Rashtriya Balika Diwas 2023 | राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है?

वर्तमान समय में देश की बेटियों ने हर क्षेत्र में अपना परचम लहराया है। प्रतिदिन देश की बेटियाँ हर क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित कर देश का नाम रोशन कर रही है। ऐसे में समाज में बेटियों को बराबरी का हक़ दिलाने एवं सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन किया जाता है। आज भी देश में बेटियों के जन्म को लेकर विभिन प्रकार की सामाजिक धारणाएँ व्यापत है जिसका खामियाजा मासूम बच्चियों को भुगतना पड़ता है। Rashtriya Balika Diwas के माध्यम से जागरूकता के द्वारा देश की बालिकाओं की स्थिति को और बेहतर करने के प्रयास किए जाते है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है? सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले है। साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आप यह भी जान सकेंगे की राष्ट्रीय बालिका दिवस (Rashtriya Balika Diwas 2023) का भारत की पूर्व प्रधानमन्त्री श्रीमती इंदिरा गाँधी जी से क्या सम्बन्ध है ?

Indian Army Day 2023 | भारतीय सेना दिवस कब है, थल सेना दिवस

राष्ट्रीय बालिका दिवस

राष्ट्रीय बालिका दिवस

देश में बालिकाओं को हर क्षेत्र में समान अधिकार प्रदान करने एवं बालिकाओं के प्रति होने वाली असमानताओं को दूर करने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन किया जाता है। इस दिवस के अवसर पर देश में बालिकाओं के अधिकारों को सुरक्षित करने एवं इसमें वृद्धि करने हेतु विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। वर्तमान समय में भी समाज में विभिन वर्गों में बालिकाओं के जन्म को लेकर विभिन प्रकार की भ्रांतियाँ मौजूद है ऐसे में बालिकाओं को जन्म लेने से पूर्व ही मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। लैंगिक भेदभाव एवं बालिका शिक्षा के प्रति उदासीनता समाज में लड़कियों के अधिकार का दमन कर देती है।

समाज में बालिकाओं के अधिकारों को सुरक्षित करने एवं उन्हें सभी क्षेत्रों में बराबरी का अधिकार देने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस के माध्यम से विभिन कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। साथ ही इस अवसर पर बालिकाओ के कल्याण हेतु विभिन नीतियां एवं कार्यक्रमों को भी संचालित किया जाता है।

प्रवासी भारतीय दिवस कब व कैसे मनाया जाता है।

राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है ?

राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) का आयोजन प्रतिवर्ष 24 जनवरी को किया जाता है। इस दिवस के अवसर पर देश में बालिकाओं को समान अधिकार एवं अधिकतम कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए विभिन कार्यक्रम एवं योजनाओं को संचालित किया जाता है। वर्ष 2023 में राष्ट्रीय बालिका दिवस 2023 (Rashtriya Balika Diwas 2023) का आयोजन मंगलवार, 24 जनवरी 2023 को किया जायेगा।

हालांकि यह याद रखना आवश्यक है वैश्विक स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस (International Day of the Girl Child) का आयोजन प्रतिवर्ष 11 अक्टूबर को किया जाता है

Rashtriya Balika Diwas, क्या है आवश्यकता

विभिन सामाजिक अंधविश्वासों एवं सामाजिक भ्रांतियों के कारण लम्बे समय से बालिका शिशु के जन्म को समाज में अभिशाप माना जाता रहा है। इसका परिणाम यह है की कन्या शिशु को जन्म से पूर्व ही कोख में मार दिया जाता है। वही कई बालिकाओं को जन्म के बाद लड़को के समान अधिकार प्राप्त नहीं होते एवं लैंगिक भेदभाव के कारण उन्हें शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार एवं अन्य अवसरों हेतु बराबरी का अधिकार नहीं दिया जाता है। ऐसे में बालिकाओं को अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में विभिन समस्याओ से जूझना पड़ता है।

समाज में बालिकाओं के प्रति व्याप्त असमानता को दूर करने एवं सभी क्षेत्र में बालिकाओ को समानता का दर्जा देने के लिए राष्ट्रीय बालिका दिवस (Rashtriya Balika Diwas) मनाया जाता है। इस दिवस के माध्यम से समाज को बालिका अधिकारों के बारे में जागरूक किया जाता है।

पराक्रम दिवस के रूप में मनाई जाती है सुभाषचंद्र बोस जयंती

राष्ट्रीय बालिका दिवस का इतिहास

Rashtriya Balika Diwas का आयोजन बालिकाओं के अधिकार एवं उन्हें सभी क्षेत्रों में बराबरी का अधिकार देने के सम्बन्ध में जागरूकता उत्पन करने के लिए किया जाता है। प्रतिवर्ष राष्ट्रीय बालिका दिवस 24 जनवरी को मनाया जाता है ऐसे में यह जानना दिलचस्प है की बालिका दिवस को 24 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है।

दरअसल इसके पीछे देश में नारी सशक्तिकरण का सबसे आदर्श उदाहरण है। 24 जनवरी 1966 ही वह महत्वपूर्ण वर्ष है जब देश की प्रथम महिला प्रधानमन्त्री इंदिरा गाँधी जी ने देश की प्रथम महिला प्रधानमन्त्री के रूप में शपथ ली थी। ऐसे में इस ऐतिहासिक दिवस का स्मरण करने के लिए प्रतिवर्ष 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाने की घोषणा महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वर्ष 2008 में की गयी थी एवं वर्ष 2009 ने प्रतिवर्ष 24 जनवरी को Rashtriya Balika Diwas के रूप में मनाया जाने लगा।

Rashtriya Balika Diwas का उद्देश्य

राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य देश में बालिकाओ के अधिकार के प्रति जागरूकता फैलाना है। भ्रूण हत्या, बालिकाओं के जन्म को लेकर फैले अन्धविश्वास एवं लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमतर आँकना एवं उन्हें विभिन क्षेत्र में बराबरी के हक़ से वंचित रखने जैसे मुद्दों को इस दिवस के माध्यम से उठाया जाता है।

इस दिवस के माध्यम से लैंगिक आधार पर होने वाले भेदभाव को दूर करने एवं समाज के हर क्षेत्र में बालिकाओं को बराबरी का हक़ देने के लिए विभिन कार्यक्रम संचालित किए जाते है। बालिका दिवस के माध्यम से सभी नागरिकों को बालिकाओं की शिक्षा एवं स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने एवं बेटियों को भी बराबरी का हक़ देने के लिए विभिन जागरूकता कार्यक्रम एवं योजनाएँ संचालित की जाती है।

बालिका हितों के लिए किए गए प्रयास

देश में बालिकाओं को बराबरी का हक़ देने एवं उन्हें समाज में समुचित अधिकार देने के लिए भारत सरकार द्वारा भी विभिन कार्यक्रम लांच किए गए है। 22 जनवरी 2015 को भारत सरकार द्वारा बालिकाओं के अधिकार सुनिश्चित करने एवं समाज में बालिकाओ के अधिकतम कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (Beti Bachao, Beti Padhao (BBBP)” योजना को लागू किया गया है जिसके माध्यम से बालिकाओं को विभिन प्रकार की सुविधाएँ प्रदान की गयी है। साथ ही कन्या भ्रूण हत्या को हतोत्साहित करने हेतु अभियान, बालिकाओं को समुचित शिक्षा के लिए बालिका छात्रवृति योजनाएँ, बालिका स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए विभिन योजनाएँ एवं हर क्षेत्र में बालिकाओं को अधिकतम अवसर प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा विभिन योजनाएँ संचालित की जा रही है।

Rashtriya Balika Diwas सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

राष्ट्रीय बालिका दिवस क्यों मनाया जाता है ?

राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) का आयोजन देश में बालिकाओं के कल्याण एवं अधिकारों के बारे में जागरूकता फैलाने हेतु किया जाता है।

राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है ?

Rashtriya Balika Diwas प्रतिवर्ष 24 जनवरी को मनाया जाता है।

राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन 24 जनवरी को ही क्यों किया जाता है ?

24 जनवरी 1966 के दिन ही प्रधानमन्त्री इंदिरा गाँधी ने देश की प्रथम महिला प्रधानमन्त्री के रूप में शपथ ली थी जो की देश में महिला सशक्तिकरण में मील का पत्थर है। ऐसे में इस ऐतिहासिक दिवस को स्मरण करने के लिए प्रतिवर्ष 24 जनवरी को National Girl Child Day मनाया जाता है।

बालिकाओं के हितों के लिए सरकार द्वारा कौन सी प्रमुख योजना चलाई जा रही है ?

बालिकाओं के हितों के लिए सरकार द्वारा “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ (Beti Bachao, Beti Padhao (BBBP) योजना को संचालित किया जा रहा है जिसे प्रधानमन्त्री द्वारा 22 जनवरी 2015 को लांच किया गया।

अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस कब मनाया जाता है ?

International Day of the Girl Child प्रतिवर्ष 11 अक्टूबर को मनाया जाता है।

Leave a Comment

Join Telegram