पुरानी सूखी खांसी का इलाज : Purani Sukhi Khansi Ka ilaj

मौसम बदलने से सर्दी, खांसी या जुखाम होना आम बात है, लेकिन खांसी का बार-बार होना या लंबे समय तक ठीक ना होने को अनदेखा करना भी समझदारी का काम नहीं है। सर्दी जुखाम होने के कारण सूखी खांसी बेहद ही समस्या का कारण बनी रहती है, जिससे शरीर, गले और पसलियों में दर्द होना इसके आम लक्षण है, सूखी खांसी को लंबे समय तक हलके में लेना या इसे आम समझकर लापरवाही करना आगे चलकर बड़ी समस्या जैसे टीबी, गले में इन्फेक्शन, फेफड़ों में संक्रमण, अस्थमा आदि बिमारी का भी कारण बन सकता है। कई लोग सूखी खांसी से राहत पाने के लिए कफ सिरप या दवाइयों का भी सेवन करते हैं लेकिन इसका भी कोई ख़ास असर खांसी पर नहीं होता, ऐसे में बहुत से घरलू इलाज ऐसे भी हैं जिन्हे अपनाकर पुरानी सूखी खांसी की समस्या से जल्द राहत पाई जा सकती हैं। पुरानी सूखी खांसी का इलाज नीचे दिए गए तरीकों से ख़त्म की जा सकती है।

माइग्रेन को कैसे दूर करें, आयुर्वेदिक इलाज

पुरानी सूखी खांसी का इलाज : Purani Sukhi Khansi Ka ilaj
पुरानी सूखी खांसी का इलाज : Purani Sukhi Khansi Ka ilaj

जाने क्या है पुरानी सूखी खांसी का इलाज

  • शहद – सूखी खांसी में शहद का सेवन खांसी से आराम दिलाने में बेहद ही फायेमंद होता है, दरअसल शहद में पाए जाने वाले एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल गुण, सर्दी जुखाम से होने वाले बैक्टीरिया से लड़ने और गले में खांसी से हो रहे दर्द से राहत पहुंचाने में काफी लाभकरी होता है।
  • तुलसी के पत्ते – पुरानी सूखी खांसी या अस्थमा के मरीजों के लिए तुलसी के पत्ते काफी आराम दिलाते हैं, इसके लिए तुलसी के पत्तियों को काली मिर्च, मुलेठी, मुनक्का, थोड़े से आटे का चोकर को पानी में आधा होने तक उबाले और ठंडा होने पर छान लें अब रात को इसे गर्म कर थोड़ी चीनी डालकर तीन से चार दिन नियमित रूप से पीए ऐसा करने से आपको सूखी खांसी से काफी आराम मिलेगा।
  • गरम पानी के गरारे – पुरानी सूखी खांसी में गरम पानी में हल्का सेंधा नमक घोलकर इसके सुबह और शाम दोनो समय गरारे जरूर करें इससे आपके गले में सेकन होगा और खांसी से हुई सूजन कम हो सकेगी।
  • हल्दी वाला दूध – हल्दी में मौजूद एंटी बैक्टीरियल, एंटी वायरल और एंटी इंफ्लेमैट्री गुण सर्दी जुखाम में खांसी से आराम दिलाने में काफी मददगार होता है, इसके लिए आधा चम्मच हल्दी को 1 गिलास गर्म दूध के साथ मिलाकर रोजाना पीने से पुरानी सूखी खांसी की समस्या से राहत पाई जा सकती है।
  • अदरक – सर्दियों में अक्सर अदरक की चाय पीने से गले को आराम और शरीर में गरमी आती है, ऐसे में सूखी खांसी होने पर एक चम्मच अदरक के रस को शहद के साथ खाने से या फिर अदरक को पानी में मिलाकर उसे छानकर शहद के साथ पीने से भी गले को सूखी खांसी से काफी आराम मिलता है।
  • प्याज और शहद – गले में सूखी खांसी से दर्द की समस्या से राहत पाने में प्याज का रस काफी लाभदायक होता है, यह गले के इन्फेक्शन को कम करने और गले को आराम दिलाने में काफी उपयोगी होता है। इसके लिए सूखी खांसी में आधे चम्मच प्याज के रस को एक छोटे चम्मच शहद में मिलकर दिन में दो बार पीने से सूखी खांसी से काफी राहत मिलती है।
  • मुलेठी – सूखी खांसी में मुलेठी के काढ़े से गले को काफी आराम मिलता है, जिसके लिए दो से तीन गिलास पानी में दो चम्मच मुलेठी के पाउडर को मिलाकर उबाले और 10 से 15 मिनट तक इसका भाप लें इससे सांस की नली को सूजन से राहत मिलेगी और गले को भी पूरी तरह आराम मिल सकेगा।

कफ और खांसी का घरेलू इलाज

Purani Sukhi Khansi Ka ilaj FAQ’s

सुखो खांसी के क्या नहीं खाना चाहिए ?

सूखी खांसी होने पर ठंडा पानी न पिएं, बर्फ न खाएं, ठंडी चीज़ों का सेवन न करें। अगर सर्दी में सूखी खांसी हो रही है तो गरम चीज़ों का सेवन करें जैसे – गाजर का हलवा, गर्म दूध और गुड़, गरमा-गर्म गुलाब जामुन, गर्म जलेबी आदि।

बहुत दिनों से खांसी ठीक नहीं हो रही है क्या करें ?

इससे निजात पाने के लिए आप भाप का सहारा ले सकते हैं, गर्म पानी में नीम्बू और शहद को मिलकर पी सकते हैं, शहद से गले की खराश ठीक होगी और साथ ही यह इन्फेक्शन से भी बचाएगा।

खांसी अगर ज्यादा हो तो डॉक्टर के पास कब जाएं ?

यदि आपकी खांसी को एक हफ्ते से अधिक हो गया है और आपको पीली कफ वाली खांसी हो रही हो या फिर बलगम बहुत ज्यादा निकल रहा हो तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

सूखी खांसी आने से क्या होता है ?

सूखी खांसी अगर वायरल इन्फेक्शन के कारण होती है तो यह अधिक हफ़्तों तक रह सकती है और इसे क्रोनिक भी माना जाता है। अधिक समय तक खांसी आना जानलेवा हो सकता है, इसे फेफड़ों का कैंसर भी हो सकता है।

Leave a Comment

Join Telegram