सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले? लागत, मुनाफा, लाइसेंस रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया | शराब का ठेका कैसे मिलता है?

अगर देश के सबसे सदाबहार बिजनेस की बात की जाए तो शराब का ठेका इस सूची में पहले नंबर पर है। सर्दी हो या गर्मी शराब के शौक़ीन वर्ष के 12 महीनों शराब का सेवन करते है। ऐसे में शराब के ठेकों पर हमेशा आपको लोगों की भीड़ लगी हुयी दिखाई देती है।शराब के बिजनेस में कभी भी मंदी नहीं आती ऐसे में ज्यादातर लोग शराब का ठेका खोलना मुनाफे का सौदा मानते है। अगर आप भी अपने राज्य में शराब का ठेका खोलना (Sarkari sharab ki dukaan kaise khole) चाहते है और इस बात की लेकर असमंजस में है की इसके लिए आपको क्या करने पड़ेगा तो आपकी खोज आज ख़त्म होने वाली है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले? (Sarkari sharab ka theka kaise khole)

Alcohol Ban in India, Advantages Disadvantages

सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले
सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले

साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको सरकारी शराब के ठेका खोलने की लागत, मुनाफा, एवं सरकारी ठेका खोलने के लिए लाइसेंस रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया, शराब का ठेका कैसे मिलता है? (Alcohol Business in India in Hindi) सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में भी जानकारी प्रदान की जाएगी।

सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले? 

देश में शराब सम्बंधित व्यापार के लिए सरकार द्वारा आबकारी नीति बनायी गयी है। इसके तहत शराब के उत्पादन एवं बिक्री के लिए लाइसेंस अनिवार्य किया गया है। देश में शराब बेचने के इच्छुक नागरिकों को सरकार द्वारा जारी लाइसेंस अनिवार्य होता है तभी वे शराब की बिक्री कर सकते है। हालाँकि अधिकतर नागरिको इस बारे में जानकारी नहीं होती की सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले? (how to start alcohol business hindi) . इस आर्टिकल में आपको सरकारी शराब की दुकान कैसे खोले सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में बताया जायेगा।

यहाँ आप शराब के ठेके को खोलने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश सहित इसकी लागत, मुनाफा एवं लाइसेंस प्राप्त करने के लिए सभी आवश्यक बिंदुओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। शराब की दुकान खोलने के लिए बड़ी मात्रा में निवेश की आवश्यकता होती है ऐसे में शराब का ठेका खोलने से पूर्व आपको शराब का ठेका खोलने सम्बंधित सभी बिंदुओं के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है तभी आप इसके लिए सही तरीके से आवेदन कर सकते है।

Black Dog Scotch Whisky Price 2023: Updated Price List

इन बातों का रखें ध्यान

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए ना सिर्फ आपको अच्छा-ख़ासा निवेश करना पड़ता है अपितु इसके लिए आपको अन्य महत्वपूर्ण बातों को भी ध्यान रखना आवश्यक है। यदि आप शराब का ठेका खोलने से पूर्व इन बातों का ध्यान रखते है तो निश्चित रूप से ही आप आसानी से शराब के ठेके को संचालित कर सकते है :-

  • किसी भी राज्य में शराब का ठेका खोलने से पूर्व सम्बंधित राज्य की आबकारी नीति की जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है जिससे की बिजनेस को आसानी से संचालित किया जा सके।
  • सरकारी शराब का ठेका चलाने हेतु लाइसेंस राज्य सरकार द्वारा दिए जाते है ऐसे में राज्य सरकार द्वारा राज्य के लिए निर्धरित आबकारी नीति के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है।
  • शराब का ठेका चलाने एवं इसका लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको अच्छा-ख़ासा निवेश करना पड़ता है ऐसे में आपको आवश्यक निवेश के लिए तैयार रहना होगा।
  • शराब के ठेके का लाइसेंस पाने से पूर्व आपको इस सम्बन्ध में सभी आवश्यक जानकारियाँ एवं अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है तभी आप इस बिजनेस को सही से संचालित कर सकते है।
  • सरकारी शराब के ठेके का लाइसेंस ऑनलाइन माध्यम से टेंडर भरकर प्राप्त किया जाता है। ऐसे में सिर्फ राज्य सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में अधिकृत वेबसाइट के माध्यम से ही आवेदन करें। अन्य माध्यम से लाइसेंस पाने के चक्कर में आप अपने पैसों का नुकसान करवा सकते है।
  • यदि कोई व्यक्ति आपको शराब का लाइसेंस खोलने के लिए झाँसा देता है तो ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखें। सरकार द्वारा सरकारी शराब के ठेकों के लाइसेंस हेतु ऑनलाइन माध्यम से टेंडर प्रक्रिया जारी की जाती है ऐसे में सिर्फ ऑनलाइन माध्यम से ही अपना आवेदन जमा करें। अनाधिकृत स्रोतों से लाइसेंस पाने के चक्कर में आप ठगी का शिकार हो सकते है।
  • सरकारी शराब का ठेका खोलने हेतु सरकार द्वारा समय-समय पर सरकारी ठेकों के सम्बन्ध में जारी आबकारी नीति के बारे में जानकारी प्राप्त करते रहे।

सरकारी शराब के ठेकों के प्रकार

सरकारी शराब का ठेके 2 प्रकार के होते है- देशी शराब का ठेका और विदेशी शराब का ठेका। सरकारी शराब का ठेका खोलने से पूर्व आपको यह निश्चित करना होगा की आप देशी शराब का ठेका खोलना चाहते है या विदेशी शराब का। यहां आपको दोनों प्रकार के शराब ठेकों के बारे में जानकारी प्रदान की गयी है :-

  • देसी शराब का ठेका– देशी शराब के ठेके पर सिर्फ देशी शराब बेची जा सकती है। देशी शराब के ठेकों के लाइसेंस को प्राप्त करने की लागत एवं संचालित करने की लागत कम होती है। साथ ही इस प्रकार के ठेके पर अन्य कामों में भी कम लागत आती है। ग्रामीण एवं दुर्गम क्षेत्रों में प्रायः देशी शराब के ठेके अधिक मात्रा में होते है।
  • विदेशी शराब का ठेका– हमारे देश में सबसे अधिक मात्रा में विदेशी शराब के ठेके मौजूद होता है। प्रायः सभी शहरो एवं अन्य क्षेत्रों में आपको भारी मात्रा में विदेशी शराब के ठेके मिल जायेगे। इन ठेकों पर सभी विदेशी ब्रांड एवं अंग्रेजी ब्रांड की शराब मौजूद होती है। हालांकि देशी शराब के ठेके को खोलने की तुलना में इस ठेके को खोलने एवं संचालित करने की लागत कई गुना अधिक होती है।

सरकारी शराब का ठेका खोलने की लागत

सरकारी शराब का ठेका खोलने की लागत विभिन कारणों पर निर्भर करती है। सर्वप्रथम तो यह इस बात पर निर्भर करती है की आप देशी शराब का ठेका खोलना चाहते है या विदेशी शराब का। आपको बता दे की देशी शराब के ठेके के लाइसेंस की तुलना में विदेशी शराब के ठेके का लाइसेंस कई गुना महँगा होता है। साथ ही ठेके का आकार, ठेके पर उपलब्ध विभिन ब्रांड की शराब एवं अन्य चीजों के हिसाब से सरकारी ठेके की लागत तय होती है। सामान्यत विभिन चीजों को मिलाकर देशी शराब का ठेका खोलने के लिए 30 से 40 लाख रुपए तथा विदेशी शराब का ठेका खोलना के लिए 50 से 80 लाख रूपये खर्च होते है। यह रकम अलग-अलग कारणों से घट या बढ़ भी सकती है।

सरकारी शराब का ठेका कहां से मिलेगा?

रकारी शराब का ठेका लेने के लिए आपको राज्य सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में जारी आबकारी नीति के सभी नियमों एवं प्रावधानों के बारे में जानकारी प्राप्त करनी आवश्यक है। किसी भी राज्य में शराब के ठेके को आवंटित करने की जिम्मेदारी राज्य सरकार की होती है जो की सम्बंधित राज्य द्वारा जारी आबकारी नीति पर आधारित होती है। राज्य सरकार द्वारा प्रतिवर्ष राज्य के शराब ठेकों के लिए टेंडर आमंत्रित किए जाते है जिसके लिए आवेदन करने हेतु सभी नागरिक पात्र होते है। ऐसे में आप भी ऑनलाइन माध्यम से राज्य सरकार द्वारा जारी टेंडर को भर सकते है। इसके पश्चात टेंडर के माध्यम से चयनित व्यक्तिों को शराब का ठेका चलाने हेतु लाइसेंस दे दिया जाता है।

सरकारी शराब ठेका खोलना के लिए जमीन का चुनाव

सरकारी शराब के ठेके के लिए सही जगह का चुनाव करना भी आवश्यक है। माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा राष्ट्रीय राजमार्गों के नजदीक शराब के ठेके खोलना प्रतिबंधित किया गया है ऐसे में आपको इस सम्बन्ध में सभी दिशानिर्देशों के बारे में जानकारी होनी आवश्यक है। साथ ही शराब का ठेका खोलने के लिए आपको उपयुक्त माप की जगह का चुनाव करना आवश्यक है जहाँ आप आसानी से विभिन शराब के ब्रांड की आपूर्ति सुनिश्चित कर सके। साथ ही शराब के स्टोरेज के लिए उपयुक्त आकार के गोदाम का चयन भी आवश्यक है।

सरकारी शराब ठेके में मुनाफा

सरकारी शराब के ठेके पर मुनाफा कई गुना होता है। शराब की बिक्री में वर्ष भर में किसी भी प्रकार की कमी नहीं आती है ऐसे में आसानी से इस बिजनेस से प्रतिमाह लाखों रुपए कमाए जा सकते है। हालांकि शराब के ठेके में मुनाफा आपके ठेके के प्रकार एवं व्यापार पर भी निर्भर करता है। देशी शराब के ठेके की तुलना में विदेशी शराब के ठेके में मुनाफा अधिक है वही शराब के ठेके के आकार से भी मुनाफा तय होता है।

शराब के ठेके के लिए आवश्यक प्रबंध

शराब का ठेका खोलना ही पर्याप्त नहीं है अपितु आपको इसके लिए कुछ अन्य प्रबंध करने भी आवश्यक है। शराब के लिए उपयुक्त जगह का चयन करने के पश्चात आपको ठेके को इस प्रकार से व्यवस्थित करना होगा की सभी ग्राहकों को विभिन ब्रांड की शराब आसानी से नजर आयें। इसके लिए उपयुक्त शेल्फ एवं प्रकाश की व्यवस्था आवश्यक है। साथ ही शराब के ठेके की सुरक्षा एवं गोदाम की सुरक्षा के लिए भी आपको पर्याप्त इंतजाम करने होंगे।

सरकारी शराब का ठेका हेतु आवश्यक लाइसेंस

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज सरकारी ठेके का लाइसेंस होता है। यदि आप किसी भी स्टेट में शराब बेचना चाहते है तो इसके लिए आपके पास सरकारी ठेके का लाइसेंस होना आवश्यक है। सरकारी शराब के ठेके के लाइसेंस को प्राप्त करने के लिए आपको राज्य सरकार द्वारा जारी टेंडर के माध्यम से आवेदन करना होगा। इसके पश्चात चयनित सूची में आपका नाम आने पर आपको सरकारी शराब के ठेके का लाइसेंस दिया जाता है। सरकारी शराब के ठेके के लाइसेंस दो प्रकार के होते है :-

  • ऑन साईट लाइसेंस– ऑन साईट लाइसेंस प्रायः उन ठेकों को दिया जाता है जहाँ शराब बेचने के साथ उन्हें परोसने की सुविधा भी मौजूद होती है। इसका अर्थ है की लोग इन जगहों पर बैठकर शराब पी भी सकते है। प्रायः बार एवं रेस्टोरंट, होटल एवं अन्य शराब पिलाने वाले अड्डों को ऑन साईट लाइसेंस दिया जाता है जहाँ शराब की बिक्री के साथ पिलाने की सुविधा भी मौजूद होती है।
  • ऑफ साईट लाइसेंस– ऑफ साईट लाइसेंस उन ठेकों को दिया जाता है जहाँ शराब को सिर्फ बेचा जाता है एवं इन्हे पिलाने का लाइसेंस नहीं दिया जाता। प्रायः सभी शराब के ठेकों को ऑफ साईट लाइसेंस ही दिया जाता है जहाँ से आप सिर्फ शराब खरीद सकते है।

सरकारी शराब का ठेका लेने के लिए आवेदन प्रक्रिया

सरकारी शराब का ठेका लेने के लिए सभी राज्य सरकारों द्वारा अपने यहाँ प्रतिवर्ष टेंडर जारी किए जाते है। सरकारी शराब का ठेका लेने के लिए आपको निम्न प्रक्रिया का पालन करना होगा :-

  • सबसे पहले अपने राज्य की सरकार द्वारा सरकारी शराब के ठेकों में आवेदन हेतु जारी आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ। (ध्यान रखें की विभिन राज्यों के लिए आधिकारिक वेबसाइट अलग-अलग है)
  • इसके पश्चात आपको सरकार द्वारा जारी लिंक पर जाकर सभी आवश्यक जानकारियों को दर्ज करना होगा।
  • साथ ही आपको सरकार द्वारा मांगे गए सभी आवश्यक दस्तावेजों को भी जमा करना होगा (सभी राज्यों में आवेदन हेतु अलग-अलग नियम एवं दस्तावेज निर्धारित किए जाते है)
  • आवेदन में मांगी गयी सभी जानकारियों को भरकर एवं अन्य औपचारिकताओं को पूरा करने आपको इसके लिए निर्धारित आवेदन शुल्क को भी जमा करना होगा।
  • इसके पश्चात आप अपने आवेदन को अंतिम रूप से जमा कर सकते है।

यदि आप सभी पात्रताओं को पूरा करते है एवं आपके द्वारा निर्धारित आवेदन शुल्क भी जमा कर दिया गया है तो इसके पश्चात सरकार द्वारा आपके आवेदन स्वीकार करके आपको आवेदन नंबर प्रदान किया जायेगा। सभी आवेदन जमा होने के पश्चात सरकार द्वारा टेंडर को पास किया जाता है इसमें जिन भी लोगो का नाम आता है उन्हें सरकार द्वारा सरकारी शराब के ठेके का लाइसेंस दिया जाता है।

सरकारी शराब ठेका खोलने सम्बंधित महत्वपूर्ण बिंदु

सरकारी शराब ठेका खोलने के से पूर्व आपको सभी महत्वपूर्ण बिन्दुओ पर विचार-विमर्श करना आवश्यक होता है। साथ ही जिस राज्य में आप शराब का ठेका खोलना चाहते है उस राज्य की आबकारी नीति एवं सरकार द्वारा शराब ठेकों के सम्बन्ध में बनायीं गयी नीति एवं नियमों के बारे में जानकारी प्राप्त करना भी आवश्यक है। देश में बिहार, गुजरात, मिजोरम, लक्षद्वीप एवं नागालैंड राज्य की राज्य सरकारों द्वारा अपने राज्य में शराब पर प्रतिबन्ध लगाया हुआ है ऐसे में इन राज्यों में आप शराब का ठेका नहीं खोल सकते। साथ ही सरकारी शराब ठेका खोलने के लिए विभिन राज्यों द्वारा शराब ठेकों के लिए निर्धारित अलग-अलग नियमों के बारे में भी जानकारी होना आवश्यक है।

सरकारी शराब का ठेका कैसे खोले सम्बंधित प्रश्न

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए लाइसेंस किसके द्वारा जारी किया जाता है ?

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए लाइसेंस सम्बंधित राज्य की सरकार द्वारा जारी किया जाता है।

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए लाइसेंस कैसे प्राप्त करें ?

सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए (how to get license for wine shop) आपको सम्बंधित राज्य सरकार द्वारा जारी टेंडर को भरना होगा। इसके पश्चात यदि आपका टेंडर पास हो जाता है तो राज्य सरकार द्वारा आपको सरकारी शराब का ठेका खोलने के लिए लाइसेंस जारी कर दिया जाता है।

भारत में सरकारी शराब का ठेका कैसे खोलें ?

भारत में सरकारी शराब का ठेका (how to start alcohol business in india hindi) खोलने के बारे में जानकारी के लिए ऊपर दिया गया आर्टिकल पढ़े। यहाँ आपको इस सम्बन्ध में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की गयी है।

सरकारी शराब का ठेका लेने में कितना खर्चा आएगा?

सरकारी शराब का ठेका लेने में खर्चा आपके ठेके के चुनाव पर निर्भर करता है। देशी शराब के मुकाबले विदेशी शराब की दुकान का ठेका लेने में अधिक खर्चा आता है।

सरकारी शराब का ठेका लेने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या-क्या है ?

सरकारी शराब का ठेका लेने के लिए सभी राज्य सरकारों द्वारा अलग-अलग नियम एवं दस्तावेज निर्धारित किए गए है। आप अपने राज्य में सरकार द्वारा सम्बंधित दस्तावेजों की सूची के लिए आधिकारिक वेबसाइट को विजिट कर सकते है।

Leave a Comment

Join Telegram