कंप्यूटर वायरस इतिहास व बचने के उपाय | Computer Virus kya hai In Hindi (prakar)

तो दोस्तों आप सभी कंप्यूटर के बारे में जानते होंगे। आज के समय में लगभग हर किसी व्यक्ति के घर में आपको कंप्यूटर देखने को मिल जाएगा। आज के समय में कंप्यूटर लोगो की आवश्यकता बन चूका हैं। क्योंकि इसकी मदद से बहुत से काम जो की घंटों के होते है वो भी मिंटो में हो जाते हैं पर जब भी किसी भी चीज का अधिक उपयोग होता हैं तो उसमे कुछ न कुछ समस्याएँ आने लगती हैं और कुछ न कुछ खराब होने लगता हैं और कंप्यूटर को ख़राब करने वाली सबसे बड़ी समस्या होती है वायरस जब भी किसी कंप्यूटर में वायरस वह उसको खराब कर देता हैं तो दोस्तों क्या आप वायरस के बारे में जानते हो अगर नहीं तो आप निश्चिंत हो जाइये क्योंकि आज हम आपको इस लेख के माध्यम से कंप्यूटर वायरस के बारे में बहुत सी आवश्यक जानकारी प्रदान करेंगे जैसे की – कम्यूटर वायरस का इतिहास और Computer Virus से बचने के उपाय आदि जैसी बहुत सी जानकारी

 Computer Virus kya hai
Computer Virus kya hai

तो दोस्तों अगर आप भी Computer Virus से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको हमारे लेख को अंत तक एवं ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा तब ही आप इससे सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे

इसपर भी गौर करें :- कंप्यूटर का फुल फॉर्म

कंप्यूटर वायरस क्या हैं ?

कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का प्रोग्राम हैं जो की कंप्यूटर को खराब कर देता हैं इससे कंप्यूटर में बहुत सी कमियां आने लगती हैं और आपका कंप्यूटर ठीक से कार्य नहीं करता हैं। यह धीरे धीरे आपके कंप्यूटर को अंदर से नष्ट करता चला जाता हैं। Computer Virus बिना किसी अनुमति के आपके कंप्यूटर के डाटा को भी हानि पहुंचाता हैं। इसको Malware और Adware के नाम से भी जाना जाता हैं। यह धीरे धीरे कार्य करता हैं और आपको पता लगे बिना ही आपके कंप्यूटर को संक्रमित करता हैं। Computer Virus एक दूसरे में फैलता भी है अगर आप किसी और डिवाइस से कुछ ले रहे और और उस डिवाइस में वायरस हो तो उस डिवाइस से वायरस दूसरे कंप्यूटर में भी जा सकता हैं।

Computer Virus का इतिहास

इंटरनेट पर आने वाला सबसे पहले वायरस का नाम क्रीपर था इसको ARPANET पर खोजा गया था और यह 1970 में आया था। इस वायरस को Bob Thomas के द्वारा बनाया गया था। और यह वायरस TENEX ऑपरेटिंग सीसैटेम के द्वारा फैला गया था। यह वायरस कंप्यूटर को नियनट्रीट करने के लिए किसी भी मॉडम का उपयोग कर सकता था। यह कंप्यूटर में एक मैसेज भी भेजता था जो की था “मैं क्रीपर हूँ; अगर पकड़ सकते हो तो मुझे पकडो”

इस क्रीपर के बारे में एक अफवाह भी फैल गयी थी जो की यह थी की एक प्रोग्राम है रीपर जो की इस बाद कंप्यूटर में आता था और वह क्रीपर की कॉपी बनता था और उन सभी को हटा भी देता था। यह बात बॉब थॉमस जो की क्रीपर के निर्माता थे उनके द्वारा खेद पत्र में लिखी गयी थी।

Computer Virus के प्रकार

Computer Virus के बहुत से प्रकार होते हैं जिनमे से कुछ के बारे में हमने यहाँ पर जानकारी प्रदान की गयी हैं तो अगर आप भी Computer Virus के प्रकार के बारे में जानना चाहते हैं। तो ध्यानपूर्वक पढ़े

  1. Directory Virus – यह वायरस बाकि वायरस से बहुत अलग होता हैं क्योंकि इस प्रकार का वायरस आपकी किसी भी फाइल की Location और Path को खुद से बदल देता हैं और उसको कही और पंहुचा देता हैं।
  2. Macro Virus – यह भी बहुत ही अजीब सा वायरस हैं यह वायरस खुद से आपके माउस और बटन की स्पीड को बदलता हैं कभी यह उनकी स्पीड को स्लो कर देता हैं और कभी ताज करदेता हैं।
  3. File Infectors – यह वायरस भी काफी खतरनाक वायरस हैं क्योंकि यह वायरस आपकी सीधा आपकी running फाइल पर पढता हैं यह कभी कभी उसको नष्ट भी कर देता हैं जिससे की आपका सभी कार्य नष्ट हो जाता हैं।
  4. Boot Virus – यह वायरस भी बहुत खतरनाक वायरस हैं क्योंकि यह वायरस आपके डिवाइस के फ्लॉपी डिस्क और हार्ड ड्राइव पर असर करता हैं और यह वायरस उनको चलने से रोक देता हैं।
  5. Browser Highjack Virus – यह वायरस भी बहुत ही अलग किस्म का वायरस हैं क्योंकि यह वायरस किसी भी वेबसाइट या फिर एप्लीकेशन और गेम की जरिये खुद ही आपके डिवाइस में आ जाता है और आपके बाकी फाइल्स की स्पीड को स्लो कर देता हैं यह वायरस आज के समय में फैला हुआ हैं।
  6. Resident Virus – इस प्रकार का वायरस सीधा आपके डिवाइस की RAM पर असर डालता हैं और यह आपके डिवाइस को शट डाउन करने में,कॉपी करने में प्रॉब्लम करता हैं।
  7. Overwrite Virus – यह वायरस भी बहुत खतरनाक वायरस होता हैं यह वायरस आपके डिवाइस की ओरिजिनल फाइल पर असर करता हैं और यह उसके डाटा को मिटा देता हैं।
  8. Direct Action Virus – यह वायरस आपके डिवाइस के हार्ड ड्राइव रूट डायरेक्टरी में होता हैं और यह वायरस आपके फाइल या फिर फोल्डर को डिलीट कर देता हैं।

कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

  1. वायरस से बचने का मुख्य उपाय यह है की आपको उसके लिए अपने कंप्यूटर में कोई अच्छा Anti virus डालना होगा ताकि वो वायरस को हटा सकें।
  2. अपने एंटी वायरस को ठीक समय पर अपडेट करते रहे।
  3. जब भी आप अपने डिवाइस को किसी मोबाइल या फिर पेन ड्राइव से कनेक्ट करे तो उसके बाद अपने डिवाइस को स्कैन करें।
  4. अगर आप कभी कुछ डाउनलोड कर रहे हैं तो ध्यान रखे की registerd वेबसाइट से ही डाउनलोड करें
  5. आपको अपने डिवाइस का सारा डाटा सेव करना होगा ताकि कुछ समय के बाद आप अपने डिवाइस को फॉर्मेट कर सकें।

कंप्यूटर वायरस से सम्बंधित प्रश्न

कंप्यूटर वायरस क्या हैं ?

कंप्यूटर वायरस एक प्रकार का प्रोग्राम हैं जो की कंप्यूटर को खराब कर देता हैं इससे कंप्यूटर में बहुत सी कमियां आने लगती हैं और आपका कंप्यूटर ठीक से कार्य नहीं करता हैं। यह धीरे धीरे आपके कंप्यूटर को अंदर से नष्ट करता चला जाता हैं।

सबसे पहले वायरस का नाम क्या था ?

सबसे पहले वायरस का नाम क्रीपर था।

कंप्यूटर वायरस की शुरुआत कब हुई थी ?

कंप्यूटर वायरस की शुरुआत 1970 के दशक में हुई थी।

क्रीपर वायरस को किसने डेवेलोप किया था ?

क्रीपर वायरस बॉब थॉमस ने डेवेलोप किया था।

Leave a Comment