गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में | Republic Day Essay in Hindi

तो दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है की जनवरी का महीना चल रहा है। जनवरी के महीने में हमारे देश का सबसे महत्वपूर्ण पर्व यानि के राष्ट्रिय पर्व जाता है। जिसको गणतंत्र दिवस के नाम से जाना जाता है। आप सभी इसके बारे में तो जानते ही होंगे की इसी दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। हमारे देश का संविधान 26 जनवरी वर्ष 1950 को लागू हुआ था। आप सभी को यह भी बता दे की हमारे देश का संविधान का निर्माण डॉ भीमराव अंबेडकर जी के द्वारा किया गया था। इस दिन को हमारे देश में काफी धूम धाम से मनाया जाता है। इस दिन को हमारे देश के सभी विद्यालयों में छात्र व छात्राओं के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। बहुत सी प्रतियोगिताओं का आयोजन भी किया जाता है जैसे की – निबंध, नृत्य, संगीत आदि। तो आज हम आपको यहाँ पर हम आपको गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में बताने वाले है।

26 जनवरी गणतंत्र दिवस भाषण हिंदी में | Republic Day Speech 2023

गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में |
Republic Day Essay in Hindi

जिसकी मदद से आप भी यह जान सकोगे की गणतंत्र दिवस निबंध हिंदी में कैसे लिखते है। ताकि आप भी गणतंत्र दिवस पर निबंध लिखना जान सके। इस लेख में हमने आज गणतंत्र दिवस के निबंध में बहुत सी जानकारी प्रदान की हुई है। तो दोस्तों क्या आप भी गणतंत्र दिवस पर निबंध लिखा जानते है। अगर हाँ तो उसके लिए आप सभी को हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा क्योंकि इस लेख में ही हमने 26 जनवरी यानि के गणतंत्र दिवस पर निबंध लिखा हुआ है। जिसको पढ़ने से ही आप इसके बारे में जान सकोगे और निबंध लिखना भी सीख सकोगे। तो दोस्तों इसलिए कृपया करके हमारे इस लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़े और इससे सम्बंधित अन्य जानकारी भी प्राप्त कर सकोगे।

इसपर भी गौर करें :- गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay on Republic Day in Hindi |

तो दोस्तों अब हम आप सभी को यहाँ पर गणतंत्र दिवस पर निबंध लिखने वाले है। जिससे आप भी Essay on Republic Day in Hindi जान सकोगे। तो दोस्तों इसलिए दी गयी जानकारी को ध्यान से पढ़िए और जाने की गणतंत्र दिवस पर निबंध कैसे लिखे

प्रस्तावना

हर वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसी दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। हमारे देश का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था। भारत पर बहुत सालों से ब्रिटिश लोगो ने राज किया था उसके बाद 15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेजों से आजाद हुआ था। उसके बाद भारत ने अपने आप को लोकतान्त्रिक देश घोषित किया। उस समय हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। हमारे देश ने आजादी के करीब ढाई वर्षों के बाद संविधान लागु किया था। क्योंकि भारत के संविधान को बनने में 2 साल 11 महीने 18 दिन का समय लगा था। जिसको डॉ भीमराव अंबेडकर जी के द्वारा बनाया गया था। जिसको 26 जनवरी 1950 को भारत सरकार के द्वारा पारित किया गया था। इसी उपलक्ष में हमारे देश में हर वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

गणतंत्र दिवस का महत्त्व

भारत का संविधान काफी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान माना जाता है। जिसको बनने के लिए 2 वर्ष 11 महीने व 18 महीने जितना अधिक समय लगा था। हमारे भारत के संविधान में देश के नागरिकों की प्रक्रियाओं, शक्तियों, कर्तव्यों, मौलिक अधिकारों और सिद्धांतों को भी निर्धारित किया गया है। क्योंकि गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है इसलिए इसी उपलक्ष में भारत देश में राष्ट्रीय अवकाश होता है। वैसे तो इस दिन महत्त्व पूर्ण देश में एक सामान ही होता है। लेकिन इस दिन का अधिक महत्त्व शिक्षा संस्थानों में देखने को मिलता है क्योंकि इस दिन देश के अधिकतर शिक्षा संस्थानों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। उसके साथ साथ इस दिन सभी शिक्षा संस्थानों में तिरंगा भी फेहराया जाता है।

भारतीय संविधान का इतिहास | History of Indian Constitutio

भारतीय गणतंत्र दिवस का इतिहास

26 जनवरी के दिन ही देश को कांग्रेस सरकार के द्वारा पूर्ण स्वराज घोषित किया गया था। क्योंकि इसी दिन हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। जिंसको बनने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन जितना अधिक समय लगा था। आपको बता दे की भारत के संविधान का चयन करने के लिए 22 समितियों को रखा गया था और उन्होंने ही भारत के संविधान के रूप में डॉ भीमराव अंबेडकर द्वारा लिखा गया संविधान का चयन किया था। संविधान सभा सभा के चयन के लिए 114 दिनों की लम्बी बैठक की गयी थी। इस बैठक में करीब 308 सदस्यों ने भाग लिया था। इस बैठक के मुख्य सदस्यों के रूप में बहुत से लोगो को रखा गया था जैसे की – मुख्य सदस्य डॉ राजेंद्र प्रसाद, पंडित जवहरलाल नेहरू, डॉ भीमराव अंबेडकर, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अब्दुल कलाम आजाद

इन सभी मुख्य सदस्यों के साथ साथ और भी कई लोग इस बैठक में शामिल थे। जैसे की – प्रेस वाले भी इसमें शामिल थे। भारत के संविधान की महत्वपूर्णता को बनाये रखने के लिए ही देश में हर वर्ष 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत का संविधान विश्व का सबसे बड़ा संविधान माना जाता है।

गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है?

गणतंत्र दिवस से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

  • इस दिन हमारे देश का कानून यानि के संविधान लागू हुआ था। जिसको डॉ भीमराव अंबेडकर जी के द्वारा लिखा गया था। जिसको बनाने के लिए 2 साल 11 महीने और 18 दिन जितना अधिक समय लगा था।
  • इस दिन हमारे देश के राष्ट्रपति जी के द्वारा राजपथ पर झंडा फेराय जाता है और परेड एवं झांकी आदि जैसे बहुत से सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
  • इसी दिन यानि के 26 जनवरी 1930 को भारत में पूर्ण स्वराज मनाया गया था। इस दिन ही भारत में अंग्रेजों के खिलाफ और आजफि का प्राण लिया गया था।
  • भारत में पहली बार गणतंत्र दिवस के पर्व का आयोजन राजपथ पर सन 1955 में आयोजित किया गया था।
  • भारत के प्रथम गणतंत्र दिवस के पर्व पर भारत के मुख्य अतिथि के रूप में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णों को निमंत्रित किया गया था।
  • गणतंत्र दिवस के शुभ उपलक्ष के दिन भारत देश के राष्ट्रपति को 31 तोपों के द्वारा सलामी दी जाती है।
  • इस दिन होने वाली परेड में तीनों सेनाओं के जवान भाग लेते है और देश के बहुत से राज्यों के द्वारा झांकियों को प्रदर्शन भी किया जाता है।

उपसंहार

जिस प्रकार से आज तक हम गणतंत्र दिवस बड़े ही धूम धाम और उत्साह के साथ मनाते आये है उसी प्रकार से आगे भी बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाते रहेंगे। इसी प्रकार से हमारे देश प्रगति करता रहेगा और आने वाले सालों में हमारा देश विश्व में सबसे सर्वोच्च होगा।

कुछ सम्बंधित प्रश्न व उनके उत्तर

गणतंत्र दिवस कब मनाया जाता है ?

हर वर्ष गणतंत्र दिवस 26 जनवरी के दिन मनाया जाता है।

गणतंत्र दिवस को मनाने का कारण क्या है ?

गणतंत्र दिवस को मनाने के पीछे एक कारण है वो यह है की इस दिन हमारा देश का संविधान लागू हुआ था इसलिए इस दिन हर वर्ष गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है।

देश का संविधान बनने में कितना समय लगा था ?

देश का संविधान बनने के लिए 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था।

भारत का संविधान किसके द्वारा बनाया गया था ?

भारत का संविधान डॉ भीमराव अंबेडकर जी के द्वारा बनाया गया था।

Leave a Comment

Join Telegram