CA Kya Hai – CA का फुल फॉर्म व सीए कैसे बने की पूरी जानकारी।

तो दोस्तों आप सभी लोगो ने CA के बारे में तो सुना ही होगा। बल्कि कई लोग तो ऐसे भी होंगे की वह बड़े होकर या फिर उनका सपना ही CA बनना है। CA कोई नौकरी नहीं है यह तो एक प्रकार का प्रोफेशन है जिसको लोग बड़े ही चाह के साथ करना चाहते है। पर CA बनना हर किसी के बस की बात नहीं है इसके लिए खूब म्हणत करनी पढ़ती है। तो क्या आप जानते है की CA कैसे बनते हैं अगर नहीं तो आप बिलकुल भी चिंतित मत होइए क्योंकि आज हम आपको इस लेख के माध्यम से CA से सम्बंधित बहुत सी आवश्यक जानकारी प्रदान करने वाले हैं हैं जैसे की- CA Kya Hai? CA की फुल फॉर्म क्या है? CA कैसे बनाते हैं? CA बनने के लिए क्या क्या पढाई करनी पढ़ती है और कौन कौन से एग्जाम देने पढ़ते है

CA Kya Hai : CA का फुल फॉर्म क्या है
CA Kya Hai : क्या है CA का फुल फॉर्म

तो अगर आप भी CA के बारे में यह सब जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको हमारे इस लेख को बड़े ही ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा क्योंकि इस में होने CA से सम्बंधित जानकारी विस्तारपूर्वक बताई है।

इसको भी अवश्य पढ़े :- डीजीपी का मतलब क्या होता है ?

CA की full form क्या है ?

CA full form in english – Charted Accountant
CA फुल फॉर्म हिंदी में – चार्टेड अकाउंटेंट

CA Kya Hai ? What Is CA

जैसा की आप को पता है की CA को चार्टेड अकाउंटेंट बोलते है। तो यह एक प्रकार का प्रोफेशन है जिसको लोग बहुत पसंद करते हैं। CA का कार्य होता है लोगो का financial (वित्तीय) सलाह देना। और तो और यह लोगो का वित्तीय लेखा जोखा तैयार करने का भी कार्य करते है। यह लोगो की अकाउंट को भी जांचते है और लोगो के टैक्स का भी हिसाब रखते है और भरते भी है। यह लोगो का GST भी भरते है और उसका return भी फाइल करते हैं। इनका सब कार्य बैंकिंग, टैक्स, एकाउंट्स, इन सभी से सम्बंधित होता है। CA को सबसे अधिक सैलरी वाली नौकरी में से एक भी माना जाता है। और CA बनने के लिए बहुत मेहनत करनी पढ़ती है। और CA बनने के लिए डिग्री लेनी होती है।

तो अगर आप भी CA बनना चाहते है तो आप भी CA बन सकते हैं उसके लिए आपको इसको कोर्स करना होगा। CA का कोर्स 5 वर्ष का होता है। अगर आपको CA बनना है तो उसके लिए आवश्यक यह भी है की आपकी 12वी कक्षा में 50-60 % होनी चाहिए। तो दोस्तों अगर आप भी CA बनना चाहते है और आप CA बनने के लिए जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया करके इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़िए क्योंकि इस लेख में हमने CA से सम्बंधित बहुत सी जानकारी प्रदान की जिससे आपको मदद मिलेगी।

Overview of CA

आर्टिकल का विषय CA (चार्टेड अकाउंटेंट) Kya Hai
CA बनने की योग्यता कम से कम व्यक्ति को 12 कक्षा पास होनी चाहिए 50-60%के साथ
एडमिशन प्रवेश परीक्षा (Entrance Exam)
परीक्षा के स्तर 3 स्तर (CA Foundation, CA IPCC, CA Final.)
औसत सालाना वेतन 7 Lakh – 20 lakh
नौकरी के पद Accountants, Accounting Managers, Auditing Experts, Taxation Experts etc.
CA Kya Hai और उसकी फुल फॉर्म क्या है

CA बनने के लिए कोर्स के स्तर

CA बनने के लिए आपको 3 स्तर पार करने होते है तब जाकर आप CA बनते हो। तो CA बनने के 3 स्तर कुछ इस प्रकार हैं। आपको इन सभी स्तरों की सभी परीक्षाओं को पार करना होगा तभी आप CA बन सकते हो।

  1. CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test)
  2. CA IPCC (Integrated Professional Competence Course)
  3. CA Final

CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test)

CA Foundation बनने के लिए सबसे पहला स्तर होता है। CA Foundation एक प्रकार से यह CA बनने की प्रवेश परीक्षा है। अगर आप इस परीक्षा को पास करोगे तब ही आप CA बनने का पहला चरण पार कर सकोगे। CA Foundation को पहले CPT (Common Proficiency Test) के नाम से भी जाना जाता था। इस प्रवेश परीक्षा को कोई भी व्यक्ति जो की CA बनना चाहता है वह इस परीक्षा को 12वी कक्षा पास करने के बाद भी दे सकता है। इस परीक्षा को दो भाग में बांटा गया है। और दोनों भाग के लिए व्यक्ति को 4 घंटे का समय दिया जाता है। Common Proficiency Test की परीक्षा में ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते है।

जिन विद्यार्थियों के 12वी कक्षा में 55%से अधिक आये हो केवल वह ही इस परीक्षा को दे सकता है। Common Proficiency Test बदलकर इसका नाम CA फाउंडेशन रखा है और इस परीक्षा को पहले के मुक़ाबले कठिन भी किया गया हैं। इस परीक्षा में चार सब्जेक्ट होते हैं जो की कुछ इस प्रकार हैं

  1. Principles and Practices of Accounting
  2. Business Law and Business Correspondence and Reporting
  3. Business Mathematics and Logical Reasoning and Statistics
  4. Business Economics and Business and Commercial Knowledge

CA IPCC (Integrated Professional Competence Course)

CA IPCC बनने के दूसरा चरण है। IPCC की फुल फॉर्म होती है – Integrated Professional Competence Course .इस परीक्षा को साल में दो बार आयोजित किया जाता है। इस परीक्षा को भी दो भागो में बांटा गया है। इसके पहले भाग में 4 विषय होते हैं और दूसरे भाग में 3 विषय होते हैं। इस परीक्षा को केवल वह ही विद्यार्थी दे सकता है जिसके ग्रेजुएशन (Commerce) में कम से कम 55-60% तक आये हो। इस परीक्षा को भी कठिन बताया जाता है। इस परीक्षा के लिए आवेदन भी किया जाता है और जिस विद्यार्थी का चुनाव इसमें हो जाता है उस विद्यार्थी की पुस्तके उस विद्यार्थी के पते पर डाक के द्वारा भेज दी जाती हैं।

जैसा की हमने आपको बताया की इस परीक्षा में 2 भाग होते हैं और पहले भाग में 4 शिष्य होते हैं और दूसरे भाग में 3 विषय होते हैं जिनके नाम कुछ इस प्रकार हैं।

पहला भाग –

  • Accounting
  • Taxation
  • Law, Ethics and Communication
  • Cost Accounting and Financial Management

दूसर भाग –

  • Advanced Accounting
  • Auditing and Assurance
  • Information Technology and Strategic Management

CA Final

CA Final बनने के लिए उसका आखरी स्तर है। आप यह भी समझ सकते है की अगर आप इस स्तर तक पहुंच चुके है तो आप CA बनने के बहुत ही करीब है। CA बनने के इस स्तर पर विद्यार्थियों को प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी दी जाती है। इस परीक्षा यानि के CA Final की परीक्षा को भी दो भागों में बांटा गया है। और इस परीक्षा के दोनों भागो में 4 परीक्षा यानि के टोटल 8 परीक्षाएं आयोजित की जाती है। इस परीक्षा का परिणाम 2 महीने के बाद आता है। इस परीक्षा में आपको 8 परीक्षाओं में से करीब 40% लाने आवश्यक हैं है और सभी 8 परीक्षाओं को मिलकर आपकी कम से कम 50%तो आने आवश्यक ही है।

यह परीक्षा भी बहुत कठिन होती हैं। इस परीक्षा में हर परिस्कह में 3 घंटे का वक़्त दिया जाट है। परीक्षा को केवल वह ही व्यक्ति दे सकता है जिसने CA का मध्य स्तर पार कर लिया हो और जिसने 2.5 वर्ष की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग भी ले रखी हो। यह परीक्षा भी साल में दो बार आयोजित की जाती है। जैसा की हमने आपको बताया की इस परीक्षा को दो भागो में बांटा गया है और दोनों भाग में चार चार परीक्षा ली जाती है।

पहला भाग –

Paper-1: Financial Reporting
Paper-2: Strategic Financial Management
Paper-3: Advanced Auditing and Professional Ethics
Paper-4: Corporate and Economic Laws

दूसरा भाग –

Paper-5: Strategic Cost Management and Performance Evaluation
Paper-6A: Risk Management
Paper-6B: Financial Services and Capital Markets
Paper-6C: International Taxation
Paper-6D: Economics Laws
Paper-6E: Global Financial Reposting Standards
Paper-6F: Multidisciplinary Case Study
Paper-7: Direct Tax Laws and International Taxation
Paper-8: Indirect Tax Laws

CA बनने के लिए योग्यताएं

अगर आप भी CA बनना चाहते है तो उसके लिए आप उसके योग्य होने जरूरी तो उसके योग्य होने के लिए हमने आपको यहाँ CA बनने की योग्यताएं बताई हैं तो कृपया करके इनको ध्यान से पढ़े

  1. CA बनने के लिए व्यक्ति कम से कम 10वी व 12 वी कक्षा पास होना चाहिए तब ही वह CA बनने के योग्य होगा।
  2. CA बनने के लिए व्यक्ति के ग्रेजुएशन में कम से कम 55% अंक होने आवश्यक है क्योंकि तब ही वह CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) आवेदन कर सकेगा।
  3. अगर किसी व्यक्ति के पास ग्रेजुएशन में या फिर पोस्ट ग्रेजुएशन में उसके पास कॉमर्स के विषय नहीं थे परन्तु वह भी CA के लिए आवेदन करना चाहता है तो उसके ग्रेजुएशन या फिर पोस्ट ग्रेजुएशन में कम से कम 60 % अंक होने अनिवार्य हैं।
  4. जब व्यक्ति CA बनने का पहला चरण यानि के CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) पार कर ले उस व्यक्ति ने कम से कम 3 साल तक सहायक के रूप में कार्य किया हो।
  5. अगर कोई विद्यार्थी 12 वी कक्षा में कॉमर्स स्ट्रीम का नहीं था पर वह CA बनना चाहता है तो उस व्यक्ति के 12 वी कक्षा में कम से कम 60 % अंक होने अनिवार्य है।
  6. CA बनने के लिए यह जरूरी नहीं है की आप कॉमर्स के ही होने चाहिए कोई भी स्ट्रीम ये के science,commerce,arts कोई बहिस्ट्रीम का विद्यार्थी CA बन सकता है।

CA Kya Hai/कैसे बन सकते है

अगर आप CA बनना कहते है तो उसके लिए हमने यहाँ पर जानकारी दी है की 12 वी कक्षा के बाद CA बनने के लिए क्या करना होगा। और किस प्रकार से हम CA बन सकते है।CA बनने के लिए महत्वपूर्ण बातें

  • सबसे पहली चीज तो यह है की आप 12 वी के बाद भी CA बन सकते है उसके लिए सबसे पहले आपको अपनी 12 वी कक्षा की 60% अंक के साथ पास करना होगा।
  • उसके बाद CA बनने के लिए आवेदन कर सकते है और CA बनने के लिए सबसे पहला चरण है – CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) आपको इस परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा।
  • आवेदन के बाद आपको इस परीक्षा को पास करना होगा। क्योंकि अगर आप इसको पास नहीं कर पाए तो आप CA बनने में असमर्थ होंगे इसलिए इस परीक्षा को पास करना आवश्यक है और इस परीक्षा को साल में दो बार आयोजित किया जाता है।
  • आपको इस परीक्षा को कम से कम 50 % अंक के साथ पास करना होगा तब ही आप अगले चरण पर पहुंच सकेंगे।
  • अगर आप ने इस परीक्षा को पास करने के बाद आप CA बनने के दूसरे चरण पर पहुंच जाओगे जो की है – CA IPCC (Integrated Professional Competence Course) .
  • आपको इस परीक्षा के लिए आवेदन कर देना होगा और इस परीक्षा की तैयारी शुरू कर देनी होगी क्योंकि यह परीक्षा भी कठिन होती हैं।
  • फिर आपको इस परीक्षा यानि के CA IPCC (Integrated Professional Competence Course) .इस परीक्षा को दो भाग में बांटा गया है और उसमे 8 परीक्षाएं होती हैं आपको इन सभी परीक्षाओं को कम से कम 40 % से पास करनी होगी तब ही आप इसके दूसरे चरण को पास कर सकोगे।
  • दूसरे चरण को पास करने के बाद आपको कही इंटर्नशिप करनी होगी वो भी कम से कम तीन साल तक क्योंकि CA बनने के लिए यह एक्सपीरियंस लेना आवश्यक है तब ही आप इसके अंतिम चरण पर पहुंच सकेंगे।
  • फिर आपको इसके तीसरे चरण यानि के CA Final पास करना होगा इस परीक्षा को भी 8 भाग में बांटा गया है और इन सभी परीक्षा में आपका कम से कम 40% और इन सभी परीक्षाओं को मिलकर टोटल में 50 % लाने अनिवार्य है। फिर आपको इस परीक्षा को पास कर लेना होगा क्योंकि यह CA बनने का आखरी चरण है।
  • इसको पास करने के बाद आसानी से CA बन सकते है।

CA के क्या कार्य है ?

CA एक प्रकार का प्रोफेशन है जिसको लोग बहुत पसंद करते हैं और CA बहुत से आवश्यक कार्य करते हैं जैसे की – वैसे तो चार्टेड अकाउंटेंट का मुख्य कार्य एकाउंटिंग करना होता है। और इनका कार्य यह होता है की ये वित्तीय लेखा जोखा तैयार करे। केवल यह ही नहीं इनका कार्य लोगो को सलाह देना भी होता है यह लोगो को बहुत देते हैं जैसे की – वित्तीय सलाह (Financial Advice), और यह बहुत से कार्य करते हैं जो की हमने निचे बताये हैं तो कृपया ध्यान से पढ़े

  1. चार्टेड अकाउंटेंट बहुत सी कंपनियों के अकाउंट भी संभालते हैं।
  2. चार्टेड अकाउंटेंट का कार्य यह भी होता है की कंपनियों के वित्तीय विवरण पर ध्यान रखे
  3. हर बड़े से छोटी वित्तीय विवरण का समाधान निकालना।
  4. चार्टेड अकाउंटेंट का कार्य लोगो को टैक्स के बारे में सलाह देना भी है।
  5. चार्टेड अकाउंटेंट लोगो को और कंपनियों को भी वित्तीय सलाह भी देते हैं
  6. चार्टेड अकाउंटेंट कंपनियों को उनके फायदे व नुकसान भी बताता है।
  7. एकाउंट्स विश्लेषण करना भी CA का ही कार्य है।
  8. कंपनियों के अकाउंट को सालाना या फिर महीने की उनकी स्टेटमेंट तैयार करना भी है।
  9. कंपनी या फिर व्यक्ति को वित्तीय नुक्सान होने से बचाना
  10. फ्रॉड से बचना और उनका निवारण करना।

भारत देश में CA करने के प्रमुख कॉलेज

  • Shree Ram College Of Commerce(Delhi)
  • Loyola College (Chennai)
  • St. Xavier’s College (Mumbai)
  • Christ University (Bangalore)
  • Narsee Monjee College of Commerce and Economics (Maharashtra)
  • Hansraj College (Delhi)
  • Lady Shree ram College for Women (New Delhi)
  • Hindu College University (New Delhi)
  • Madras Christian College (Chennai)
  • Stella Maris College (Chennai)

आज हमने आपको इस लेख के माध्यम से यह बताया है CA Kya Hai और इसकी फुल फॉर्म क्या है। तो दोस्तों वैसे तो हमने आपको इस लेख में CA से सम्बंधित लगभग सभी जानकारी प्रदान कर दी है अगर आप अभी भी कुछ समस्या है तो आप हमें comment box में लिख कर बता सकते हो हम आपकी समस्या का समाधान ढूंढ़ने की पूरी कोशिश करेंगे।

CA Kya Hai से सम्बंधित पूछे जाने वाले प्रश्न

CA की फुल फॉर्म क्या होती हैं ?

CA full form in english – Charted Accountant
CA फुल फॉर्म हिंदी में – चार्टेड अकाउंटेंट

CA का कोर्स कितने वर्ष का होता है ?

CA का कोर्स 5 वर्ष का होता है।

CA Kya Hai ?

CA Kya Hai – यह एक प्रकार का प्रोफेशन है जिसको लोग बहुत पसंद करते हैं। CA का कार्य होता है लोगो का financial (वित्तीय) सलाह देना। और तो और यह लोगो का वित्तीय लेखा जोखा तैयार करने का भी कार्य करते है। यह लोगो की अकाउंट को भी जांचते है और लोगो के टैक्स का भी हिसाब रखते है और भरते भी है। यह लोगो का GST भी भरते है और उसका return भी फाइल करते हैं। इनका सब कार्य बैंकिंग,टैक्स,एकाउंट्स, इन सभी से सम्बंधित होता है

CA बनने के लिए 12 वी कक्षा में कितने प्रतिशत अंक आने अनिवार्य है ?

CA बनने के लिए अगर आप कॉमर्स स्ट्रीम से हो तो आपको 55%प्रतिशत अंक चाहिए और अगर आप किसी और स्ट्रीम से है तो आपको 60% अंक चाहिए।

CA बनने के लिए कोर्स के लिए कितने स्तर होते हैं उनके नाम बताइये ?

CA बनने के लिए कोर्स के लिए तीन स्तर होते हैं जिनका नाम कुछ इस प्रकार हैं
1.CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test)
2.CA IPCC (Integrated Professional Competence Course)
3.CA Final

CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं ?

CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) को दो भागों में बांटा गया है और इन दोनों भागों को करने के लिए 4 घंटे का समय दिया जाता है। इस परीक्षा में ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न पूछे जाते है।

CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) विषय होते है उनके नाम बताइये ?

CA Foundation / CPT (Common Proficiency Test) में 4 विषय होते हैं जिनका नाम कुछ इस प्रकार है।
Principles and Practices of Accounting
Business Law and Business Correspondence and Reporting
Business Mathematics and Logical Reasoning and Statistics
Business Economics and Business and Commercial Knowledge

CA final को कितने भाग में बांटा गया है और उन भागों में कितनी परीक्षा होती हैं ?

CA final को दो भाग में बांटा गया है और उन भागों में चार चार परीक्षा में बांटा गया है।
पहला भाग –
Paper-1 :Financial Reporting
Paper-2: Strategic Financial Management
Paper-3: Advanced Auditing and Professional Ethics
Paper-4: Corporate and Economic Laws
दूसरा भाग –
Paper-5: Strategic Cost Management and Performance Evaluation
Paper-6A: Risk Management
Paper-6B: Financial Services and Capital Markets
Paper-6C: International Taxation
Paper-6D: Economics Laws
Paper-6E: Global Financial Reposting Standards
Paper-6F: Multidisciplinary Case Study
Paper-7: Direct Tax Laws and International Taxation
Paper-8: Indirect Tax Laws

Leave a Comment