उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना 2021: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लाभ व कार्यान्वयन प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना उतर प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के सहभागी विकास हेतु शुरू की गयी योजना है जिसका मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में सरंचनात्मक विकास एवं सहभागी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना है। इस योजना की मुख्य विशेषता यह है की इसमें आम आदमी को भी विकास योजनाओ  का भागीदार बनाया गया है। यह योजना प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा 15 सितम्बर 2021 को प्रारम्भ की गयी है। इसके अंतर्गत विकास योजना का 50 % खर्च सरकार द्वारा वहन किया जायेगा जबकि शेष 50% खर्च सहभागी व्यक्ति द्वारा वहन किया जायेगा बदले में सरकार द्वारा उस योजना का नाम सहभागी व्यक्ति की इच्छानुसार रखा जायेगा। Uttar Pradesh Matri Bhumi Yojana ग्रामीण क्षेत्रों के विकास कार्यो हेतु मील का पत्थर साबित होगी।

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के मुख्य बिंदु

योजना का नाम उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना 
उद्देश्य ग्रामीण विकास  हेतु आमजन की भागीदारी 
कब शुरू की गयी 15 सितम्बर 2021 
किसके द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 
क्रियान्वयन विभाग ग्रामीण विकास  एवं  पंचायतीराज विभाग 
वर्ष सितम्बर , माह 2021  
राज्य उत्तर प्रदेश 
लाभार्थी  उत्तर प्रदेश के स्थाई निवासी 
OFFICIAL WEBSITE NA YET 
Uttar Pradesh Matri Bhumi Yojana

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना उद्देश्य 

इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों का सर्वांगीण विकास और उन्हें विकास के स्तर पर सहभागी बनाना है क्यूंकी विकास के स्तर पर हमे ग्रामीण अंचलो को देश के विकास में  समान भागीदार बनाना होगा। इस योजना से ना सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों में आधारभूत सुविधा का विकास होगा बल्कि इससे सहभागिता द्वारा वे आत्मनिर्भर भी बनेंगे और देश के विकास को गति देंगे। इस योजना का मुख्य उद्देश्य गांवों में मूलभूत सुविधाएं जैसे स्वास्थ्य हेतु स्वास्थ्य केंद्र एवं व्यायामशाला, मैदान एवं ओपन जिम, शिक्षा हेतु आंगनवाड़ी एवं पुस्तकालय, अग्निशमन केंद्र एवं पशु नस्ल सुधार केंद्र और इसी प्रकार की अन्य सुविधाएं विकसित की जाएगी। 

मातृभूमि योजना की आवश्यकता और मुख्य लाभ 

वर्तमान समय में हम प्रत्यक्ष रूप से देख सकते है कि भारत के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों मैं हर स्तर  आर्थिक,सामाजिक ,सरंचनात्मक और विकास के स्तर पर बहुत अधिक असमानता है और इसका मुख्य  कारण  हमारा ग्रामीण क्षेत्रों को विकास के केंद्र में न रखकर योजना बनाना है जिस कारण से ग्रामीण क्षेत्र उस स्तर  पर  तरक्की नहीं कर पाए जिसकी अपेक्षा की गयी थी। वर्तमान समय में भी भारत की 70% आबादी ग्रामीण अंचलो में  निवास करती है और उत्तरप्र देश में यहाँ आंकड़ा 80% के करीब है। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी भी ऐसे भारत का निर्माण करना चाहते थे जहाँ शासन की इकाई ग्राम हो और वह आत्मनिर्भर हो। हमारे नीति निदेशक तत्वों में  भी यही अवधारणा है और इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु संविधान में 73 वे संसोधन द्वारा पंचायती राज की अवधारणा विकसित  की गयी है जिससे शासन ग्रामीण स्तर पर ही हो। उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना इन सभी उद्देश्यों को ध्यान में  रखते हुए विकसित की गयी है। 

इस योजना से न सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को प्रोत्साहन मिलेगा बल्कि आधारभूत सुविधायें विकसित  होने से ग्रामीणों को भी सहूलियतत मिलेगी। ग्रामीण स्तर पर बेहतर शिक्षा मिलेगी जिससे लोगो के पास अधिक विकल्प होंगे और वे एक बेहतर जीवनस्तर जी पाएंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में सुविधाये बेहतर होने से ग्रामीणों को हर चीज के लिए शहरो के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे और वे हर के पास ही बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधा प्राप्त कर पाएंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और मूलभूत सुविधायें विकसित होने से अन्य चीजें भी सुगम होंगी और व्यापार के अवसर बढ़ेंगे। गांवो में CCTV कैमरे लगने, स्ट्रीट लाइट लगने और सीवर ट्रीटमेंट बेहतर होने से न सिर्फ स्वास्थय लाभ होगा बल्कि स्वच्छ भारत अभियान जैसी योजनाओ को भी गति प्रदान होगी। इससे हम न सिर्फ स्मार्ट सिटी वाला देश बनेंगे बल्कि हम स्मार्ट विलेज की तरफ भी आगे बढ़ेंगे और इस सर्वांगीण विकास से सम्पूर्ण देश को लाभ मिलेगा। मातृभूमि योजना ना सिर्फ ग्रामीण  क्षेत्रों की अर्थव्यवसता  को मजबूत्त बनाएगा बल्कि यही गांवो हेतु आर्थिक तरक्की भी लेकर आएगा जिससे की आर्थिक असमानता दूर होगी और प्रत्येक वर्ग का विकास होगा। यह योजना अन्य राज्यों के लिए भी एक नज़ीर बनेगी।

मातृभूमि योजना के मुख्य बिंदु

मातृ भूमि योजना के मुख्य बिंदु निम्नलिखित है 

  • यह योजना भारत के ग्रामीण क्षेत्रों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु शुरू की गयी है. 
  • ग्रामीण क्षेत्रों मैं मूलभूत सुविधाएं बढ़ेंगी जिससे ग्रामीणों को ये सभी सुविधाएं घर के द्वार पर ही प्राप्त हो सकेंगी।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में  रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और पलायन रुकेगा। 
  • शिक्षा और स्वास्थ जैसी सुविधाओ से ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बल मिलेगा जिससे देश का तेज आर्थिक विकास  होगा। 
  • देश की बहुत बड़ी आबादी  को लाभ क्यूंकि अभी भी 70% आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में  निवास करती है। 
  • ग्रामीणों की विकास कार्यो में  प्रत्यक्ष भागीदारी जिससे न सिर्फ तेज विकास होगा बल्कि और लोग भी सहभागिता हेतु प्रोत्साहित होंगे। 
  • कोई भी इछुक व्यक्ति 50% भागीदारी करके परियोजना का पूरा श्रेय ले सकता है। 
  • व्यक्ति किसी के भी नाम पर योजना का नाम रखवा सकता है। 
  • इस योजंना से ग्रामीण क्षेत्रों में आधारभूत सरचनाये विकसित होंगी और वे तेज गति से विकास  करेंगे। 
  • इस योजना से ग्रामीण क्षेत्रों में CCTV कैमरे, मार्गो पर स्ट्रीट लाइट एवं जल निकासी हेतु STP प्लांट लगाए जायेंगे और स्मार्ट विलेज की सपना साकार हो सकेगा। 
  • गांधीजी ने जिस आदर्श भारत का सपना देखा था जिसमें ग्राम एक महत्वपूर्ण इकाई थी उसे पूरा करने की दिशा में यह एक महत्वपूर्ण कदम है। 
  •  सरकार द्वारा ग्रामीण  क्षेत्रों के विकास हेतु दिखाई गयी प्रतिबद्धता। 
  • यह योजना उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गयी है। 
  • इस योजना के क्रियान्यवन हेतु ग्रामीण विकास और पंचायतीराज विभाग को निर्देश दिए गए है। 
  • इस योजना को 15 सितम्बर 2021 को शुरू किया गया है। 
  • ग्रामीण क्षेत्रों  में विकास के अवसर बढ़ने से देश का संतुलित विकास  होगा।  

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना हेतु पात्र व्यक्ति और इसके लिए आवश्यक दस्तावेज 

इस योजना का लाभ लेने हेतु आवेदनकर्ता को निम्न औपचारिकताएँ पूरी करनी होंगी और निम्न दस्तावेज होने आवश्यक है। 

  • आवेदनकर्ता उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी होना चाहिए 
  • राशन कार्ड 
  • स्थाई  निवास प्रमाण पत्र 
  • आय प्रणाम पत्र 
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर  
  • ईमेल ID 

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना के लिए आवेदन करने की पूरी प्रक्रिया 

मातृभूमि योजना को अभी तक सरकार द्वारा सिर्फ शुरू करने की घोषणा  की गयी है और मुख्यमंत्री द्वारा ग्रामीण विकास और पंचायती राजविभाग को इस योजना का विस्तृत कार्ययोजना तय करने का निर्देश दिया गया है। इस सम्बन्ध में अधिक जानकारी इसकी ऑफिसियल वेबसाइट जारी होने और कैबिनेट द्वारा इसे पास करने के पश्चात ही उपलब्ध होगी। 

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न  [ FAQ ]

उत्तर प्रदेश मातृभूमि  योजना क्या है ?

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में सरंचनात्मक विकास एवं विकास के स्तर पर उन्हें शहरी क्षेत्रों के समकक्ष बनाने के लिए शुरू की गयी है इसका मुख्य उद्देश्य ग्रामीण अंचलो का सर्वांगीण विकास  है। 

इस योजना में  कौन-कौन सहभागिता कर सकता है ?

इस योजना में  कोई भी आम नागरिक जो उत्तर प्रदेश का स्थाई निवासी हो एवं इच्छुक हो सहभगिता कर सकता है। 

इस योजना में आम आदमी कैसे भागीदारी कर सकता है ?

इस योजना में आम आदमी  जो इच्छुक हो को इस योजना का 50% खर्च वहन करना होगा और  50% खर्च सरकार द्वारा वहन किया जायेगा। 

इस योजना में सहभागिता करने पर आम आदमी को क्या लाभ है ?

इस योजना मे सहभागिता करने पर आम आदमी द्वारा किसी के भी नाम पर उस परियोजना का नामकरण किया जा सकता है और 50% भागीदारी करने पर ही वह उस योजना का पूरा श्रेय  ले सकता है। 

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का  क्रियान्वयन विभाग कौन सा है ?

इस योजना का क्रियान्वयन विभाग ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज विभाग है। 

उत्तर प्रदेश मातृभूमि योजना का जनता को क्या लाभ है ?

इस योजना से ग्रामीण क्षेत्रों में मूलभूत सुविधायें विकसित की जाएँगी जिससे ग्रामीण क्षेत्रों का सर्वागीण विकास  होगा और स्वास्थ्य , शिक्षा एवं रोजगार के क्षेत्र में हमारे गांव शहरी क्षेत्रों के समकक्ष होंगे और देश का सर्वागीण विकास  होगा। 

Leave a Comment