यूपी में जापानी कंपनियों के लिए नया शहर बनाया जा रहा है, जाने ये सभी सुविधाएँ होगी इस शहर में

UP New City: इन दिनों उत्तर प्रदेश के विकास की गाड़ी काफी रफ़्तार से चल रही है। यूपी में विदेशों से भी काफी निवेश आ रहा है, खासकर जापानी कंपनियां यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (Yamuna Expressway Industrial Development Authority) में काफी निवेश कर रही हैं।

इन जापानी कंपनियों के कर्मचारियों के लिए सरकार यहाँ पर नया शहर बसाने जा रही है। यह शहर यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे नोएडा के पास बसाया जाएगा। इस शहर में दुनिया भर की सुविधाएँ मिलेंगी।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp
UP New City

यूपी में विदेशी कंपनियों की बढ़ती दिलचस्पी

उत्तर प्रदेश (यूपी) में इन दिनों विदेशी कंपनियों की बढ़ती दिलचस्पी देखने को मिल रही है। तेज़ गति से विकसित होती यूपी की अर्थव्यवस्था ने दुनिया भर का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है। इसी के फलस्वरूप, जापानी कंपनियां भी जल्द ही यूपी में विभिन्न क्षेत्रों में निवेश करने की योजना बना रही हैं।

नए शहर में मिलने वाली सुविधाएँ

  • आधुनिक बुनियादी ढांचा: शहर में अच्छी तरह से विकसित सड़कें, बिजली, पानी और सीवेज सिस्टम होंगे।
  • आवासीय सुविधाएं: शहर में विभिन्न प्रकार के आवास उपलब्ध होंगे, जिनमें अपार्टमेंट, विला और घर शामिल हैं।
  • शिक्षा सुविधाएं: शहर में स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय होंगे।
  • स्वास्थ्य सुविधाएं: शहर में अस्पताल, क्लीनिक और नर्सिंग होम होंगे।
  • मनोरंजन सुविधाएं: शहर में शॉपिंग मॉल, मल्टीप्लेक्स, पार्क और खेल के मैदान होंगे।

भारतीय-जापानी संस्कृति का मिश्रण

यह शहर जापानी संस्कृति और भारतीय संस्कृति का मिश्रण होगा। शहर में जापानी भाषा और संस्कृति के अध्ययन के लिए एक केंद्र भी होगा। यह शहर न केवल जापानी कंपनियों के कर्मचारियों के लिए बल्कि अन्य लोगों के लिए भी एक आकर्षक स्थान होगा। यह शहर उत्तर प्रदेश के विकास में एक महत्वपूर्ण योगदान देगा।

निवेश सिटी के तौर पर विकसित होने वाले क्षेत्र में इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनियां आएंगी। यह क्षेत्र भारत के लिए एक महत्वपूर्ण विकास पहल है, और यह कई उद्योगों में निवेश को आकर्षित करने की उम्मीद है जिनमें शामिल हैं: सेमीकंडक्टर, कृत्रिम बुद्धिमत्ता, हरित हाइड्रोजन ऊर्जा, सौर ऊर्जा, ऑटोमोबाइल क्षेत्र।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

घर, स्कूल और हॉस्पिटल बन रहे है

यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी द्वारा निवेश सिटी में जापानी कंपनियों के लिए एक विशेष क्षेत्र विकसित किया जा रहा है। इस क्षेत्र में जापान की कंपनियों में काम करने वाले लोगों को उन्हीं का परिवेश उपलब्ध करवाते हुए उनको घर, स्कूल और हॉस्पिटल जैसी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएंगी।

हाल में जापानी अधिकारियों और राजनयिकों के एक शिष्टमंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और यहाँ के अधिकारियों से मुलाकात कर निवेश प्रस्तावों और प्रस्तावित सिटी पर चर्चा की। इस मुलाकात के बाद यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी में जापानी कंपनियों के प्रतिनिधिमंडल को जमीन भी दिखाई गई थी।

जापानी कम्पनियो को FDI का लाभ होगा

जापान की कंपनियां यूपी सरकार की एफडीआई नीति के तहत निवेश करेंगी। यह नीति विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए बनाई गई है और इसमें कई तरह की रियायतें शामिल हैं। यूपी सरकार को एफडीआई नीति के तहत पहला निवेश जापान की कंपनी फूजी सिल्वरटेक कंक्रीट का मिला है।

यह कंपनी यमुना एक्सप्रेस-वे के किनारे 20 एकड़ जमीन पर 100 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। माना जा रहा है कि 500 एकड़ में बनने वाली इस सिटी में जापान की अलग-अलग क्षेत्रों की कंपनियां 15,000 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश करेंगी। यह निवेश यूपी के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी और इससे राज्य में रोजगार के अवसरों में वृद्धि होगी।

अन्य खबरें भी देखें:

Leave a Comment