सुरक्षा परिषद क्या है? सुरक्षा परिषद के कार्य एवं शक्तियाँ | UN Security Council in Hindi

अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर अकसर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् का जिक्र आता है। दुनिया में किसी भी जगह पर आपातकालीन स्थिति, युद्ध, संकट, आपदा, तनाव या वैश्विक शांति को खतरे को बात आती है तो हम अकसर सुरक्षा परिषद का जिक्र अवश्य सुनते है। वैश्विक शांति के लिए महत्वपूर्ण सुरक्षा परिषद एक महत्वपूर्ण निकाय है जिसके कार्य वैश्विक शांति एवं सुरक्षा को बनाये रखना है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको संयुक्त राष्ट्र के एक महत्वपूर्ण अंग सुरक्षा परिषद (Security Council) के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की सुरक्षा परिषद क्या है? सुरक्षा परिषद के कार्य एवं शक्तियाँ (UN Security Council in Hindi) क्या है। साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आप सुरक्षा परिषद से सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त करने वाले है।

ASEAN Full Form in Hindi : ASEAN किसे कहते है ? पूरी जानकारी

UN Security Council in Hindi
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद्

प्रतियोगी परीक्षाओं एवं राज्य लोक सेवा आयोग में भी अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा के सन्दर्भ में सुरक्षा परिषद से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न पूछे जाते है ऐसे में यह लेख निश्चित रूप से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए भी उपयोगी होगा।

सुरक्षा परिषद क्या है?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council (UNSC), संयुक्त राष्ट्र संघ के 6 प्रमुख कार्यकारी निकायों में से एक है जिसका कार्य वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा को सुनिश्चित करना है। संयुक्त राष्ट्र के 6 प्रमुख कार्यकारी निकायों में शुमार सुरक्षा परिषद वैश्विक सुरक्षा एवं शांति को खतरा होने पर अनिवार्य निर्णय को घोषित कर सकती है जिसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद प्रस्ताव कहा जाता है। इस प्रस्ताव के माध्यम से सुरक्षा परिषद् द्वारा वैश्विक शांति एवं सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाता है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा जारी किए गए निर्णय औपचारिक रूप से बाध्यकारी (कुछ मामलों में) होते है जिसके अर्थ है की सम्बंधित पार्टीज को सुरक्षा परिषद् के निर्णयों को मानना अनिवार्य है। सुरक्षा परिषद् के अतिरिक्त संयुक्त राष्ट्र के अन्य 5 अंग संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA), आर्थिक और सामाजिक परिषद, ट्रस्टीशिप परिषद, अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय एवं सचिवालय है।

सुरक्षा परिषद का इतिहास

प्रथम विश्वयुद्ध की भयावहता के पश्चात विभिन देशो ने एक मंच पर आकर वैश्विक शान्ति के लिए चिंतन किया एवं इसी के फलस्वरुप पेरिस पीस कॉन्फ्रेंस (Paris Peace Conference) के माध्यम से लीग ऑफ़ नेशंस (League of Nations) की स्थापना हुयी। हालांकि यह निकाय की वैश्विक शान्ति को स्थापित करने में असफल रहा एवं द्वितीय विश्वयुद्ध, जर्मनी में नाजीवाद, इटली में फासीवाद तथा जापान का साम्राज्यवाद रोकने में बुरी तरह असफल रहा। वैश्विक युद्ध एवं तनाव को रोकने में नाकामयाब लीग ऑफ़ नेशंस के विकल्प के रूप में वर्ष 1945 में संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की गयी एवं सुरक्षा परिषद् इसका एक महत्वपूर्ण अंग बन गया।

सुरक्षा परिषद की स्थापना कब हुयी ?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council (UNSC) की स्थापना वर्ष 1945 में संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर के द्वारा की गयी थी। संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक शान्ति के लिए निर्मित सुरक्षा परिषद को विश्व की सुरक्षा एवं शान्ति को बनाये रखने के लिए विभिन शक्तियाँ प्रदान की गयी है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् का मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में स्थित है।

क्या है सुरक्षा परिषद का मुख्य उद्देश्य

सुरक्षा परिषद का मुख्य उद्देश्य “वैश्विक शाँति एवं सुरक्षा” को बनाये रखना है। वैश्विक शांति एवं सुरक्षा में इसकी महती भूमिका के कारण ही इसे प्रायः दुनिया का पुलिसमैन (The World’s Policeman) भी कहा जाता है। वैश्विक स्तर पर शांति एवं सुरक्षा को खतरा होने पर सुरक्षा परिषद द्वारा आपातकालीन बैठक बुलाई जाती है एवं स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए सभी आवश्यक उपाय किए जाते है। संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा को खतरा होने पर बाध्यकारी निर्णय पारित किए जाते है।

सुरक्षा परिषद का ढाँचा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) कुल 15 सदस्यीय देशों का निकाय है जिनमे 5 स्थायी सदस्य एवं 10 अस्थायी सदस्य होते है। यहाँ आपको इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी गयी है :-

  • सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य (Permanent members of the United Nations Security Council) देश कुल 5 है :-
    • संयुक्त राज्य अमेरिका
    • चीन
    • यूनाइटेड किंगडम
    • रूस
    • फ्रांस

सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य देशों के पास वीटो (Veto) पावर निहित है जिसका अर्थ है की यदि सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य 5 देशो में कोई भी एक देश किसी प्रस्ताव पर वीटो कर देता है तो वह प्रस्ताव निरस्त हो जाता है। अर्थात सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्यों के पास वीटो की असीमित शक्तियां है।

  • सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य (Non-Permanent members of the United Nations Security Council)- सुरक्षा परिषद् के 10 अस्थायी सदस्यों को क्षेत्रीय आधार पर दो वर्षीय के कार्यकाल हेतु चुना जाता है। यह चुनाव क्षेत्रीय आधार पर किया जाता है जिससे सभी देशों को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भागीदारी का मौके मिले। सुरक्षा परिषद् का अध्यक्ष सदस्य देशों के मध्य रोटेशन बेस पर चयनित किया जाता है।

सुरक्षा परिषद के कार्य एवं शक्तियाँ

  • वैश्विक शांति एवं सुरक्षा को बनाये रखना
  • संयुक्त राष्ट्र में नए सदस्यों के प्रवेश हेतु अनुमोदन प्रदान करना
  • वैश्विक शांति हेतु शांति अभियानों (Peacekeeping operations) को संचालित करना
  • वैश्विक हित में आक्रमणकारी देश पर प्रतिबन्ध लगाना
  • संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर में बदलाव हेतु अनुमोदन को स्वीकृति प्रदान करना
  • युद्ध की स्थित में आवश्यक मीलिट्री ऑपरेशन को अनुमति प्रदान करना
  • अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर विवाद होने पर मध्यस्थ की भूमिका निभाना
  • वैश्विक हित के मुद्दों पर विचार-विमर्श एवं आवश्यक निर्णय पास करना

भारत के सन्दर्भ में सुरक्षा परिषद्

दुनिया की लगभग 18 फीसदी जनसँख्या एवं दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने के बावजूद भी भारत का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में स्थायी प्रतिनिधित्व नहीं है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के 5 स्थायी सदस्य देशों में भारत का प्रतिनिधित्व ना होने के कारण लम्बे समय से भारत को इसमें शामिल करने की माँग उठायी जाती रही है। प्रधानमन्त्री मोदी भी संयुक्त राष्ट्र संघ में बदलाव के बारे में मुद्दा उठा चुके है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा की संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा कब तक इस विषय पर निर्णय लिया जाता है।

NATO क्या है? कौन कौन से देश नाटो में शामिल है

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद क्या है ?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ का एक प्रमुख अंग है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का मुख्य उद्देश्य क्या है ?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का मुख्य उद्देश्य वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा को बनाये रखना है। वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा को बनाये रखने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ को बाध्यकारी निर्णय लागू करने का अधिकार प्रदान किया गया है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थापना कब हुयी ?

United Nations Security Council स्थापना वर्ष 1945 में संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर के द्वारा की गयी थी।

दुनिया का पुलिसमैन (The World’s Policeman) किस संस्था को कहा जाता है ?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (United Nations Security Council (UNSC) को वैश्विक शान्ति एवं सुरक्षा का प्रहरी होने के कारण दुनिया का पुलिसमैन (The World’s Policeman) कहा जाता है।

सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देश कौन-कौन से है ?

सुरक्षा परिषद के पांच स्थायी सदस्य देश निम्न है :-
संयुक्त राज्य अमेरिका
चीन
यूनाइटेड किंगडम
रूस
फ्रांस

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का मुख्यालय कहाँ है ?

United Nations Security Council का मुख्यालय अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में है।

सुरक्षा परिषद के कार्य एवं शक्तियाँ क्या-क्या है ?

सुरक्षा परिषद के कार्य एवं शक्तियाँ सम्बंधित जानकारी के लिए ऊपर दिया गया लेख पढ़े। यहाँ आपको इस सम्बन्ध में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की गयी है।

Leave a Comment

Join Telegram