(मैरिज रजिस्ट्रेशन) विवाह पंजीकरण 2022: शादी प्रमाण पत्र ऑनलाइन आवेदन व स्टेटस

केंद्र सरकार द्वारा देश के सभी विवाहित जोड़ों के लिए अब विवाह पंजीकरण (Marriage Registration) करना अनिवार्य कर दिया गया है। सभी पात्र नागरिक जो भी विवाहित है पंजीकरण के माध्यम से अपना विवाह पंजीकरण सर्टिफिकेट प्राप्त कर सकते है। सभी नागरिको को विवाह पंजीकरण में आसानी हो इसके लिए सरकार द्वारा इस प्रक्रिया को सरल बनाते हुये ऑनलाइन कर दिया गया है। अब नागरिक घर बैठे ही मैरिज रजिस्ट्रेशन के लिए अप्लाई कर सकते है। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की विवाह पंजीकरण 2022 (Marriage Registration) क्या है ? इसके लाभ, उद्देश्य और जरुरी दस्तावेज क्या-क्या है ? साथ ही इस लेख के माध्यम से आप Vivah Panjikar की प्रक्रिया से भी अवगत होंगे।

Marriage Registration

विवाह पंजीकरण (Marriage Registration), उद्देश्य

सरकार द्वारा अब सभी नागरिको के लिए अपने विवाह को पंजीकृत करवाना आवश्यक कर दिया गया है। अकसर लोग शादी के बाद पंजीकरण की प्रक्रिया से अवगत नहीं होते और साथ ही Marriage Registration भी नहीं करवाते। इसका कारण इस सम्बंधित में सटीक जानकारी ना होना है। परन्तु अब सरकार द्वारा नागरिको के लिए विवाह को पंजीकृत करवाना जरुरी कर दिया है। विवाह का पंजीकरण ना करने से सरकार द्वारा चलायी जा रही कई योजनाओ के लाभ से वंचित किया जा सकता है साथ ही Marriage Registration को ही सरकार द्वारा शादी का वैध दस्तावेज माना जाता है ऐसे में हर किसी के लिए मैरिज रजिस्ट्रेशन करवाना आवश्यक कर दिया गया है। विवाह पंजीकरण ना सिर्फ नागरिको की शादी का लीगल दस्तावेज होता है बल्कि इसके माध्यम से महिलाओ को भी विभिन प्रकार के अधिकार मिलते है।

इसके अतिरिक्त भी यह दस्तावेज कई कार्यो के लिए महत्वपूर्ण है। साथ ही मैरिज सर्टिफिकेट के माध्यम से बाल-विवाह, घरेलू हिंसा और महिलाओं के शोषण पर भी लगाम लगायी जा सकेगी। सभी नागरिको को विवाह पंजीकरण का लाभ आसानी से मिले इसके लिए सभी राज्य सरकारों द्वारा आधिकारिक पोर्टल भी लांच कर दिया गया है जिसके माध्यम से नागरिक घर बैठे ही विवाह पंजीकरण (Marriage Registration) कर सकते है। इससे ना सिर्फ नागरिको के समय की बचत होगी बल्कि ये प्रक्रिया अत्यंत सरल भी बनायीं गई है। इसके लिए आपको कुछ शुल्क भी चुकाना पड़ेगा।

विवाह पंजीकरण के लाभ

विवाह पंजीकरण (Marriage Registration) के निम्न लाभ है :-

  • यह नागरिको की शादी का वैध क़ानूनी दस्तावेज होता है।
  • इसके द्वारा नागरिको को विवाह प्रमाणपत्र प्रदान किया जाता है जिसे कई योजनाओ और कई जगहों पर प्रूफ के तौर पर यूज़ किया जाता है।
  • Marriage Registration के द्वारा महिलाओ के अधिकारों की रक्षा सुनिश्चित होती है साथ ही उन्हें अपने अधिकारों के लिए समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता।
  • चूँकि सिर्फ निर्धारित आयु पर शादी करने वाले नागरिको को ही शादी प्रमाणपत्र जारी किया जाता है ऐसे में बाल-विवाह जैसी कुप्रथाओं पर भी लगाम लगती है।
  • विवाह पंजीकरण (Marriage Registration) से नागरिको को शादी का वैध प्रमाणपत्र प्राप्त होता है।
  • शोषण और घरेलू हिंसा के जैसे मामलो से निपटारे के लिए भी Marriage Registration अनिवार्य है।

आवश्यक पात्रता

देश में विवाह पंजीकरण के लिए नागरिको को सरकार द्वारा निर्धारित उम्र सीमा पूरा करना जरुरी है जो की लड़कियों के लिए 18 साल और लड़को के लिए 21 साल रखी गयी है। साथ ही उन्हें भारत का नागरिक होना अनिवार्य है। इसके अतिरिक्त भी उन्हें सरकार द्वारा निर्धारित अन्य मानकों को भी पूरा करना होगा। अगर पति-पत्नी में से किसी का पहले विवाह से तलाक हो चुका है तो उन्हें तलाक का सर्टिफिकेट दिखाना भी जरूरी है।

ये है जरूरी दस्तावेज

  • वर-वधु का आधार कार्ड
  • वर-वधु का निवास प्रमाणपत्र
  • विवाहित जोड़े का आयु प्रमाणपत्र
  • शादी का कार्ड
  • वर-वधु की शादी की फोटो
  • शादी के 2 गवाहों के सभी जरूरी प्रमाणपत्र (आवेदन पत्र पर हस्ताक्षरकर्ता )
  • वर-वधु के पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • अगर शादी विदेश में हुई है तो इस स्थिति में एंबेसी द्वारा जारी NOC (No Objection Certificate) सर्टिफिकेट दिखाना जरूरी होगा

विवाह पंजीकरण (Marriage Registration), ऑनलाइन आवेदन

विवाह पंजीकरण (Marriage Registration) के लिए वर-वधु को मैरिज रजिस्ट्रारर (Marriage registrar) या सब-रजिस्ट्रारर (Sub registrar) के माध्यम से पंजीकरण करवाना होगा। जानकारी के लिए बता दे की देश के सभी राज्यों की सम्बंधित सरकारों द्वारा Marriage Registration के लिए ऑनलाइन पोर्टल लांच किया जा चुका है। आप इन स्टेप्स को फॉलो करके ऑनलाइन आवेदन कर सकते है।

  • सबसे पहले सम्बंधित राज्य की पंजीकरण विभाग (Registration Department) आधिकारिक वेबसाइट पर जाएँ।
  • यहाँ आपको होमपेज पर मैरिज रजिस्ट्रेशन का ऑप्शन दिखेगा। इस पर क्लिक कर दे।
  • इसके बाद आप सभी मांगी गयी जानकारी भर दे साथ ही अन्य सभी दस्तावेजों को भी अपलोड कर दे।
  • इसके बाद अन्य फॉर्मलिटीज पूरी करके आप विवाह रजिस्ट्रेशन का प्रोसेस पूरा कर सकते है।
  • सभी औपचारिकताएँ पूरी करने के बाद आपको रेफरन्स नंबर दिया जायेगा इसे सुरक्षित कर ले।

आपको बता दे की ऑनलाइन आवेदन का प्रोसेस यही पूरा नहीं होता। ऑनलाइन पंजीकरण करवाने के बाद आपको सब-रजिस्ट्ररर द्वारा एक नियत तिथि प्रदान की जाएगी । इस दिन वर-वधु को दोनों पक्षों से 2-2 गवाहों के साथ सब-रजिस्ट्ररर ऑफिस में उपस्थित होना होगा। यहाँ राजपत्रित अधिकारी की उपस्थिति में दस्तावेजों की जांच करके और अन्य सभी फोर्मलिटी पूरी करके आपको विवाह प्रमाणपत्र जारी किया जायेगा।

विवाह पंजीकरण (Marriage Registration), ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन

अगर आप ऑफलाइन माध्यम से विवाह पंजीकरण करवाना चाहते है तो इसके लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें

  • सबसे पहले अपने क्षेत्र के सब-रजिस्ट्ररर के ऑफिस में जाकर विवाह प्रमाणपत्र प्राप्त करे। आप चाहे तो अपने राज्य के रजिस्ट्रारर की आधिकारिक वेबसाइट से विवाह प्रमाणपत्र को डाउनलोड भी कर सकते है।
  • इसके बाद इसमें मांगी गयी सभी जानकारी भर दे साथ ही सभी जरुरी दस्तावेजो को भी संलग्न कर दे।
  • विवाह पंजीकरण फॉर्म में वर-वधु और दोनों पक्षों से 2-2 गवाहों के हस्ताक्षर होने जरुरी है।
  • इसके साथ ही अन्य फॉर्मलिटीज पूरी करके Marriage Registration की प्रक्रिया पूरी हो जाती है।

विवाह पंजीकरण के लिए फॉर्म सभी राज्यों के रजिट्ररर की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है। आप अपने समबन्धित राज्य की वेबसाइट से इस फॉर्म को डाउनलोड कर सकते है। आपको बता दे की विवाह पंजीकरण के लिए वर-वधु पक्ष से 2-2 गवाहों का होना जरुरी है। साथ ही Marriage Registration के लिए राजपत्रित अधिकारी का उपस्थित होना भी जरूरी है।

Leave a Comment