Pravasi Bharatiya Divas 2023 | प्रवासी भारतीय दिवस कब व कैसे मनाया जाता है।

मानव प्राचीन काल से ही बेहतर सम्भावनाओ की तलाश में एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रवास करता रहा है। दुनिया में सबसे अधिक प्रवासी नागरिको को बात की जाए तो भारत इस स्थान में पूरी दुनिया में प्रथम स्थान पर है। भारत की अर्थव्यवस्था, संस्कृति, भाषा एवं आर्थिक हितों को पूरा करने में प्रवासी भारतीयों का योगदान महत्वपूर्ण है। देश की आर्थिक संवृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए भारत सरकार द्वारा प्रति 2 वर्षो के अंतराल पर प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas) का आयोजन किया जाता है। यह दिवस भारतीय प्रवासियों के देश के साथ पुनः जुड़ने का सुनहरा अवसर होता है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले है। इस आर्टिकल के माध्यम से आप जान सकेंगे की प्रवासी भारतीय दिवस कब व कैसे मनाया जाता है। साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको प्रवासी भारतीय दिवस से सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण बिंदुओं से भी अवगत कराया जायेगा।

Pravasi Bharatiya Divas
प्रवासी भारतीय दिवस

प्रवासी भारतीय दिवस

देश के सीमा के बाहर देश की सबसे अमूल्य धरोहर की बात की जाए तो निःसंदेह ही प्रवासी भारतीय देश की सबसे अमूल्य सम्पति है। चाहे देश के हितों की बात की जाए या देश की आर्थिक, सांस्कृतिक एवं राजनैतिक धरोहर के प्रचार-प्रसार की, प्रवासी भारतीय विदेशो में देश के हितों की पूर्ति करने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। वर्ष 2021 की संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में लगभग 1.8 करोड़ (18 मिलियन) प्रवासी नागरिको के साथ भारत प्रवासी नागरिको की संख्या के मामले में प्रथम स्थान पर है। देश की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले प्रवासी भारतीय विदेशों में देश की संस्कृति के वाहक है जो की भारत के लिए सॉफ्ट-पावर के रूप में महत्वपूर्ण है। विदेशो में रह रहे प्रवासी भारतीयों के सम्मान के लिए प्रतिवर्ष प्रवासी भारतीय दिवस आयोजित किया जाता है।

प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है ?

प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas), 9 जनवरी को मनाया जाता है। सर्वप्रथम वर्ष 2003 में इस दिवस का आयोजन किया गया था जिसके पश्चात 9 जनवरी को इस दिवस को मनाया जाता है। Pravasi Bharatiya Divas 2023 का आयोजन 9 जनवरी 2023 को किया जायेगा।

17वें Pravasi Bharatiya Divas 2023 का आयोजन मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में किया जायेगा। इस कार्यक्रम के दौरान 8 जनवरी 2023 से 10 जनवरी 2023 तक कुल 3 दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किए जायेंगे।

Pravasi Bharatiya Divas 2023, थीम

Pravasi Bharatiya Divas 2023 के लिए भारत सरकार द्वारा थीम, “प्रवासी: अमृत काल में भारत की प्रगति के लिए विश्वशनीय साझीदार” (“Diaspora: Reliable Partners for India’s Progress in Amrit Kaal”.) रखी गयी है। देश की समृद्धि में प्रवासी भारतीयों के योगदान के लिए आभार प्रकट करने हेतु Pravasi Bharatiya Divas का आयोजन किया जाता है।

प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है ?

प्रवासी भारतीय दिवस को प्रतिवर्ष 9 जनवरी को आयोजित किया जाता है। 9 जनवरी 1915 के ऐतिहासिक दिन के मौके पर ही महात्मा गाँधी दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे। गाँधीजी के विदेश से भारत आगमन के अवसर पर ही प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन किया जाता है।

प्रवासी भारतीय दिवस को मनाने की शुरुआत वर्ष 2003 में तत्कालीन प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में शुरू हुयी थी। 9 जनवरी 2003 को ही प्रथम प्रवासी भारतीय दिवस मनाया गया था। वर्ष 2015 से प्रवासी भारतीय दिवस को प्रति 2 वर्षो में मनाने का फैसला लिया गया। इस दिवस के मौके पर कुल 3 दिनों तक कार्यक्रम आयोजित किए जाते है।

Pravasi Bharatiya Divas, उद्देश्य

Pravasi Bharatiya Divas का मुख्य उद्देश्य भारत के हितों में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले प्रवासी भारतीयों के प्रति आभार व्यक्त करना है। यह दिवस प्रवासी भारतीयों को भारत सरकार एवं अपने देश से पुनः जुड़ने के लिए एक मंच प्रदान करता है। इस दिवस के मौके पर प्रवासी भारतीयों के योगदान एवं कार्यों के प्रति सम्मान प्रकट करने के अतिरिक्त प्रवासी भारतीयों की समस्याओ के निस्तारण हेतु भी प्रभावी उपाय किए जाते है।

Pravasi Bharatiya Divas के मौके पर 3 दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया जाता है एवं इस मौके पर विशिष्ट उपलब्धि प्राप्त प्रवासी भारतीय नागरिकों को सम्मान एवं प्रवासी भारतीय पुरस्कार भी प्रदान किया जाता है।

देश निर्माण में प्रवासी भारतीयों की भूमिका

देश के आर्थिक, सांस्कृतिक एवं राजनैतिक रूप से प्रचार-प्रसार में प्रवासी नागरिको की महत्वपूर्ण भूमिका है। देश निर्माण में प्रवासी भारतीय निम्न प्रकार से भूमिका निभाते है :-

  • रेमिटेंस (remittance) के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था में योगदान (रेमिटेंस वह धन होता है जो प्रवासी भारतीय विदेशों से अपने परिवार को भेजते है)
  • भारत की संस्कृति के प्रचार-प्रसार में
  • देश के राजनैतिक हितों को साधने हेतु लॉबिंग करने में
  • विदेशों में देश के रेप्रेज़ेन्टिव के रूप में
  • दुनिया में भारत की सॉफ्ट-पॉवर के रूप में

प्रवासी भारतीय दिवस सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

प्रवासी भारतीय दिवस क्यों मनाया जाता है ?

प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन प्रवासी भारतीयों का देश की आर्थिक, सांस्कृतिक एवं राजनैतिक क्षेत्र में उन्नति एवं प्रचार-प्रसार में योगदान हेतु सम्मान एवं आभार प्रकट करने हेतु किया जाता है। यह दिवस प्रवासी भारतीयों को उनकी जड़ो से जुड़ने का मौका देता है।

प्रवासी भारतीय दिवस कब मनाया जाता है ?

प्रवासी भारतीय दिवस (Pravasi Bharatiya Divas), 9 जनवरी को मनाया जाता है।

Pravasi Bharatiya Divas 2023 की थीम क्या है ?

Pravasi Bharatiya Divas 2023 की थीम“प्रवासी: अमृत काल में भारत की प्रगति के लिए विश्वशनीय साझीदार” (“Diaspora: Reliable Partners for India’s Progress in Amrit Kaal”.) रखी गयी है जो की देश की आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर प्रवासी भारतीयों के योगदान को रेखांकित करती है।

प्रवासी भारतीय दिवस के इतिहास के बारे में जानकारी प्रदान करें ?

प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के अफ्रीका से स्वदेश लौटने के उपलक्ष में किया जाता है। 9 जनवरी 1915 के दिन ही महात्मा गाँधी ने अफ्रीका से स्वदेश वापसी की थी जिसके उपलक्ष में प्रतिवर्ष प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन किया जाता है।

दुनिया में सबसे अधिक प्रवासी किस देश के है ?

दुनिया में सबसे अधिक प्रवासी भारत देश के है। वर्ष 2021 की संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट के अनुसार दुनिया में लगभग 1.8 करोड़ (18 मिलियन) प्रवासी नागरिको के साथ भारत प्रवासी नागरिको की संख्या के मामले में प्रथम स्थान पर है।

Leave a Comment

Join Telegram