37 Places To Visit In Dehradun (2022) Places To Visit in Dehradun

37 Places To Visit In Dehradun :- गर्मी की छुट्टियों को मनाने के लिये अकसर लोग पहाड़ो का रुख करते है। आखिर चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने और सुकून के पल बिताने के लिये पहाड़ी हिल स्टेशन से बेहतरीन और कुछ भी नहीं है। देवभूमि उत्तराखंड के बिना पहाड़ो की बात अधूरी है ऐसे में अकसर लोग उत्तराखंड के हिल-स्टेशन में छुट्टियां बिताना पसंद करते है। अधिकतर पर्यटक छुट्टियों को बिताने के लिये हिल-स्टेशन को प्राथमिकता देते है परन्तु उत्तराखंड की शीतकालीन राजधानी देहरादून भी गर्मी की छुट्टियों को बिताने के लिये किसी टूरिस्ट-स्पॉट से कम नहीं है। देहरादून अपने सुहावने मौसम और हरियाली के लिये पर्यटकों के बीच पहले से ही प्रसिद्ध रहा है साथ ही यहाँ कई प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल भी है।

37 Places To Visit In Dehradun
37 Places To Visit In Dehradun

देहरादून के 37 दर्शनीय स्थल (places to visit in dehradun)

अगर आप भी उत्तराखंड में अपनी गर्मी की छुट्टियों को मनाने का प्लान कर रहे है तो देहरादून आपके लिये बेहतर विकल्प हो सकता है। आज के इस आर्टिकल का माध्यम से हम आपको देहरादून की ऐसी ही 37 पर्यटक स्थलों (37 Places To Visit In Dehradun (2022)के बारे में बताने जा रहे है जहाँ आप अपनी छुट्टियों को बिता सकते है। साथ ही आर्टिकल में आपको देहरादून के टूरिस्ट स्थल के बारे अतिरिक्त जानकारी भी प्रदान की जायेगी जिससे की आप अपनी छुट्टियों को यादगार बना सकते है।

Robber’s Cave, Gucchupani रोबर्स केव (गुच्चुपानी)

गर्मियों में अगर आप हिमालयी नदियों के ठन्डे पानी में नहाने का आनंद लेना चाहते है तो रोबर्स केव आपके लिए बेहतरीन विकल्प हो सकता है। शिवालिक हिमालय की गोद स्थिति रॉबर्स केव को स्थानीय भाषा में गुच्चुपानी भी कहा जाता है जो की देहरादून शहर में मात्र 8 किलोमीटर की दूरी पर है। 600 मीटर लम्बी यह गुफा लाइमस्टोन से बनी है जिसे नदियों ने 2 भागों में बाँट दिया है। गर्मियों में नंगे पैर रॉबर्स केव में चलना आपको किसी फिल्मी दृश्य से कम रोमांचकारी नहीं लगेगा। साथ ही आप यहाँ लोकल कुजीन का आनंद भी ले सकते है।

सहस्त्रधारा (Sahastradhara)

बाल्दी नदी पर स्थित सहस्त्रधारा झरना पर्यटकों के लिये देहरादून का सबसे प्रमुख दर्शनीय स्थल है। जैसे की सहस्त्रधारा नाम से ही विदित है की यह सहस्त्र यानी की हजार झरनो का समूह है। वास्तव में यहाँ कई छोटे-बड़े झरने है जो की हर वर्ष लाखो पर्यटकों को आकर्षित करते है। सहस्त्रधारा देहरादून से मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर है। सहस्त्रधारा में बहने वाले झरनों में गंधक (Sulphur) मिला रहता है ऐसे में यहाँ स्नान करना त्वचा रोगो के लिए भी लाभकारी है। साथ ही इसके आस-पास आप हिमालयी वनस्पतियों और प्राकृतिक सुन्दरत्ता का आनंद भी ले सकते है।

बुद्धा टेम्पल (Mindrolling Monastery)

भारत के सबसे बड़े बुद्धिस्ट सेंटर्स में से एक बुद्धा टेम्पल देहरादून के क्लेमेंटन-टाउन में स्थित है। इसे माइंडरोलिंग मोनेस्ट्री (Mindrolling Monastery) भी कहा जाता है जो की अपनी वास्तुकला के लिये प्रसिद्ध है। यह बौद्ध केंद्र आध्यात्मिक ज्ञान पाने के इच्छुक लोगो के आकर्षण का केंद्र बिंदु है इसलिए यहाँ हर दिन हजारो लोग शांति के लिए आते है। भगवान् बुद्ध के जीवन को यहाँ की वास्तुकला और पेंटिंग के द्वारा खूबसूरती से दर्शाया गया है ऐसे में लोगो को भगवान् बुद्ध के जीवन को जानने का मौका भी मिलेगा। शिवालिक पहाड़ियों के निकट स्थित यह बौद्ध मंदिर प्राकृतिक शांति और सौंदर्य का अनुपम उदाहरण है। चूँकि यह बस अड्डे के कुछ ही दूरी पर है ऐसे में पर्यटक आसानी से इस जगह को विजिट कर सकते है।

टपकेश्वर महादेव मंदिर (Tapkeshwar Mahadev Mandir)

भगवान शिव को समर्पित टपकेश्वर महादेव मंदिर देहरादून शहर में साढ़े 6 किलोमीटर को दूरी पर स्थित है। यह एक गुफा मंदिर है जो की श्रद्धालुओ के मध्य बहुत प्रसिद्ध है। इस मंदिर का सबसे बड़ा आश्चर्य यहाँ गुफा से शिवलिंग पर स्वतः ही टपकने वाला जल है। गुफा से शिवलिंग पर निरंतर जल टपकने के कारण ही इसे टपकेश्वर नाम मिला है। शिवरात्रि के दिन यहाँ विशाल मेले का भी आयोजन होता है। देहरादून भ्रमण के दौरान इस स्थान को विजिट करके आप अपनी यात्रा में कुछ आध्यात्मिक समय भी जोड़ सकते है।

पल्टन बाजार (Paltan Bazaar)

देहरादून का सबसे पुराने बाजारों में से एक पल्टन बाजार देहरादून का सबसे प्रमुख बाजार भी है। यह देहरादून के घंटा घर से शुरू होता है जो की डेढ़ किलोमीटर की परिधि तक फैला है। देहरादून के मध्य में स्थिति यह बाजार टूरिस्ट के लिये हमेशा से ही आकर्षण का केंद्र रहा है जहाँ आप दिन भर देहरादून के अन्य टूरिस्ट स्पॉट को एक्स्प्लोर करने के बाद घूम सकते है। गर्मियों की शाम को यहाँ घूमते हुये स्थानीय व्यंजनों का आनंद लिया जा सकता है। इसके अलावा आप यहाँ अपनी देहरादून यात्रा के लिये कुछ यादगार चीजें भी खरीद सकते है।

वन-अनुसंधान संस्थान (FRI)

अगर आप फिल्मो को देखने के शौकीन है तो आपने भी कभी ना कभी फिल्मो में FRI को जरूर देखा होगा। बॉलीवुड मूवी के अतिरिक्त यह जगह कई गानों में भी शूटिंग के लिये इस्तेमाल की गयी है यही कारण है की देहरादून आने वाले पर्यटक इस जगह को जरूर विजिट करते है। 1906 में स्थापित फारेस्ट-रिसर्च इंस्टिट्यूट पर्यटकों का पसंदीदा स्थान है जहाँ वे काष्ठ म्यूजियम और वास्तुकला का आनंद ले सकते है। अपने आर्किटेक और विशाल परिसर के लिये प्रसिद्ध FRI परिसर में पर्यटक अपना समय बिताना पसंद करते है।

देहरादून ज़ू (Dehradun Zoo)

देहरादून-मसूरी रोड पर स्थित देहरादून ज़ू भारत के सबसे बड़े चिड़ियाघरों में से एक है। प्रकृति प्रेमियों के बीच यह सदा से ही प्रसिद्ध रहा है जहाँ पर्यटक अपना समय बिता सकते है। बाघ, चीता, बारहसिंघा और अन्य जानवरो के साथ-साथ टूरिस्ट यहाँ विभिन प्रजाति की बर्ड्स और मछलियों को भी देख सकते है। साथ ही इस पार्क में उन्हें मगरमच्छ और शुतुलमुर्ग देखने का भी मौका मिलेगा।

विज्ञान धाम (Vigyaan Dham):– हिमालय संस्कृति को जानने के इच्छुक पर्यटकों के लिये सरकार द्वारा नवनिर्मित विज्ञान धाम को जरूर विजिट करना चाहिए। देहरादून शहर में स्थित इस संस्थान में हिमालय संस्कृति के सभी महत्वपूर्ण तत्वों जैसे की भूगोल, संस्कृति, पहनावा, पर्यटन, सभ्यता और अन्य पहलुओं का खूबसूरत चित्रण किया गया है जिससे की पर्यटक यहाँ से खूबसूरत यादे लेकर अपने साथ जा सकते है।

घंटाघर (Clock-Tower):- देहरादून का दिल कहे जाने वाला घंटाघर देहरादून के मध्य में स्थित है और शहर का लैंडमार्क कहा जाता है। इसके पास ही पर्यटकों को पल्टन बाजार और अन्य जगहों को देखने के मौका मिलता है ऐसे में अपनी छुट्टियों को दौरान इस प्लेस को जरूर विजिट करें। शाम के समय आप इस जगह में आइस-क्रीम और बेकरी सम्बंधित आइटम्स एन्जॉय कर सकते है।

पैसिफिक माल (Pacific Mall):- देहरादून का सबसे बड़ा और प्रसिद्ध पैसिफिक माल राजपुर रोड पर स्थित है। यहाँ टूरिस्ट विभिन लोकल और इंटरनेशनल ब्रांड्स की खरीददारी कर सकते है और साथ ही लोकल कुजीन का आनंद भी ले सकते है। राजपुर रोड पर स्थित होने से पर्यटक आस-पास के लोकल-रेस्टोरेंट को भी विजिट कर सकते है।

लच्छीवाला (Lacchiwalla):- फैमिली के साथ आने वाले पर्यटकों के लिये लच्छीवाला नेचर पार्क देहरादून के सबसे प्रसिद्ध टूरिस्ट अट्रैक्शन में से एक है। सोंग नदी के पास स्थित यह टूरिस्ट प्लेस फैमिली के साथ आने वाले पर्यटकों को जल-क्रीड़ा सम्बंधित सभी गतिविधियों जैसे स्विमिंग, बोटिंग और अन्य एडवेंचर एक्टिविटीज करने का मौका देता है। इसके अतिरिक्त आप नेचर-पार्क में घूमकर प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद भी ले सकते है।

राजाजी नेशनल पार्क (Rajaji National Park):- अगर आप जंगल सफारी का आनंद लेना चाहते है और हिमालयी सौंदर्य को पास से अनुभव करना चाहते है तो राजाजी नेशनल पार्क से बेहतर आपके लिये कुछ भी नहीं है। बाघ, चीता, घुरड़, बारहसिंघा, हाथी, मगरमच्छ और अन्य हिमालयी जन्तुओ के अतिरिक्त आप यहाँ हिमालयन वनस्पतियो का विभिन स्पीशीज का लुफ्त भी ले पायेंगे। हर साल देश-विदेश से लाखो लोग इस जगह को एक्स्प्लोर करने आते है जहां आप प्रकृति के सभी अद्भुत नजरो का एक साथ लुफ्त ले सकते है। अपने सौंदर्य के लिये प्रसिद्ध राजाजी टाइगर रिज़र्व में आप एडवेंचर के सभी पहलुओं से परिचित हो सकेंगे।

खलंगा युद्ध स्मारक (Kalinga War Memorial):- देहरादून में स्थित खलंगा वॉर मेमोरियल ब्रिटिशर्स द्वारा निर्मित युद्ध स्मारक है जो की देहरादून में दर्शनीय स्थल है। यह एकमात्र जगह है जिसे की अंग्रेजो द्वारा अपने प्रतिद्वंदियों के साहस और वीरता को सम्मान देने के लिये बनाया गया है। गोरखा वीर सैनिको के बलिदान और साहस को प्रदर्शित करने वाला यह स्थल पर्यटकों को जरूर एक्सप्लोर करना चाहिए। गोरखा सैनिको की याद में बनाया गया खलंगा युद्ध स्मारक हर साल हजार पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता है।

इठारना (itharna):- शिवालिक की गोद में स्थित इठारना नैसर्गिक सुंदरता को अपने अंदर समेटे है। घनी हरियाली से लैस यह स्थान पर्यटकों के मन को शांति पहुंचाने के लिये देहरादून के सबसे बेस्ट टूरिस्ट स्पॉट में से एक है। हिमालयी सौंदर्य के अद्भुत नज़ारे देखने और प्रकृति के साथ समय बिताने के लिये यह स्थल आदर्श है। यहाँ से आप हिमालय का क्लियर व्यू देख सकते है साथ ही आस-पास के गाँवो के माध्यम से आप स्थानीय संस्कृति की झलक भी ले सकेंगे। इस लोकेशन के बीच में पड़ने वाली छोटी-छोटी नदियो और झरनो में आप कुछ समय बिता सकते है और अपने शरीर को ताजगी से भर सकते है। इसके अतिरिक्त यहाँ आपको स्थानीय देवी-देवताओ के मंदिर भी देखने को मिलेंगे।

मालदेवता (maldevta):- देहरादून से 1 घंटे की दूरी पर लोकेटेड मालदेवता पर्यटकों के लिये आदर्श वीकेंड प्लेस साबित हो सकता है। स्थानीय नदी के किनारे स्थित यह जगह सुकून के कुछ पल बिताने के लिये सबसे अच्छी है जगह आप खाना भी बना सकते है। इसके अतिरिक्त कैंपिंग करने और नदी किनारे बैठने के लिये भी यह जगह अच्छा ऑप्शन है। फैमिली के साथ आने वाले टूरिस्ट के लिये इस जगह कैंपिंग करने और नदी में नहाने का विकल्प भी मौजूद है साथ ही वे आस-पास के गाँवो का भ्रमण भी कर सकते है। अगर आप पूरा दिन नेचर के साथ बिताने का प्लान कर रहे है तो देहरादून में यह सबसे अच्छा विकल्प है।

हर की दून (Har ki doon)- अगर आप भीड़-भाड़ वाले पर्यटक स्थलों से दूर शांत टूरिस्ट प्लेस खोज रहे है तो यकीन मानिये हर की दून आपके लिये आदर्श जगह साबित हो सकती है। मानवीय हस्तक्षेप के अनछुई और भीड़भाड़ से दूर हर की दून हिमालय की खूबसूरत चोटियों से घिरा है और पर्यटकों के लिये आदर्श सेनेरिक व्यू प्रस्तुत करता है। ट्रैकिंग और कैंपिंग करने के शौकीन लोगो के लिये यह सबसे आदर्श जगह है जहाँ आप ट्रेकिंग, कैंपिंग, हाईकिंग और अन्य अडवेंचरर एक्टिविटीज कर सकते है। आपके एडवेंचर जर्नी को नया आयाम देने के लिये यह परफेक्ट डेस्टिनेशन है जहाँ आप नेचर का मजा भी ले सकते है।

आसन बैराज (Assan Barrage):- देहरादून से 30-32 किलोमीटर दूर स्थित आसान बैराज पक्षी प्रेमियों (Bird lovers) के लिये बेहतरीन पर्यटक स्थल है। यमुना और आसन नदी के संगम पर लोकेटेड आसन बैराज देश के रामसर साइट्स में भी शामिल है जो की विदेशी पक्षियों का पसंदीदा स्थल है। सीजन में यहाँ विदेशी पक्षियों भरमार रहती है जो की यूरोप और रूस जैसे दूर-देशो से आते है। विदेशी पक्षियों के अतिरिक्त आप यहाँ देशी पक्षियों की विभिन प्रजातियों को भी देख सकेंगे। साथ ही विभिन जलीय जीवो को देखने के लिये भी यह आदर्श टूरिस्ट स्पॉट है।

श्री गुरु रामराय झंडा साहिब गुरुद्वारा (Shri Ram Rai Gurudwara)

देहरादून शहर के बीच स्थित श्री गुरु रामराय गुरुद्वारा सिखों का पवित्र तीर्थ स्थल है। हर वर्ष हजारो सिख श्रद्धालु यहाँ मत्था टेकने और झंडे साहिब जी के दर्शन करने आते है। ऐसी मान्यता है की श्री गुरु रामराय द्वारा ही इस स्थान पर डेरा डालने के कारण इस घाटी का नाम डेरादून पड़ा जो की बाद में देहरादून हो गया। होली के 5 दिनों बाद यहाँ बहुत बड़ा मेला लगता है। देहरादून शहर के मध्य में स्थिति होने के कारण आप आसानी से यहाँ पहुँच सकते है और झंडे साहिब जी के दर्शन भी कर सकते है।

श्री साईं मंदिर (Shri Sai Mandir):- देहरादून की राजपुर रोड पर लोकेटेड श्री साईं मंदिर भक्तो के बीच बहुत लोकप्रिय है। साथ ही मसूरी मार्ग पर स्थित होने के कारण यहाँ पर्यटकों की भीड़ भी लगी रहती है। अगर आप देहरादून घूमने का प्लान कर रहे है तो यह स्थान आपको लिये आध्यात्मिक शांति के लिये बेहतर ऑप्शन हो सकता है। बृहस्पतिवार को यहाँ विशेष आरती की जाती है जिसके बाद भक्तो को प्रसाद का वितरण भी किया जाता है। राजपुर रोड पर स्थिति होने के कारण आप यहाँ देहरादून के सुहावने मौसम का आनंद भी ले सकते है।

कलसी (Kalsi):- देहरादून से मात्र 49 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कलसी प्रकृति प्रेमियों और इतिहास में रूचि रखने वाले पर्यटकों के लिये किसी वरदान से कम नहीं है। कलसी में अशोक के 14 शिलालेखों में से एक शिलालेख स्थित है ऐसे में यह स्थान हमेशा से ही इतिहास के जिज्ञासुओ का प्रिय स्थान रहा है। वही अगर प्रकृति प्रेमियों की बात करें तो सूर्यास्त के समय यमुना के किनारे बैठना और यमुना की लहरों को अठखेलियाँ करते हुये देखना आपको किसी अलौकिक अनुभव से कम नहीं लगेगा। साथ ही आप चाहे तो यहाँ की हरियाली में प्रकृति भ्रमण का आनंद भी ले सकते है। पास में ही स्थानीय गाँवो में आप शाम को घूमकर शिवालिक की पहाड़ियों की मंद-मंद समीर को महसूस कर सकते है।

सूर्यधार झील (Suryadhar lake):- देहरादून के डोईवाला में स्थित सूर्यधार झील अधिकतर पर्यटकों के लिये वाटर-एक्टिविटीज के लिये स्पेस देती है। 550 मीटर लम्बी और 30 मीटर चौड़ी झील में टूरिस्ट बोटिंग का आनंद ले सकते है साथ ही आस-पास की हरियाली भी पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देती है। भीड़भाड़ से दूर नेचर को फील करने की इच्छा रखने वाले टूरिस्ट को इस जगह को जरूर विजिट करना चाहिए। यहाँ आपको बतख और अन्य जलीय जीवो को देखने का मौका भी मिलेगा।

माँ डाट-काली मंदिर (Maa Daat Kali Mandir)

देहरादून- सहारनपुर मार्ग पर स्थित माँ-डाट काली मंदिर देहरादून के प्रमुख मंदिरो में से एक है और श्रद्धालुओं के बीच प्रसिद्ध है। माँ काली को समर्पित इस मंदिर में वर्ष 1921 से ही अखंड ज्योति जल रही है ऐसे में हर वर्ष लाखो भक्त माँ काली के दर्शन के लिये यहाँ आते है। हाईवे के किनारे स्थिति होने के कारण टूरिस्ट को यहाँ पहुँचने में आसानी होती है। साथ ही शिवालिक पहाड़ियों के मध्य स्थिति होने के कारण आप यहाँ विश्राम करने का प्लान भी कर सकते है। संडे को यहाँ टूरिस्ट की भारी भीड़ लगती है जहाँ श्रद्धालु अपनी मनोकामना पूरी करने के लिये माँ काली को चढ़ावा भी चढ़ाते है।

तपोवन (Tapovan):- पहाड़ो की खूबसूरती और शांति को नजदीक से महसूस करने की चाह रखने वाले पर्यटकों के लिये तपोवन आदर्श स्थान साबित हो सकता है। खूबसूरत हिमालयी चोटियों से घिरा और प्रकृति के अद्भुत नजारों से भरपूर तपोवन सैलानियों के भ्रमण के लिये एक बेहतरीन जगह है जगह आप अपना क्वालिटी टाइम बिता सकते है। मन की शांति और आध्यात्मिकता के लिये प्रसिद्ध यह स्थान गुरु द्रोणाचार्य की तपस्थली भी रहा है जहाँ पर आपको मंदिर के दर्शन भी होंगे।

प्रकाशेश्वर महादेव मंदिर (Prakasheshwar Mahadev mandir):- देहरादून-मसूरी मार्ग पर स्थित प्रकाशेश्वर महादेव मंदिर भगवान शिव के भक्तो के लिये आध्यात्मिकता का केंद्र है। चूँकि यह मंदिर मुख्य मार्ग के पास ही स्थिति है ऐसे में अगर आप मसूरी जाने का प्लान कर रहे है तो कुछ क्षण यहाँ ठहरकर अपनी यात्रा को और भी यादगार बना सकते। यहाँ आपको स्फ़टिक लिंग के दर्शन करने का मौका मिलेगा इसके अतिरिक्त आप यहाँ से अपने लिये कुछ पवित्र चीजों को भी खरीद सकते है।

शिखर जलप्रपात (Shikhar Fall):- प्रकृति जलप्रपात देखने की इच्छा रखने टूरिस्ट के लिए शिखर-फाल आइडियल टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। चिलचलाती गर्मी में आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ इस वाटरफॉल में नहाने का आनंद ले सकते है। परिवार के साथ आप इस जगह की खूबसूरती का आनंद भी ले सकते है साथ ही आस-पास पक्षियों का कोलाहल और झरने की फुहार आपको प्रकृति की ताजगी का अहसास करवायेगी। यहाँ स्नान करने के बाद आप आस-पास की लोकल जगहों को भी विजिट कर सकते है जहाँ आपको नेचर के खूबसूरत दृश्य दिखाई देंगे।

चेटवूड हॉल (Chetwoode Hall):- हमेशा से ही भारतीय सेना में जाने के इच्छुक नागरिको को अट्रैक्ट करनी वाली भारतीय सैन्य अकादमी (IMA) टूरिस्ट के लिये भी कम अट्रैक्टिव नहीं है। आईएमए में स्थित चेटवूड हॉल में आप भारतीय सेना के गौरवशाली इतिहास की झलक देख सकते है साथ ही टूरिस्ट को यहाँ म्यूजियम और अन्य चीजों को देखने का मौका भी मिलेगा। यह जगह वन अनुसन्धान संस्थान से कुछ ही दूरी पर है ऐसे में आप यहाँ से एफआरआई विजिट करने का प्लान भी कर सकते है।

क्षेत्रीय नृविज्ञान संग्रहालय (Zonal Anthropological Museum):- अगर आप क्षेत्रीय संस्कृति में रूचि रखते है तो क्षेत्रीय नृविज्ञान संग्रहालय के माध्यम से आप अपने इस शौक को पूरा कर सकते है। देहरादून में स्थित यह संग्रहालय गढ़वाल हिमालय के प्राचीन मानवो को दैनिक दिनचर्या का खूबसूरत चित्रण करता है साथ ही उनके बारे में महत्वपूर्ण जानकारी भी प्रदान करता है। अगर आप प्राचीन संस्कृति और इतिहास की झलक पाना चाहते है तो यह जगह आपके लिये ही बनाई गयी है।

तिब्बतन मार्केट (Tibetan Market):- तिब्बती शरणार्थियो द्वारा बसाया गया तिब्बतन मार्केट देहरादून के लैंडमार्क में गिना जाता है। घंटाघर और पलटन बाजार के निकट स्थित होने के कारण सैलानी यहाँ आसानी से पहुँच सकते है। इस मार्केट से आप कपड़े, हैंडीक्राफ्ट, ज्वेलरी और क्षेत्रीय संस्कृति से सम्बंधित सामान ले सकते है। साथ ही तिब्बतन संस्कृति से जुड़ी चीजें भी आपको यहाँ आसानी से मिल जाएँगी। वही फ़ास्ट-फ़ूड के शौकीनों के लिये भी यह जगह परफेक्ट है। यहाँ आप नूडल्स, मोमो, स्प्रिंग रोल जैसे फ़ास्ट-फ़ूड का आनंद ले सकते है। साथ ही तिब्बतन कुजीन के लिये भी यह जगह पर्यटकों में प्रसिद्ध है।

वडिया संस्थान (Wadia Institute of Himalayan Geology)

1968 में स्थापित वाडिया हिमालय भूगर्भ-विज्ञान संस्थान पर्यटकों के लिये मोस्ट-विस्टिंग प्लेसेस में से एक है। भारत सरकार के विज्ञान और तकनीक मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले वाडिया संस्थान में हिमालय के भूगर्भ से सम्बंधित अध्ययन किया जाता है। यहाँ पर एक म्यूजियम भी बनाया गया है जहाँ टूरिस्ट हिमालय की उत्पत्ति, इसके भूगोल और प्राथमिक जीवो के बारे में जानकारी प्रदान करने वाली झलकियां देख सकते है।

भारतीय वन संस्थान (Wildlife Institute of India):- वन्य-जीवो के बारे में रूचि रखने वाले पर्यटकों को भारतीय वन संस्थान एक अलग ही अनुभव प्रदान करता है। 1982 में स्थापित इस संस्थान में वन्य- जीवों से सम्बंधित रिसर्च, संकटग्रस्त प्रजातियों, बायोडायवर्सिटी और वाइल्डलाइफ मैनेजमेंट सम्बंधित रिसर्च कार्य किया जाता है। भारत सरकार के पर्यावरण मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले इस संस्थान में आप वाइल्डलाइफ मैनेजमेंट सम्बंधित पहुलओं की जानकारी प्राप्त कर सकते है। चूँकि यह बस अड्डे से नजदीक ही है ऐसे में आप इस प्लेस को आसानी से विजिट कर सकते है।

फन-वैली (Fun Valley):- देहरादून-हरिद्वार मार्ग पर स्थित फन-वैली पार्क फैमिली के साथ एक्स्प्लोर करने की इच्छा रखने वाले लोगो के लिये परफेक्ट टूरिस्ट डेस्टिनेशन है। यहाँ आप वाटर-एडवेंचर एक्टिविटीज, मैरी-गो राउंड और स्विमिंग पुल का आनदं ले सकते है। साथ ही परिवार के साथ समय बिताने के लिये आप यहाँ स्थित रेस्तरॉ में भी विजिट कर सकते है जहाँ आप लोकल कुजीन का आनंद ले सकेंगे। छोटे-बच्चो को साथ में लाने वाले टूरिस्ट के लिये यह आइडियल हॉलिडे स्पॉट है।

केदारकांठा ट्रेक (Kedarkantha Trek):- देहरादून के पास स्थित केदारकांठा ट्रेक का अधिकांश भाग उत्तरकाशी डिस्ट्रिक्ट में पड़ता है। टोंस रिवर की पहाड़ियों से घिरा केदारकांठा ट्रेक ट्रैकिंग के शौकीनों के लिये सबसे पसंदीदा जगह है। हिमालय को मनोरमी चोटियों से घिरा केदारकांठा ट्रेक उत्तराखण्ड के सबसे खूबसूरत ट्रैकस में से एक है जहाँ हर वर्ष हजारो टूरिस्ट विजिट करते है। एडवेंचर के शौकीन प्रकृति प्रेमियों के लिये यहाँ आदर्श स्थल रहा है जहाँ आप ट्रैकिंग के साथ-साथ हाईकिंग, कैंपिंग और नाईट-स्टे जैसी एक्टिविटीज भी कर सकते है।

सुबीर राहा आयल संग्रहालय (Subir Raha Oil Museum)

अगर आप देहरादून घूमने आये है तो सुबीर राहा आयल संग्रहालय जरूर घूमने जायें। ONGC परिसर में स्थित इस संग्रहालय को ONGC के पूर्व चेयरमैन और MD सुबीर राहा की याद में स्थापित किया गया है जहाँ आपको देश के पेट्रोलियम इतिहास से सम्बंधित झलकियों को देखने का मौका मिलेगा। यहाँ आप देश की पेट्रोलियम चेन के विकास का पूरा चित्रण देखने को मिलेगा साथ ही आप पेट्रोलियम के विभिन उत्पादों और गुणों के बारे में भी जानकारी प्राप्त कर सकेंगे।

डाकपत्थर (Dakpathar):- देहरादून के विकासनगर के पास स्थित डाकपत्थर प्रकृति के नजारो से भरपूर है। यहाँ आपको हिमालयी नदियाँ, प्राकृतिक वनस्पति और दुर्लभ नज़ारे देखने को मिलेंगे। साथ ही प्रकृति का शांत वातावरण, गुनगुनी धूप और शीतल हिमालयी जल आपकी पर्यटन की जिज्ञासा को पूरा करने के लिये पर्याप्त है। अगर आप देहरादून में भीड़-भाड़ से दूर शांत टूरिस्ट प्लेस की तलाश कर रहे है तो यह जगह आपके लिये परफेक्ट है। साथ ही आप समय लगने पर आस-पास के गाँवो का भ्रमण भी कर सकते है और लोकल व्यंजनों का स्वाद भी ले सकते है।

चंद्रबनी मंदिर (Chandrabani Mandir):- माँ चंद्रबनी को समर्पित यह मंदिर श्रद्धालुओं के लिये आस्था का केंद्र है। अगर आप आध्यात्मिक अनुभूति पाना चाहते है तो आपको इस मंदिर को जरूर विजिट करना चाहिए। ऐसी मान्यता है की गौतम ऋषि द्वारा अपनी पत्नी और पुत्री के साथ इस स्थान पर निवास किया गया था जिसके बाद इस स्थान को प्रसिद्धि मिली। अगर आप अपने परिवार के साथ देहरादून घूमना आना चाहते है तो इस जगह का दर्शन अवश्य करें।

रामकृष्ण आश्रम (Ramakrishna Ashrama):- राजपुर रोड पर स्थित रामकृष्ण आश्रम स्वामी विवेकानंद के गुरु रामकृष्ण परमहंस को समर्पित आश्रम है जो की रामकृष्ण मिशन आश्रम के अंतर्गत संचालित किया जाता है। आध्यात्मिक शांति की तलाश में यहाँ हर दिन हजारो लोग आते है और दिव्य अनुभूति प्राप्त करते है। राजपुर रोड पर स्थित यह आश्रम मसूरी मार्ग के पास है ऐसे में टूरिस्ट को यहाँ पहुंचने के लिए ख़ास मेहनत करने की जरूरत नहीं पड़ती है। अगर आप अपनी जर्नी में कुछ शांति के पल ऐड करना चाहते है तो आपको इस आश्रम को जरूर विजिट करना चाहिए।

क्रिप्टोगैमिक गार्डन (cryptogamic garden):- अगर आप अपनी देहरादून यात्रा को और भी रोमांचकारी बनाना चाहते है तो आप क्रिप्टोगैमिक गार्डन को विजिट कर सकते है। भारत का पहला क्रिप्टोगैमिक गार्डन देहरादून में खोला गया है जहाँ आप क्रिप्टोगैमिक फैमिली से सम्बंधित मॉस, शैवाल, फ़र्न और लाइकेन जैसी पौधों का दीदार कर सकते है। हमेशा नया खोजते रहने वाले पर्यटकों के लिये यह जगह कुछ नया अनुभव प्रदान कर सकती है।

Leave a Comment