PM Awas Yojana: अगर इतने दिन घर में नहीं रहेंगे तो रद्द हो जाएगा आवंटन, जानिए योजना से जुड़े बिल्कुल नए नियम

PM Awas Yojana: भारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा यहाँ के गरीब नागरिकों की सहायता के लिए कई योजनाओं की शुरुआत की जाती है। ऐसी ही एक योजना सरकार ने देश के उन गरीबों के लिए की है जो कि कच्चे मकानों में निवास करते हैं और अपने लिए पक्के मकान बनाने में असमर्थ हैं। इस योजना का नाम पीएम आवास योजना है। आईये जानते हैं क्या है पीएम आवास योजना और क्या हैं इसके नए नियम। इन सभी जानकारियों के लिए आपको इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा। तभी आप इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर पाएंगे।

क्या है पीएम आवास योजना

देश के प्रधानमंत्री जी के द्वारा पीएम आवास योजना की शुरुआत जून 2015 में की गयी थी। इस योजना के अंतर्गत देश के उन सभी गरीब परिवारों को पक्के मकान की सुविधा प्रदान की जाएगी जो कि अपने लिए पक्के मकान बनाने में असमर्थ हैं। यह सुविधा गाँव शहर दोनों जगह उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए सरकार ने कुछ नियम लागू किये थे। कुछ समय पहले ही सरकार ने इन नियमो कुछ परिवर्तन किये हैं। यदि आप भी पीएम आवास योजना के लाभार्थी हैं तो आपके लिए यह जानना जरुरी है कि क्या हैं नए नियम। तो चलिए आपको इस लेख के द्वारा सारी जानकारी उपलब्ध कराते हैं।

कितने समय तक पीएम आवास में रहने से नहीं होगा आवंटन रद्द

जैसा की हमने आपको बताया की सरकार ने पीएम आवास योजना के नियमों में बदलाव किये हैं। इन नियमों के तहत हम आपको बता दें कि कितने समय पीएम आवास में रहने से इसका आवंटन रद्द नहीं होगा। अब नए नियमों के अनुसार पीएम आवास योजना का लाभ लेने वाले नागरिक को स्वयं पीएम आवास में कम से कम 5 साल तक रहना होगा। इन 5 सालों तक सरकार यह देखेगी की जो मकान लाभार्थियों को पीएम आवास योजना के अंतर्गत दिए गए हैं वो उनमे रह रहे हैं या नहीं। यदि कोई लाभार्थी पीएम आवास में खुद निवास नहीं कर रहा है या किसी और को किराए पे दे रखा है तो उसका आवंटन रद्द कर दिया जायेगा। इसीलिए लाभार्थी को 5 सालों तक पीएम आवास में रहना होगा।

क्या हैं नए नियम

पीएम आवास योजना में निम्नलिखित नियमों में बदलाव किया गया।

  • यदि कोई लाभार्थी पीएम आवास में 5 सालों तक स्वयं निवास नहीं कर रहा है तो उसका आवंटन रद्द कर दिया जायेगा। अर्थात लाभार्थी का इस मकान में 5 सालों तक रहना अनिवार्य है।
  • अगर कोई लाभार्थी ने पीएम आवास को किराए पर दिया है और उसमे खुद नहीं रह रहा है तो उसका आवंटन तो रद्द होगा ही, और साथ ही साथ आवेदन में लाभार्थी के द्वारा जमा की गयी धनराशि भी वापिस नहीं की जाएगी।
  • नए नियमों के तहत यदि किसी लाभार्थी की 5 साल के भीतर मृत्यु हो जाती है तो यह आवंटन उसी परिवार के किसी सदस्य को दिया जाएगा।
  • योजना के नए नियमों के अंतर्गत जो फ्लैट लाभार्थियों को दिए गए हैं उन फ्लैट्स में उनका पूर्ण रूप से अधिकार नहीं होगा। उनका भी 5 सालों तक इसमें रहना अनिवार्य है।

Leave a Comment