सुकन्या समृद्धि योजना 2021 : Sukanya Samriddhi Yojana, PM Kanya Yojana

Sukanya Samriddhi Yojana 2021 । सुकन्या समृद्धि योजना 2021 । PM Kanya Yojana । सुकन्या समृद्धि योजना 2021

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं, सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) की जिसका आरम्भ भारत सरकार द्वारा 22 जनवरी 2015 में बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं योजना के तहत किया गया था, इस योजना के अंतर्गत सरकार देश के सभी परिवारों को उनकी बेटी की शिक्षा व शादी के लिए उनका छोटा बचत खाता खुलवाने और बेटी के बेहतर भविष्य के लिए पैसे जमा करने की सुविधा प्रदान करवाती है, सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत परिवार अपनी दस वर्ष की आयु की बेटी के लिए यह खाता खुलवा सकेंगे, SSY में बेटी के नाम पर बचत खाता खुलवाने के लिए आवेदक माता-पिता किसी भी राष्ट्रीय बैंक या पोस्ट ऑफिस में न्यूनतम 250 रूपये जमा करके इसे खुलवा सकेंगे और अधिक 1.50 लाख रूपये अपनी सुविधानुसार एक वर्ष के भीतर खाते में जमा कर सकेंगे, जिसे वह बालिका योजना के 21 वर्ष पूरे होने पर या बालिका के 18 वर्ष की होने पर भी अपनी शिक्षा को जारी रखने या शादी के लिए निकाल सकेगी।

Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत अब आवेदक माता-पिता घर बैठे ही अपनी बालिका का खाता बनवाने के लिए आवेदन कर सकेंगे, इसके लिए योजना से संबंधित सभी जानकारी जैसे योजना के लाभ, पात्रता, खाता खुलवाने की प्रक्रिया आदि हम आपको लेख के माध्यम से प्रदान करने जा रहें हैं, कृप्या इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Article Contents

Sukanya Samriddhi Yojana 2021 : Details

योजना का नाम सुकन्या समृद्धि योजना
इनके द्वारा शुरुआत की गई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा
मंत्रालय महिला एवं बाल विकास
साल 2021
योजना की श्रेणी केंद्र सरकारी योजना
योजना के लाभार्थी देश की बालिकाएँ
उद्देश्य बालिकाओं के बेहतर भविष्य के लिए
छोटे बचत खाते सुविधा प्रदान करवाना
आधिकारिक वेबसाइट indiapost.gov.in

सुकन्या समृद्धि योजना 2021

सुकन्या समृद्धि योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा देश में बालिकाओं के बेहतर भविष्य के निर्माण और उनकी शिक्षा व शादी के लिए पैसे जमा करने हेतु छोटे बचत खातों को खुलवाने के लिए की गई है, जिसे महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा संचालित किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत आवेदक माता-पिता बेटी के नाम पर खुलवाए जाने वाले खाते में न्यूनतम 250 रूपये प्रति वर्ष से 1.50 लाख रूपये खातों में जमा कर सकेंगे, अभिभावकों को इस खाते को जारी रखने के लिए प्रतिवर्ष कम से कम 250 रूपये धनराशि बालिका के खाते में 14 साल तक जमा करवानी अनिवार्य होगी। SSY की शुरुआत में पहले माता पिता को 1000 रूपये प्रति वर्ष बैंक या पोस्ट ऑफिस में जमा करवाने पड़ते थे, जिसे अब देश के आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों की स्थिति को ध्यान में देखते हुए 1000 रूपये से घटाकर 250 रूपये कर दिया गया है, साथ ही SSY में जमा राशि पर आवेदक बालिका को 7.6% ब्याज दर प्रदान किया जाता है, जो अन्य योजनाओं के मुकाबले अधिक और लाभदायक है।

पीएम कन्या योजना में कितनी बेटियों के लिए खाता खुलवाया जा सकेगा

पीएम कन्या योजना/SSY के अंतर्गत योजना का लाभ आवेदक परिवार की दो बेटियों को प्रदान किया जाएगा, जिसमे आवेदक परिवार योजना के तहत अपनी दोनों बेटियों के खाते खुलवा सकेंगे, यदि परिवार में पहली बेटी के बाद दूसरी दो जुड़वा बेटियाँ होती है, तो उन दोनों को दूसरी बेटी मानकर अलग-अलग योजना का लाभ मिल सकेगा इसके लिए आवेदक परिवार अपनी बेटियों के खातों को खुलवाने के लिए किसी भी राष्ट्रीय बैंक या पोस्ट ऑफिस में योजना में माँगे गए सभी दस्तावेजों को जमा करके यह खाता 250 रूपये जमा करवाकर खुलवा सकेंगे।

डाक घर द्वारा IPPB एप्प की शुरुआत

नागरिकों को डिजिटल सुविधा प्रदान करने के लिए पोस्ट ऑफिस द्वारा IPPB यानि इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक की सुविधा प्रदान की गई है, जिससे अब आवेदक घर बैठे ही अपने मोबाइल के माध्यम से पैसे अपने खाते में जमा करवा सकेंगे, इसके लिए आपके मोबाइल पर इंटरनेट और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा उपलध होनी चाहिए। आवेदक अपने मोबाइल में IPPB एप्प को गूगल प्ले स्टोर से इसे डाउनलोड करके भी इसका इस्तेमाल आसानी से पोस्ट ऑफिस में जाए बिना पैसे जमा करने के लिए के सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना के लाभ एवं विशेषताएँ

पीएम कन्या योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले लाभ एवं विशेषताओं की जानकारी आवेदक यहाँ से प्राप्त कर सकते हैं।

  • सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत देश के सभी माता-पिता अपनी बालिकाओं के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए उनका बचत खाता खुलवाकर उसमे धनराशि जमा कर सकेंगे।
  • योजना में अभिभावक अपनी 10 वर्ष तक की बलिका का किसी भी नेशनल बैंक या डाक घर में अकाउंट बनवा कर 250 रूपये या अधिकत्म अपनी स्थिति अनुसार 1.50 लाख रूपये तक की धनराशि बालिका के खाते में जमा करवा सकेंगे।
  • बैंक खाते को जारी रखने के लिए अभिभावकों को 14 साल तक खाते में कम से कम 250 रूपये धनराशि प्रतिवर्ष जमा करने आवश्यक होगा।
  • पीएम कन्या योजना में आवेदक बालिका को जमा की गई धनराशि पर 7.6% ब्याज दर प्रदान किया जाएगा।
  • योजना के अंतर्गत एक परिवार की दो बालिकाओं को योजना का लाभ मिल सकेगा।
  • SSY के तहत बालिका के 18 वर्ष पूरे हो जाने पर अपनी उच्च शिक्षा को जारी रखने के लिए यदि वह जमा की गई राशि निकलवाना चाहे, तो वह केवल 50% धनराशि ही खाते से निकलवा सकेंगी और बाकी की बची हुई धनराशि वह 21 वर्ष पूरे हो जाने के बाद ही बैंकों से प्राप्त कर सकेंगी।
  • सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत इनकम टैक्स-80 सेक्शन C के तहत 1.50 हजार रूपये की राशि बैंक में जमा करवाने पर इनकम टैक्स पर छूट मिल सकेगी।
  • आवेदक बालिका योजना में अपना अकाउंट ट्रांसफर करवाना चाहे, तो वह अपने जरुई दस्तावेजों को जमा करवाकर अपना अकाउंट एक जगह से दूसरी जगहा ट्रांसफर करवा सकती है।

पात्रता

SSY के अंतर्गत आवेदन हेतु इसकी कुछ पात्रता निर्धारित की गई हैं, जिन्हे पूरा करने पर ही यह बचत खाता खुलवाया जा सकता है जो कुछ इस प्रकार हैं :-

  • SSY के अंतर्गत केवल बालिकाओं के ही बचत खाते बनवाए जा सकते हैं।
  • योजना में आवेदन हेतु कन्या की आयु 10 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए, तभी अभिभावक अपनी बेटी का खाता खुलवा सकेंगे।
  • आवेदक परिवार की केवल दो बेटियों को ही योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा, यदि पहली बेटी के बाद दो जुड़वा बेटियाँ होती हैं तो ऐसी स्थिति में वह दोनों ही योजना के लाभ हेतु पात्र मानी जाएँगी।
  • 2 दिसंबर 2003 को या उसके बाद जन्मी बालिकाओं को योजना में आवेदन हेतु थोड़ी छूट दी जाती है।
  • आवेदक बालिका का खाता खुलवाने के लिए अभिभावक के पास बालिका के सभी दस्तावेज होने आवश्यक हैं।

SSY के अंतर्गत अधिकृत (Authorized) बैंकों की सूची

पीएम कन्या योजना के अंतर्गत देश भर में आवेदक परिवार अब रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) द्वारा अधिकृत किये गए बैंकों में बालिका का खाता खुलवा सकेंगे। यह खाता बेहद ही कम बचत राशि में खुलेगा और इसमें अन्य योजनाओं के मुकाबले अधिक ब्याज दर आवेदक को प्रदान की जाएँगी।

1. भारतीय स्टेट बैंक (SBI)15. इंडियन ओवरसीज बैंक
2. कैनरा बैंक16. भारतीय बैंक
3. बैंक ऑफ़ बड़ौदा17. पंजाब नेशनल बैंक
4. इलाहाबाद बैंक18. एक्सिस बैंक
5. आईडीबीआई बैंक19. आईसीआईसीआई बैंक
6. आंध्रा बैंक20. विजया बैंक
7. बैंक ऑफ़ महाराष्ट्र (BOM)21. सिंडिकेट बैंक
8. बैंक ऑफ़ इंडिया22. स्टेट बैंक ऑफ़ त्रावणकोर
9. कॉर्पोरेशन बैंक23. ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स
10. सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया24. स्टेट बैंक ऑफ़ हैदराबाद
11. देना बैंक25. पंजाब एंड सिंध बैंक
12. स्टेट बैंक ऑफ़ बीकानेर एंड जयपुर26. यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया
13. बैंक ऑफ़ बड़ौदा27. यूको बैंक
14. स्टेट बैंक ऑफ़ मैसूर28. यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया

आवेदन हेतु आवश्यक दस्तावेज

योजना में आवेदन हेतु आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी आवेदक यहाँ से प्राप्त कर सकते हैं।

  • बालिका का आधारकार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र (Birth Certificate)
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र
  • अभिभावक (माता-पिता) एवं बालिका की पासपोर्ट साइज फोटो

भारतीय डाक द्वारा चलाई जाने वाली योजनाएँ

दिसंबर में आई नई अपडेट अनुसार भारतीय डाक द्वारा पोस्ट ऑफिस सेविंग स्कीम (POSS) के नाम से 9 बचत योजनाओं को चलाया जा रहा है, इन नौ योजनाओं में भी नागरिकों को लाभ पहुँचाने के लिए 7.6% ब्याज दर प्रदान किया जाता है, आवेदकों को इन बचत खातों को खुलवाने के लिए इनमे कम से कम न्यूनतम शेष राशि रखनी होती है, जो कुछ इस प्रकार हैं।

खाता (Account)न्यूनतम राशि
राष्ट्रीय बचत आवर्ती जमा खाता (RD)100 रूपये
सुकन्या समृद्धि योजना (SSY)250 रूपये
डाक घर बचत खाता 500 रूपये
PPF (पब्लिक प्रोविडेंट फण्ड)500 रूपये
डाक घर मंथली इनकम स्कीम (MIS)1000 रूपये
राष्ट्रीय बचत पत्र (NSC)1000 रूपये
राष्ट्रीय बचत समय जमा खाता (टीडी)1000 रूपये
किसान विकास पत्र (KVP)1000 रूपये
सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (SCSS)1000 रूपये
सुकन्या समृद्धि योजना में किये गए बदलाव

सुकन्या समृद्धि योजना को और बेहतर बनाए और आवेदकों को लाभ पहुँचाने के लिए योजना के नियमों में पाँच तरह बदलाव किये गए हैं, जिनकी जानकारी आवेदक यहाँ से प्राप्त कर सकते हैं।

डिफ़ॉल्ट अकाउंट पर भी दी जाएगी समान ब्याज दर

पीएम कन्या/SSY के अंतर्गत आवेदकों को अपना खाता जारी रखने के लिए हर वर्ष कम से कम 250 रूपये धनराशि खाते में जमा करवानी आवश्यक होती है, परन्तु यदि आवेदक यह राशि समय रहते जमा नहीं करवाते तो उनका खाता डिफ़ॉल्ट मान्य किया जाता है, जिसके तहत ऐसे डिफ़ॉल्ट खातों पर भी 12 दिसंबर, 2019 को अधिसूचित नए नियम के अनुसार सरकार द्वारा जमा राशि पर जारी किए जाने वाले ब्याज दरों को कम नहीं किया जाएगा, और खाताधारक बालिका को 21 वर्ष पूरे होने पर उन्हें बैंक द्वारा योजना में दिए जाने वाला एक समान 7.6% ब्याज दर और पोस्ट ऑफिस से 4 % ब्याज दर ही प्रदान किया जाएगा।

अकाउंट संचालन हेतु नियम

योजना में बनाये गए पहले नियम अनुसार आवेदक बालिका (अकाउंट होल्डर) के 10 वर्ष पूरे होने तक बालिका के खाते के संचालन की जिम्मेदारी माता-पिता को दी जाती थी, जिसके बाद 10 वर्ष पूरे हो जाने पर बालिका को खाते के संचालन हेतु उसे अकाउंट होल्डर बना दिया जाता था, जिसमे खाते के संचालन की जिम्मेदारी बालिका को प्रदान कर दी जाती थी। परन्तु अब सरकार द्वारा इस नियम में बदलाव किया गया है, जिसके तहत अब बालिका के 18 वर्ष पूर्ण हो जाने के बाद ही वह अपने खाते का संचालन कर सकेंगी और तब तक उनके अभिभावक ही इसका संचालन करेंगे।

दो बालिकाओं से अधिक अकॉउंट खुल सकेंगे

सुकन्या योजना में पहले यह अनिवार्य था की योजना का लाभ एक परिवार की केवल दो बलिकाओं को ही दिया जाएगा, परन्तु यदि परिवार में पहली बेटी के बाद दो जुड़वा बेटियाँ पैदा होती हैं तो ऐसी स्थिति में यह लाभ तीनो बेटियों को मिल सकेगा, इसके लिए आवेदक परिवार को बेटी के जन्म प्रमाण पत्र के साथ-साथ एफिडेविट भी जमा कारवाना आवश्यक होगा।

समय से पहले (Premature) अकाउंट बंद कारवाने के नियम

योजना के अंतर्गत मेच्यूरिटी की अवधि से पूर्व ही अकाउंट बंद करने के बहुत से कारण हो सकते हैं, जैसे यदि खाताधारक कन्या की किसी कारणवर्ष मृत्यु हो जाने पर, या बालिका के किसी गंभीर बिमारी या दुर्घटना का शिकार हो जाने पर अकाउंट जारी नहीं रखा जा सकता या फिर कन्या के इलाज या माता-पिता की मृत्यु हो जाने पर आर्थिक परेशानी के चलते यदि बालिका इसमें पैसे जमा नहीं करवा सकती, तो नए नियमो के तहत वह समय से पूर्व ही अपना अकाउंट बंद करवा सकते हैं।

अन्य बदलाव

सुकन्या समृद्धि योजना में सरकार द्वारा बहुत से अन्य नए बदलाव भी किये गए हैं, जिनमे बहुत से नियमो और अधिकारों को बदला गया है, जिसकी अभी कोई महत्त्वपूर्ण जानकारी सरकार द्वारा प्रदान नहीं की गई है, परन्तु जैसे ही यह जानकारी सरकार द्वारा प्रदान की जाती है, हम आपको उसकी सूचना प्रदान करवा देंगे।

सुकन्या समृद्धि योजना बचत खाता खुलवाने की प्रक्रिया

योजना के अंतर्गत दिए जाने वाले लाभ को प्राप्त करने के लिए बचत खाता आवेदक दी गई प्रक्रिया को पढ़कर खुलवा सकते हैं।

  • अबसे पहले आवेदक योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करें।
  • यहाँ होम पेज पर आपको आवेदन फॉर्म पीडीएफ डाउनलोड लिंक पर क्लिक करके पीडीएफ फॉर्म डाउनलोड करना होगा।
  • अब फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी आपको ध्यानपूर्वक भरनी होगी।
  • सारी जानकारी भर लेने के बाद उसमे माँगे गए सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ अटैच कर लेना होगा।
  • अब आपको फॉर्म को पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा करवा देना होगा।
  • जिसके बाद बालिका का बचत खाता खुल जाएगा।
पीएम कन्या योजना बैलेंस देखने की प्रक्रिया

पीएम कन्या योजना के अंतर्गत आवेदकों को उनका अकाउंट बैलेंस की जानकारी प्राप्त करने के लिए बैंकों या पोस्ट ऑफिस द्वारा पासबुक प्रदान की जाती है, यदि आवेदक ऑफलाइन अपना बैलेंस चेक करना चाहते हैं, तो वह अपने खाते की पासबुक को बैंक से एंट्री करवाकर अपने बचत खाते में धनराशि की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे या फिर ऑनलाइन माध्यम से अपने मोबाइल एप्प द्वारा वह अपना बैलेंस चेक कर सकते हैं या फिर इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल पर लॉगिन करके भी अपने खाते का बैलेंस देख सकेंगे।

Sukanya Samriddhi Yojana (Default) खाते को दोबारा खुलवाने की प्रकिया

सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत आवेदक माता-पिता को बालिका के खाते को खुलवाने के समय से लेकर हर वर्ष उसमे कम से कम 250 रूपये से लेकर 1.50 हजार रूपये धनराशि जमा करनी की सुविधा प्रदान की गई है। जिसके लिए अभिभावकों को हर वर्ष खाते में 250 रूपये जमा करवाने आवश्यक होता हैं, परन्तु यदि अभिभावक किसी वर्ष यह धनराशि जमा नहीं करवाते तो उनके खाते को बंद करवा दिया जाता है, ऐसे में आवेदकों को अपने डिफ़ॉल्ट खाते को दोबारा खुलवाने की भी सुविधा भी योजना में दी गई है।

आवेदक अभिभावक को अपना खाता फिर से जारी करने के लिए पेहले जिस भी वर्ष उन्होंने पैसे जमा नहीं करवाए उन्हें वह पैसे भरने होंगे, साथ ही उस साल के पैसों के साथ 50 रूपये की पेनल्टी भी भरनी होगी,जैसे मान लीजिये यदि आप हर वर्ष बैंक में 300 रूपये जमा करवाते हैं और दो वर्षों से आपने यह राशि जमा नही करवाई तो खाते को दोबारा खुलवाने लिए आपको दो महीने के पैसे यानि 600 रूपये के साथ उसमे लगी 50 रूपये की पेनल्टी यानि दो वर्षों की पेनल्टी को मिलकर 100 रूपये भी भरने होंगे यानी आपको दोबारा अकाउंट खुलवाने के लिए पूरे 700 रूपये जमा करवानी होगी, जिसके लिए आवेदक अपने पोस्ट ऑफिस या बैंक में जाकर वहाँ से दोबारा खाता खुलवाने के लिए फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं और उसमे जमा राशि के साथ पेनल्टी जमा करके बालिका का खाता दोबारा खुलवा सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर :- सुकन्या समृद्धि योजना से सम्बंधित सभी जानकारी हमने आपको पाने लेख में प्रदान करवा दी है , परन्तु यदि आपको इससे जुडी कोई अन्य जानकारी या समस्या हो तो आप इसके टोल फ्री नंबर : 18002666868 पर भी संपर्क करके अपनी समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़े प्रश्न/उत्तर

Sukanya Samriddhi Yojana क्या है ?

Sukanya Samriddhi Yojana भारत सरकार द्वारा जारी की गई योजना है, जिसके अंतर्गत सरकार देश के सभी नागरिकों को उनकी बालिका के छोटे बचत खातों को खुलवाने की सुविधा प्रदान करती है, जिससे अभिभावक अपनी बेटी के भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए उसकी पढ़ाई व शादी के लिए, उसके बड़े होने तक इन बचत खातों में हर वर्ष 250 रूपये धनराशि जमा कर सकते हैं।

योजना में आवेदक बालिका को जमा की जाने वाली धनराशि पर कितना ब्याज दर प्रदान किया जाएगा ?

योजना के अंतर्गत खाताधारक को 7.6% ब्याज दर प्रदान किया जाएगा।

योजना के अंतर्गत आवेदक बालिका के अभिभावक एक वर्ष में कितनी धनराशि बैंक खाते में जमा कर सकते हैं ?

योजना के अंतर्गत आवेदक बालिका के अभिभावक एक वर्ष में न्यूनतम 250 रूपये से अधिकतम 1.50 लाख रूपये तक की धनराशि अपनी स्थिति अनुसार खाते में जमा कर सकते हैं, परन्तु खाता जारी रखने के लिए हर वर्ष अभिभावकों को कम से कम 250 रूपये खाते में जमा करवाना अनिवार्य है।

SSY के अंतर्गत खाता बनवाने हेतु बालिका की कितनी आयु निर्धारित की गई है और यह राशि कब तक खाते में जमा करवानी पड़ती है ?

योजना के अंतर्गत आवेदन हेतु आवेदक बालिका की आयु यदि 10 वर्ष या इससे कम है, तभी अभिभावक उसका खाता बनवा सकते हैं, खाता खुलवाने के बाद 14 साल तक अभिभावकों को खाते में धनराशि जमा करवानी होगी।

आवेदक बालिका जमा राशि को कब निकाल सकती है ?

योजना में जमा राशि की परिपक्वता पूरे 21 साल तक रखी गई है, जिसके बाद ही आवेदक बालिका परपक्वता राशि निकलवा कर खाता बंद करवा सकती है, परन्तु यदि बालिका 18 वर्ष की होने पर अपनी उच्च शिक्षा के लिए पैसे निकलवाना चाहे तो वह इस धनराशि को निकाल सकती हैं लेकिन तब उन्हें केवल 50% यानी आधी राशि ही दी जाएगी और बाकी की राशि 21 वर्ष पूरी होने के बाद ही निकाली जा सकती है।

यदि समय पर पैसे जमा नहीं कारवाने पर डिफ़ॉल्ट लिस्ट में नाम आ जाए तो क्या खाते को दोबारा खुलवाया जा सकता है ?

जी हाँ यदि अभिभावक किसी भी वर्ष पैसे जमा नहीं करते और उनका खता डिफ़ॉल्ट मान्य कर दिया जाता है, तो वह इसे re-open करवा सकते हैं, इसके लिए उन्हें खाते में जितने भी वर्ष का पैसा जमा नहीं करवया है उसे जमा करके उसमे लगी एक वर्ष की 50 रूपये पैनल्टी को भी भरना होगा जिसके बाद उनका खाता दोबार शुरू कर दिया जाएगा।

Leave a Comment