Post Office Senior Citizens Interest Rate: वरिष्ठ नागरिकों को मिल रहा बेहतर ब्याज पोस्ट ऑफिस की इस योजना में, पढ़ें पूरी जानकारी

Post Office Senior Citizens Interest Rate: पोस्ट ऑफिस द्वारा नागरिकों को लाभ प्रदान करने के लिए बहुत सी बचत योजनाओं की शुरुआत की जाती है, जिसमे किए गए निवेश पर नागरिकों को बेहतर ब्याज दरें प्रदान की जाती है, ऐसी ही एक योजना भारतीय डाक घर द्वारा देश के वरिष्ठ नागरिकों के लिए Senior Citizen Savings Scheme (SCSS) के नाम से शुरू की गई है, जिसमे 5 वर्ष की निर्धारित अवधि तक योजना में निवेश करने पर उन्हें बेहतर रिटर्न के साथ-साथ इनकम टैक्स में भी छूट प्रदान की जाती है।

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन योजना में मिल रहा बेहतर ब्याज

भारतीय डाक घर के माध्यम से देश के उन सभी वरिष्ठ नागरिकों को सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम का लाभ प्रदान किया जाएगा जिनकी आयु 60 वर्ष या अधिक है, ऐसे सभी नागरिकों को योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए पोस्ट ऑफिस में अपना अकाउंट खुलवाना आवश्यक होगा। योजना में वरिष्ठ नागरिक 1000 रूपये निवेश कर अपना खाता खुलवा सकेंगे। इसके अलावा योजना में 5 वर्षों की मैच्योरिटी अवधि पूरी होने तक आवेदक को इसमें निवेश करते रहना होगा। सेविंग स्कीम में किए गए निवेश पर नागरिकों को धारा 80C के तहत टैक्स पर भी छूट प्राप्त हो सकेगी, जिसके अंतर्गत आवेदक नागरिक अपनी सुविधा अनुसार न्यूनतम 1000 से लेकर अधिकतम 15 लाख रूपये की राशि पोस्ट ऑफिस में जमा करवा सकेंगे।

जाने SCSS में कीन्हे और कितनी मिलेगी ब्याज दरें

इस योजना के अंतर्गत 60 वर्ष की आयु के ऐसे नागरिक जिन्हे VRS यानी वोलंटरी रिटायरमेंट स्कीम का लाभ प्राप्त है, वह भी योजना में अपना अकाउंट खुलवाकर इसका लाभ प्राप्त कर सकेंगे। पोस्ट ऑफिस योजना जिसे स्मॉल सेविंग्स स्कीम के नाम से भी जाना जाता है, इसमें किए गए छोटे निवेश पर आवेदक लाभार्थी को 7.4% तक का ब्याज प्राप्त हो सकेगा, यह लाभ अन्य बचत योजनाओं व एफडी में दिए जाने वाले ब्याज दरों की तुलना से अधिक दिया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत नागरिक चाहें तो वह अपने व अपनी पत्नी का एक से अधिक जॉइंट या सिंगल अकाउंट बनवा सकेंगे, लेकिन उनके द्वारा बनाए गए सभी अकाउंट में जमा की गई निवेश राशि मिलाकर 15 लाख रूपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।

पोस्ट ऑफिस सीनियर सिटीजन योजना परिपक्वता अवधि

देश के वरिष्ठ नागरिकों को योजना में इसके मैच्योरिटी पीरियड (5 साल) की अवधि तक निवेश करना होता है। जिसमे उन्हें निर्धारित ब्याज दर प्रदान किया जाता है, इसके अलावा यदि लाभार्थी चाहें तो वह योजना की परिपक्वता अवधि पूरी हो जाने के बाद भी एक वर्ष के अंतर्गत निवेश जारी रखने के लिए एप्लीकेशन जमा करके योजना में परिपक्वता अवधि को तीन साल के लिए बढ़ा भी सकते हैं।

मैच्योरिटी से पहले कर सकेंगे अकॉउंट क्लोज

इस योजना के अंतर्गत लाभार्थी यदि चाहें तो आवश्यकता पड़ने पर योजना के मैच्योरिटी पीरियड से पहले भी अपना अकाउंट क्लोज करवा सकेंगे। परन्तु परिपक्वता अवधि से पहले अकाउंट क्लोज करने पर नागरिकों की निवेश राशि से कटौती की जाती है, जिसमे अकाउंट खुलवाने के 1 साल में इसे क्लोज करने के लिए जमा की गई राशि से 1.5 प्रतिशत और यदि आप 2 साल बाद अपना अकाउंट क्लोज करवाते हैं तो इसमें निवेश राशि से 1 प्रतिशत तक की कटौती की जाती है।

Leave a Comment