर सकते है।

कृषक सहकारी संगठनो को रजिस्ट्रेशन करने के लिए होमपेज पर Co-operative के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद Register के ऑप्शन पर क्लिक करके और अन्य फॉर्मलिटीज पूरी करके रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को पूरा किया जा सकता है। साथ ही विभिन स्टेकहोल्डर को रजिस्ट्रेशन करने के लिए Stakeholders के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इसके बाद अन्य औपचारिकतायें पूरी करके वे रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को पूरा कर सकते है।

e-NAM portal से जुड़े सवालो के जवाब (FAQ)

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल क्या है ?

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग पोर्टल है। इसके माध्यम से किसान अपनी उपज को ऑनलाइन माध्यम से बेच सकते है। साथ ही कृषि क्षेत्र से जुड़े विभिन हितधारकों के लिए भी इसमें रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन दिया गया है।

इस पोर्टल के क्या लाभ है ?

ई-नाम (e-NAM) पोर्टल की सहायता से देश के कृषक रजिस्ट्रेशन के पश्चात अपनी फसल को ऑनलाइन माध्यम से बेच सकेंगे जिससे की उन्हें अधिक मुनाफा होगा। साथ ही व्यापारियो को भी सीधे कृषको से उपज खरीदने की सुविधा प्रदान की गयी है इससे व्यपारियो को भी मध्यस्थों को कमीशन नहीं देना पड़ेगा।

क्या कोई भी किसान पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकता है ?

हाँ। इस पोर्टल को केंद्र सरकार द्वारा शुरू किया गया है ऐसे में पूरे देश के किसान इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करके इस सुविधा का लाभ ले सकते है।

ई-नाम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया क्या है ?

इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए ऊपर दिया गया लेख पढ़े। इसमें बताये गए स्टेप्स को फॉलो करके आप पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है। साथ ही लेख के माध्यम से आप लॉगिन की प्रक्रिया भी जान पाएंगे।

पोर्टल पर उपलब्ध सेवाओं से रिलेटेड शिकायत के लिए क्या करें ?

अगर आपको पोर्टल पर उपलब्ध सेवाओं के यूज़ में किसी प्रकार की असुविधा होती है तो आप ऑनलाइन माध्यम से शिकायत दर्ज कर सकते है। इसके लिए आपको ऊपर दिए गए लेख में शिकायत दर्ज करने की प्रक्रिया का पालन करना होगा। इस प्रकार से आप सेवा सम्बंधित शिकायत दर्ज कर सकते है।

क्या व्यापारी भी इस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कर सकते है ?

हाँ। सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र से जुड़े विभिन हितधारकों को पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है। व्यापारी भी पोर्टल के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर सकते है। इसके अतिरिक्त कृषक उत्पादक समूहों और कृषक सहकारी समूहों को भी रजिस्ट्रेशन की सुविधा प्रदान की गयी है।

Leave a Comment