नेशनल डॉक्टर्स डे 2022 इतिहास, निबंध, नारे | National Doctors Day History, Slogans, Quotes In Hindi

इस धरती पर अगर किसी को भगवान का दूसरा रूप माना जाता है तो वह है डॉक्टर। डॉक्टर ना सिर्फ हमारी बीमारियों को दूर करने में हमारी सहायता करते है अपितु मुश्किल समय में हमे भावनात्मक सहारा देकर हमारे जीवन को सुरक्षित रखते है। कहा जाता है की भगवान के हाथ में ही मनुष्य के जीवन-मौत का फैसला होता है परन्तु डॉक्टरों ने कई बार अपनी कार्यकुशलता से मनुष्य को मौत के मुँह से बचाया है ऐसे में इन्हे भगवान का दर्जा दिया जाना उचित ही प्रतीत होता है। समय के साथ-साथ चिकित्सा विज्ञान में भी तरक्की हुयी है जिससे की डॉक्टरों द्वारा गंभीर से गंभीर बीमारियो का इलाज संभव हुआ है। हमारे लिए डॉक्टरों की सेवा, लगन, निष्ठा, ईमानदारी, समर्पण और कर्त्तव्यनिष्ठा को सलाम करने के लिए प्रतिवर्ष डॉक्टर्स डे मनाया जाता है।

इस दिन डॉक्टरो के प्रति आदर और सम्मान व्यक्त करने के लिए विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम से आपको नेशनल डॉक्टर्स डे 2022 इतिहास, निबंध, नारे (National Doctors Day History, Slogans, Quotes In Hindi) सम्बंधित जानकारी प्रदान की गयी है।

नेशनल डॉक्टर्स डे
National Doctors Day History, Slogans, Quotes In Hindi

नेशनल डॉक्टर्स डे (National Doctors Day)

हमारे जीवन में चिकित्सकों के महत्व से आप सभी भली भांति परिचित होंगे। वर्ष के 365 दिनों बिना रुके बिना थके मानव जीवन की सेवा करने वाले डॉक्टरों को सम्मान देने एवं उनके कार्य के प्रति अपना आभार जताने के लिए प्रतिवर्ष डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। इस दिन नागरिको, सरकार और विभिन संस्थाओ द्वारा डॉक्टरों के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने और डॉक्टर की सेवाओं के लिए धन्यवाद देने के लिए विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। यह दिन डॉक्टरों की सेवाओं एवं समर्पण के लिए उन्हें सम्मान देने का मौका होता है।

हालांकि विभिन देशो में डॉक्टर्स डे अलग-अलग तारीख को मनाया जाता है जिसका कारण अलग-अलग देशो द्वारा अपने देश के सम्मानित एवं प्रतिष्ठित डॉक्टर को श्रद्धांजलि देना होता है। प्रायः देशो द्वारा अपने देश के ऐसे प्रतिष्ठित डॉक्टर के जन्मदिवस पर डॉक्टर दिवस मनाया जाता है जिसका उस देश के नागरिको की सेवा में अमूल्य योगदान रहा है। हमारे देश भारत में यह प्रतिष्ठित समाजसेवी डॉक्टर डॉ बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में मनाया जाता है।

डॉक्टर्स डे 2022 (Doctors Day 2022)

इस वर्ष डॉक्टर्स डे का आयोजन 1 जुलाई 2022 को किया जायेगा। इस दिन महान प्रतिभा के धनी डॉक्टर डॉ बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में देश के डॉक्टरों को उनके कार्यो के लिए सम्मान प्रदान किया जायेगा।

डॉक्टर्स डे विषयवस्तु 2022 (Doctors Day 2022 Theme)

हर वर्ष डॉक्टर्स डे को मनाने के लिए एक मुख्य विषयवस्तु का चुनाव किया जाता है जिसके आधार पर डॉक्टर्स डे कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। हालांकि अभी तक सरकार द्वारा इस वर्ष की डॉक्टर्स डे विषयवस्तु 2022 (Doctors Day 2022 Theme) घोषित नहीं की गयी है। जैसे ही डॉक्टर्स डे की थीम घोषित की जाती है आपको सम्बंधित आर्टिकल के माध्यम से सूचना प्रदान की जाएगी।

भारत में डॉक्टर्स डे इतिहास (Doctors Day History in India)

हर देश में डॉक्टर्स डे को अलग-अलग तारीख को मनाया जाता है। इसका कारण अलग-अलग देशो में अलग-अलग शख्सियतो की याद में इस दिन को मनाना है। ऐसे में यह जानना आवश्यक है की हमारे देश भारत में डॉक्टर्स डे इतिहास का इतिहास क्या है और यह किस महान शख्सियत की स्मृति में मनाया जाता है।

हमारे देश में डॉक्टर्स डे को महान व्यक्तित्व के धनी डॉक्टर डॉ बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में मनाया जाता है। इसे मनाने की शुरुआत वर्ष 1991 से हुयी थी जिसके पश्चात हर वर्ष देश में 1 जुलाई को डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। डॉक्टरों के कार्य के प्रति सम्मान प्रदर्शित करने और उन्हें आदर प्रदान करने के लिए वर्ष 1991 से प्रति वर्ष 1 जुलाई को चिकित्सा दिवस मनाने का फैसला लिया गया था जिसके पश्चात प्रति वर्ष डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है। भारत की पारंपरिक चिकित्सा परंपरा को बढ़ावा देने के लिए दिन विभिन कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है।

महान डॉक्टर, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, देशभक्त और अद्भुत प्रतिभा के धनी डॉ बिधान चंद्र रॉय का जन्म 1 जुलाई 1882 को पटना के बांकीपोर नामक स्थान पर हुआ था। अपनी प्रारंभिक शिक्षा के पश्चात इन्होने गणित में स्नातक की डिग्री ली एवं इसके पश्चात कलकत्ता मेडिकल कॉलेज से मेडिकल स्नातक किया। उच्च शिक्षा के लिए ये 1911 में लंदन गए जहाँ इन्होने आरसीपी और एफआरसीपी डिग्री के पश्चात स्वदेश सेवा को प्राथमिकता दी। वे एक प्रसिद्ध चिकित्सक होने के साथ-साथ स्वतंत्र संग्राम सेनानी भी जिन्होंने गांधीजी के आंदोलनों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। वे गांधीजी के प्रिय मित्र और डॉक्टर थे जो 1933 के स्वतंत्रता संग्राम अनशन के दौरान गांधीजी के साथ रहे एवं स्वतंत्रता के बाद बंगाल के दूसरे मुख्यमंत्री बने।

डॉ बिधान चंद्र रॉय की स्मृति एवं सम्मान में प्रतिवर्ष 1 जुलाई को देश में डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है। उनके द्वारा किये गए कार्यो, देश हित में डॉक्टर बिधान चंद्र रॉय की सेवा एवं स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान के लिए पूरे देश में डॉक्टर्स डे के माध्यम से विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

दुनिया में डॉक्टर्स डे का इतिहास

दुनिया के विभिन हिस्सों में अलग-अलग विभूतियों की स्मृति में डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है। चलिए एक नजर डालते है दुनिया में डॉक्टर्स डे के इतिहास और इसे मनाने के पीछे के कारणों पर :-

  • अमेरिका – संयुक्त राज्य अमेरिका में डॉक्टर्स डे का आयोजन प्रतिवर्ष 30 मार्च को किया जाता है। अमरीका के डॉ चार्ल्स बी. आलमंड एवं उनकी धर्मपत्नी यूडोरा ब्राउन आलमंड के मन में सर्वप्रथम इस दिन को मनाने का विचार आया था जिसके पश्चात हर वर्ष 30 मार्च को अमेरिका में डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। इस दिन अमेरिका में पेशेवर डॉक्टरो को मान्यता प्रदान की जाती है साथ ही सर्जरी के इतिहास में इस दिन सर्वप्रथम एनेस्थीसिया का उपयोग किया गया। जेम्स वेनेबल नामक पेशेंट को बेहोश करने के लिए डॉ क्रावफोर्ड लॉन्ग द्वारा ईथर के उपयोग से दर्दरहित सर्जरी को अंजाम दिया गया था।
  • ब्राज़ील – कैथोलिक चर्च सेंट ल्यूक की स्मृति में डॉक्टरों को सम्मान देने के लिए प्रतिवर्ष ब्राजील में 18 अक्टूबर को डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। इस दिन सेंट ल्यूक के कार्यो के लिए उन्हें याद किया जाता है और डॉक्टरों का सम्मान किया जाता है।
  • वियतनाम– डॉक्टरों के योगदान हेतु आभार व्यक्त करने के लिए वियतनाम में प्रतिवर्ष 28 फरवरी को मनाया जाता है। इसकी शुरुआत वर्ष 1955 से की गयी थी जिसके पश्चात इसे हर वर्ष मनाया जा रहा है। इस वर्ष वियतनाम में डॉक्टर्स डे 27 फरवरी को मनाया जा रहा है।
  • ईरान – ईरान के इतिहास में अपना अमूल्य योगदान देने के लिए डॉक्टर एविसेना की स्मृति में प्रतिवर्ष 23 अगस्त को डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है। इसके माध्यम से डॉक्टर एविसेना द्वारा किया गए कार्यो को याद किया जाता है और पूरे देश में डॉक्टरों का सम्मान किया जाता है।
  • क्यूबा – चिकित्सा सुविधाओं के लिए प्रसिद्ध क्यूबा में प्रतिवर्ष 3 दिसंबर को डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। यह दिन क्यूबा के महान डॉक्टर कार्लोस जुआन फिनले की स्मृति में मनाया जाता है जिन्होंने येलो फीवर के इलाज की दिशा में अनुसन्धान किये थे।

डॉक्टर्स डे नारे (World Doctors Day Slogans)

डॉक्टर्स डे के कुछ प्रमुख नारे इस प्रकार से है :-

  • जीवन से प्यार करना एक डॉक्टर ही सीखा देते है।
  • बीमारी का निदान अंत नहीं है बल्कि अभ्यास की शुरुआत है.
  • एक अच्छा डॉक्टर दवा कम, ख्याल ज्यादा रखने की सलाह देता है।
  • वह व्यक्ति डॉक्टर नहीं हो सकता, जो खुद ही बीमार हो।
  • माता पिता के बाद हमारे जीवन की देखभाल डॉक्टर ही करते है।
  • संसार में डॉक्टर ही हैं जिसे मनुष्य आस भरी नजरो से देखता है, जैसे वो एक भगवान से दुआ कर रहा हो।
  • जब आप एक बीमारी का इलाज करते है, तो सबसे पहले मन का इलाज करते है।
  • स्वास्थ्य लाभ में दवाई ही हमेशा जरुरी नहीं होती है, इसके लिए विश्वास भी जरुरी होता है।

चिकित्सा दिवस सुविचार एवं अनमोल वचन (World Doctors Day Quotes)

डॉक्टर्स डे पर इन कोट्स के माध्यम से आप डॉक्टर को उनकी सेवाओं के लिए धन्यवाद दे सकते है।

  • निदान (Diagnosis) अंत नही है, लेकिन अभ्यास की शुरुआत है।
  • दवाओं में संदेह, बीमारियों के रूप में भय पैदा करता है।
  • जब आप एक बीमारी का इलाज करते है, तो पहले मन का इलाज करते है।
  • जब एक बीमारी के लिए बहुत से उपचार का सुझाव दिया जाता है तो इसका मतलब यह है कि उसे ठीक नहीं किया जा सकता है।
  • दवाओं के बारे में सबसे खराब बात यह है कि एक प्रकार की दवा एक के अलावा अन्य और जरुरतें बनाती है।
  • रोग कक्ष में, मनुष्य समझ की कीमत 10 सिक्के और चिकित्सा विज्ञान की कीमत 10 डॉलर के बराबर है।
  • डॉक्टर अपने मरीजों के लिए अपारदर्शी (Opaque) और दर्पण (Mirror) की तरह होना चाहिए, लेकिन उसे क्या दिखाया गया है यह उन्हें कभी भी नहीं दिखाना चाहिए।
  • एक चिकित्सक, एक रोग वाले अंग की तुलना में अधिक विचार करने के लिए बाध्य है, यहाँ तक कि पूरे आदमी की तुलना में और अधिक है – उसे अपनी दुनिया में उस आदमी को ही देखना चाहिए।
  • एक अच्छा चिकित्सक बीमारी का इलाज करता है, जबकि एक महान चिकित्सक उस मरीज का इलाज करता है जोकि बीमार है.
  • जीवन केवल एक होता है दूसरों के लिए यह जीवन उपयुक्त है।
  • बहुत अच्छे चिकित्सक है जो आशा के लिए सबसे सरल प्रेरक है।
  • जब हम अपने सारी उम्मीदें खो देते है तब हमारे जीवन में स्वास्थ्य लाने के लिए और वहाँ हमारा साथ देने के लिए केवल डॉक्टर के पास ही उस जीवन के इलाज के लिए जादुई शक्ति होती है।
  • एक डॉक्टर, देखने के लिए आँख और मानव जाति में कमज़ोरी के लिए इलाज प्रदान करता है. वह एक है जो हमें उम्मीद दे सकता है जब हम कष्ट में हों।
  • आदमी को स्वस्थ कर देने की तुलना में भगवान के करीब जाने वाले रास्ते में आदमी ज्यादा कुछ भी नहीं कर पाता है।  
  • इलाज के उद्देश्य के लिए शरीर और आत्मा अलग – अलग नहीं हो सकती है, वे एक और अकेले है. “बीमार शरीर के रूप में मन को ठीक किया जाना चाहिए।
  • एक आदमी की उसकी बीमारी के खिलाफ इच्छा को बनाये रखना दवा की सबसे उत्तम कला है।
  • दवाओं की कला में रोगी का मनोरंजन होता है जबकि प्रकृति बीमारी को दूर कर देती है।
  • चिकित्सा, कभी – कभी स्वास्थ्य छीन लेती है और कभी – कभी स्वस्थ कर देती है।
  • नर्स भी एक डॉक्टर के पर्चे के बिना सुविधा, सहानुभूति और देखभाल नहीं दे सकती।
  • केवल चिकित्सा की कला ही खुद का नाम बनाने के लिए सक्षम होती है, और उसी समय दूसरों को लाभ भी देती है.
  • एक सच्चे डॉक्टर के निशान अस्पष्ट है।
  • जहाँ कहीं भी दवा की कला को प्यार किया जाता है, वहाँ मानवता को भी प्यार किया जाता है।

चिकित्सा दिवस निबंध (World Doctors Day Essay)

जिस तरह मंदिर मे भगवान होते है, उसी तरह अस्पताल में चिकित्सक ही हमारे भगवान होते है…!!

उपयुर्क्त पंक्तियों में डॉक्टर की तुलना भगवान से की गयी है। वास्तव में धरती पर जीवनदायक डॉक्टर को भगवान का दूत मानना अतिश्योक्ति नहीं है। हर समय मानव सेवा में तत्पर रहने वाले डॉक्टरों को सम्मान देने के लिए प्रतिवर्ष डॉक्टर्स डे मनाया जाता है। इस दिन डॉक्टर्स को सम्मान देने के लिए सरकार और अन्य संस्थानों द्वारा विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है जिसके माध्यम से डॉक्टरों के प्रति आदर भाव व्यक्त किया जाता है। डॉक्टर हमे बीमारियों के मुश्किल समय में अपने ज्ञान से स्वस्थ करते है साथ ही वे हमे भावनात्मक सहारा भी देते है जिससे की हम डॉक्टरों को भगवान का दूसरा रूप मानते है। डॉक्टरो द्वारा पूरे वर्ष बिना किसी स्वार्थ के मरीज का स्वास्थ्य सुधार ही प्रमुख धर्म रहता है जिसके लिए वे दिन रात मेहनत करते है। अपनी सुख-सुविधाओं से ऊपर मानव स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए वे निरंतर बिना थके अपना कार्य करते है।

डॉक्टरों की सेवाओं के प्रति आभार प्रकट करने के लिए पूरी दुनिया में अलग-अलग तिथियों को डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है। इस दिन डॉक्टरों की सेवाओं के लिए सरकार, संस्थाओं, नागरिको एवं पेशेंट के द्वारा डॉक्टर को अपने-अपने तरीके से सम्मान दिया जाता है। वास्तव में डॉक्टर ही हमारे वास्तविक हीरो हो जो हमारे जीवन को स्वस्थ रखने के लिए निस्वार्थ भाव से सेवा करते है। डॉक्टर्स डे पर हमे डॉक्टरों की सेवाओं के लिए आभार प्रकट करते हुए उनके योगदान की सराहना करनी चाहिए।

डॉक्टर्स डे सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

डॉक्टर्स डे क्यों मनाया जाता है ?

डॉक्टर्स डे का आयोजन डाक्टरों की सेवाओं के लिए उनके प्रति आदर और सम्मान प्रकट करने के भाव से हर वर्ष आयोजित किया जाता है। इसे अलग-अलग देशो में अलग-अलग तारीख को मनाया जाता है।

डॉक्टर्स डे कब मनाया जाता है ?

अलग-अलग देशो में डॉक्टर्स डे का आयोजन अलग-अलग तारीख को किया जाता है।

भारत में डॉक्टर्स डे कब मनाया जाता है ?

भारत में डॉक्टर्स डे प्रतिवर्ष 1 जुलाई को मनाया जाता है। यह दिवस महान डॉक्टर, शिक्षाविद और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में मनाया जाता है।

वर्ष 2022 में डॉक्टर्स डे कब है ?

वर्ष 2022 में डॉक्टर्स डे 1 जुलाई 2022 को है।

हमारे देश में डॉक्टर्स डे किस शख्सियत की याद में मनाया जाता है ?

हमारे देश में डॉक्टर्स डे डॉ. बिधान चंद्र रॉय की स्मृति में मनाया जाता है जो की महान डॉक्टर, शिक्षाविद और मानवतावादी थे। इन्होने महात्मा गाँधी के साथ स्वतंत्रता संग्राम आंदोलनों में भी भाग लिया था। डॉ. बिधान चंद्र रॉय के देश एवं मानव हित में दिए गए योगदानो को याद करने के लिए प्रतिवर्ष देश में डॉक्टर्स डे का आयोजन किया जाता है।

दुनिया में सबसे पहले डॉक्टर्स डे कब मनाया गया था ?

दुनिया में सबसे पहले डॉक्टर्स डे वर्ष 1933 को अमेरिका के जॉर्जिया राज्य में मनाया गया था।

Leave a Comment