Pension Rules Change : 30 नवंबर तक तुरंत करें ये काम, नहीं तो बंद हो जाएगी पेंशन

अगर आप पेंशनभोगी है या आपके घर में कोई पेंशनभोगी बुजुर्ग है तो आपको सरकार द्वारा पेंशन नियमो में किये गए बदलाव के बारे में अवगत होना चाहिए। सरकार द्वारा पेंशन से संबंधित Pension Rules Change किये गए है और Pension Rules Change से संबंधित नियमो को पूरा करने के लिए 30 नवंबर तक की डेट दी गयी है। अगर आप Pension Rules Change हुए नियमों का पालन नहीं करते है तो आपकी पेंशन बंद हो जाएगी हो जाएगी या पेंशन मिलने में आपको दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इस लेख में हमे आपको Pension Rules Change हुए नियमों के बारे में बता रहे है तो इन नियमों को जाने और 30 नवंबर तक तुरंत करें ये काम नहीं तो बंद हो जाएगी पेंशन तो आइये जानते है।

Pension Rules Change क्या है नए नियम

सरकार द्वारा Pension Rules Change किये गए है जो की 1 अक्टूबर 2021 से लागू किये जाएंगे। Pension Rules के नए नियमों के अनुसार पेंशन प्राप्त करने वाले सभी बुजुर्ग जिनकी आयु 80 वर्ष से ऊपर है को अपना डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (digital life certificate) उन डाकघरों में जहाँ उनकी पेंशन आती है के जीवन प्रमाण केंद्रों में जमा करवाना होगा। सरकार द्वारा इस कार्य के लिए  30 नवंबर 2021 तक की तिथि निर्धारित की गयी है। अगर आप 30 नवंबर 2021 तक यह कार्य नहीं करते है तो आपकी पेंशन बंद हो जाएगी अथवा आपको पेंशन मिलने में दिक्कत आ सकती है। तो अगर आप भी पेंशनभोगी है तो तुरंत यह काम कर दें। जीवन प्रमाण केंद्र भारत के सभी प्रमुख डाकघरों में उपस्थित है जहाँ पेंशन लेने वाले व्यक्ति का जीवन प्रमाण-पत्र जमा करवाया जाता हैऔर इसे सत्यापित करने के बाद ही उस व्यक्ति की पेंशन को अग्रसारित किया जाता है।

जीवन प्रमाण-पत्र किसी भी व्यक्ति के जीवित होने का प्रमाण होता है जो की पेंशनधारी व्यक्ति की स्थिति जानने के लिए की वह जीवित है या नहीं उपयोग किया जाता है। पहले बुजुर्गो को जीवन प्रमाण-पत्र बनाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ते थे परन्तु अब इस प्रक्रिया को ऑनलाइन कर दिया गया है जिससे बुजुर्गों को आसानी हो व जीवन प्रमाण-पत्र प्राप्त करने की प्रक्रिया भी सरल हो।

क्या है जीवन-प्रमाण पत्र

जीवन प्रमाण-पत्र किसी पेंशनधारी की जीवित होने का प्रमाण होता है। सरकार के सामने बहुत से ऐसे मामले आये जहाँ पेंशन लेने वाला व्यक्ति मर गया हो परन्तु परिवार द्वारा उसकी मृत होने की बात छुपकर लम्बे समय तक पेंशन प्राप्त की जाती रही। इसी प्रकार से बहुत से मृत व्यक्तियों की पेंशन भी लम्बे समय तक आती रही। इन सब चीजों को रोकने हेतु सरकार द्वारा हर वर्ष पेंशनभोगी व्यक्ति का जीवन प्रमाण-पत्र माँगा जाता है। जीवन प्रमाण-पत्र सत्यापित करने के बाद ही पेंशनभोगी व्यक्ति की पेंशन उसके खाते में भेजी जाती है। जीवन प्रमाण-पत्र को जमा करने हेतु भारत के सभी प्रमुख डाकघरों में जीवन प्रमाण केन्द्र बनाये गए है जहाँ जीवन प्रमाण-पत्र जमा कराये जाते है।

नए नियमों में सरकार ने 80 साल से ऊपर के सभी पेंशनधारियों को 30 नवंबर 2021 से पहले अपने डिजिटल जीवन प्रमाण-पत्र डाकघरों के जीवन प्रमाण-पत्र केंद्रों में जमा करने के निर्देश दिए है। इसके लिए भारत सरकार के डाक विभाग ने सभी डाकघरों को अपने जीवन प्रमाण-पत्र केंद्रों की अपनी ID को सक्रिय रखने के निर्देश दिए है।

जीवन प्रमाण-पत्र कैसे बनायें

अब आपको जीवन प्रमाण-पत्र के लिए इधर-उधर भटकने की जरुरत नहीं। सरकार द्वारा सभी सरकारी सेवाओं को डिजिटल किया जा रहा है अतः अब आप अपना डिजिटल जीवन प्रमाण-पत्र ऑनलाइन भी बना सकते है।

अतः आप भी जल्दी से अपना डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट (digital life certificate) बनवा ले और सरकार के नये नियमों के अनुसार डाकघर के जीवन प्रमाण केंद्रों में तय समय सीमा के भीतर जमा करवा ले ताकि आपकी पेंशन समय-समय पर आप तक पहुँचती रहे।

रिटायरमेंट बाद हर महीने 50,000 रुपये पेंशन, जानें कैसे

ऐसे ही सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट crpfindia.com को बुकमार्क करके रखें।

Leave a Comment