OPS और NPS क्या है, जाने यहाँ से पूरी जानकारी | पुरानी पेंशन और नई पेंशन स्कीम में क्या हैं ? जानिए इनमें अंतर

लम्बे समय से सरकारी कर्मचारी ओल्ड पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) को बहाल करने की मांग कर रहे है। देश में पिछले कुछ समय से लोकसभा चुनावों से लेकर राज्यसभा चुनावो में पुरानी पेंशन योजना की बहाली प्रमुख मुद्दा बना हुआ है। वर्ष 2004 में न्यू पेंशन स्कीम (New Pension Scheme) लागू होने के बाद ही सरकारी कर्मचारी इस योजना को खत्म करके पुरानी पेंशन योजना को पुनः लागू करने के लिए संघर्षरत है। वर्ष 2013 से ही देश के लाखों कर्मचारियों के द्वारा पुरानी पेंशन योजना को फिर से लागू करने के लिए राष्ट्रव्यापी स्तर पर आंदोलन संचालित किया जा रहा है। आखिर यह नयी पेंशन योजना एवं पुरानी पेंशन योजना क्या है जिसको लेकर देश में इतना हल्ला मचा हुआ है! आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको पुरानी पेंशन योजना (Old Pension Scheme -OPS) एवं राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension Scheme-NPS) या OPS और NPS क्या है सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले है।

know about OPS and NPS
OPS VS NPS

साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको OPS और NPS में क्या अंतर है ? OPS और NPS के क्या लाभ एवं क्या हानियाँ है एवं इससे सम्बंधित अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में भी सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की जाएगी।

ओल्ड पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) क्या है ?

ओल्ड पेंशन स्कीम की बहाली के लिए जारी आंदोलन के बीच सबसे पहले हमे ओल्ड पेंशन स्कीम (Old Pension Scheme) के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है। केंद्र सरकार द्वारा 1 अप्रैल, 2004 को न्यू पेंशन स्कीम लागू करने से पूर्व कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना के तहत पेंशन का लाभ दिया जाता था। पुरानी पेंशन योजना के तहत कर्मचारियों को सेवानिवृति के पश्चात अंतिम वेतनमान का 50 फीसदी हिस्सा पेंशन के रूप में मिलता था जिसका अर्थ है की यदि कर्मचारी 60 वर्ष की आयु में 80,000 रुपए के वेतनमान पर सेवानिवृत हुआ है तो उसे 40,000 रुपए की निश्चित पेंशन मिलेगी।

साथ ही पुरानी पेंशन योजना में कर्मचारी के सेवाकाल का कोई असर नहीं पड़ता था। इसके अतिरिक्त पेंशनधारक की मृत्यु पर पेंशन धारक की पत्नी को भी पुरानी पेंशन योजना के तहत पेंशन का लाभ दिया जाता था। केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2004 में सरकारी खजाने पर अधिक बोझ पड़ने का हवाला देते हुए ओल्ड पेंशन स्कीम को बंद कर दिया था।

न्यू पेंशन स्कीम (New Pension Scheme)

केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार द्वारा 1 अप्रैल, 2004 से नयी पेंशन स्कीम लागू की गयी है जिसे की औपचारिक रूप से राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension Scheme) कहा जाता है। इस पेंशन स्कीम के तहत सरकार द्वारा फण्ड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) की स्थापना की गयी है जिसके तहत कर्मचारियों को शेयर आधारित मुनाफे की तर्ज पर पेंशन का लाभ दिया जाता है इसका अर्थ है की न्यू पेंशन स्कीम के तहत कर्मचारियों की पेंशन बाजार के जोखिमों के अधीन होता है। नयी पेंशन योजना के तहत कर्मचारियों को सेवाकाल के दौरान मूल वेतन व डीए का 10 फीसदी निवेश करना होता है एवं सरकार द्वारा भी इतना ही जमा किया जाता है।

इसके पश्चात सेवानिवृति पर कर्मचारी कुल जमा का 60 फीसदी एकमुश्त निकाल सकते है जबकि बची हुयी 40 फीसदी राशि के माध्यम से उन्हें एन्युटी प्लान खरीदना होगा जिसके की बीमा कंपनी द्वारा निवेश किया जायेगा। इसके पश्चात इस निवेश की गयी राशि से प्राप्त ब्याज से ही कर्मियों को पेंशन दी जाती है। यही कारण है की पेंशन राशि निश्चित ना होने के कारण सरकारी कर्मियों द्वारा इस पेंशन योजना का विरोध किया जा रहा है।

OPS और NPS, समझें अंतर आसान भाषा में

यहाँ आपको नयी पेंशन योजना एवं पुरानी पेंशन योजना के प्रमुख बिन्दुओ को क्रमवार आसान भाषा में समझाया गया है। इससे आप आसानी से OPS और NPS में अंतर समझ सकते है। साथ ही आप यहाँ OPS और NPS के मध्य आसानी से तुलनात्मक अध्ययन कर पाएंगे।

  • पेंशन की अनिश्चितता – OPS और NPS में विरोध की सबसे प्रमुख वजह पेंशन में अनिश्चितता है। जहाँ पुरानी पेंशन योजना में कर्मचारियों को अंतिम वेतनमान के 50 फीसदी के बराबर निश्चित पेंशन मिलती थी वही न्यू पेंशन स्कीम बाजार के जोखिम के अधीन होती है जिससे की पेंशन में अनिश्चितता बनी रहती है। इस आप निम्न उदाहरण से भी समझ सकते है :-
    • माना एक कर्मचारी 60 वर्ष की आयु में 80,000 रुपए के अंतिम वेतनमान पर रिटायर होता है तो ओल्ड पेंशन स्कीम के तहत उसे अंतिम वेतनमान का 50 फीसदी यानी 40,000 रुपए (80,000 रुपए के अंतिम वेतमान के अनुसार) निश्चित तौर पर मिलेंगे ही मिलेंगे। वही नयी पेंशन योजना में कर्मियों को एन्युटी प्लान के तहत निश्चित पेंशन की राशि नहीं मिलती एवं इसमें अनिश्चितता देखी जाती है।
  • सेवाकाल का पेंशन पर असर- न्यू पेंशन स्कीम (New Pension Scheme) के तहत रिटायर्ड कर्मचारी की पेंशन सेवा अवधि पर निर्भर करती है। चूँकि न्यू पेंशन स्कीम के तहत कर्मचारियों को सेवा अवधि के दौरान फण्ड नियामक एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) में कुल सेवाकाल के दौरान निवेश करना होता है। किसी कर्मचारी की सेवा अवधि जितनी अधिक होगी वह उतना ही अधिक निवेश इस फण्ड में कर पायेगा एवं एन्युटी (Annuity) प्लान के तहत उसे उतनी ही अधिक पेंशन मिलेगी। वही पुरानी पेंशन योजना के तहत कर्मचारी की सेवा अवधि का पेंशन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता था एवं उसे अंतिम वेतनमान का 50 फीसदी पेंशन के रूप में भुगतान किया जाता था।
  • निवेश की राशि – पुरानी पेंशन योजना के तहत पेंशन पाने के लिए सरकारी कर्मी के वेतनमान से किसी भी प्रकार का निवेश नहीं लिया जाता था जबकि न्यू पेंशन स्कीम (New Pension Scheme) के तहत सरकारी कर्मचारी को पेंशन पाने के लिए मूल वेतन के 10 फीसदी एवं DA निवेश करना आवश्यक है।
  • सामान्य भविष्य निधि (GPF)- पुरानी पेंशन योजना में सामान्य भविष्य निधि (GPF) में कर्मचारी और नियोक्ता को 12 -12 फीसदी निवेश का प्रावधान रखा गया था जिससे की कर्मियों को लाभ मिलता था। वर्तमान में सरकार द्वारा NPS के तहत इसे बंद कर दिया गया है ।
  • परिवार को लाभ – पुरानी पेंशन स्कीम के तहत पेंशनधारक की मृत्यु की स्थित में परिवार को पेंशन का लाभ प्रदान किया जाता था परन्तु नयी पेंशन योजना लागू होने के पश्चात इस सिस्टम को बंद कर दिया गया है। नयी पेंशन स्कीम के तहत पेंशनधारक की मृत्यु होने पर एन्युटी (Annuity) प्लान के तहत नामिती को पूरा पैसा प्रदान किया जाता है एवं पेंशन का लाभ नहीं मिलता।

इसके अतिरिक्त नयी पेंशन योजना में पुरानी पेंशन योजना के तहत मिलने वाले महँगाई भत्ते का लाभ, GPF की सुविधा, इनकम टैक्स पर मिलने वाली छूट को भी समाप्त किया गया है। उपरोक्त मुद्दों के मद्देनजर सरकार कर्मचारी पुरानी पेंशन योजना की बहाली को लेकर आंदोलनरत है।

OPS और NPS सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

NPS का पूरा नाम क्या है ?

NPS का पूरा नाम National Pension Scheme (राष्ट्रीय पेंशन योजना) है जिसे आमतौर पर न्यू पेंशन स्कीम (New Pension Scheme) भी कहा जाता है।

न्यू पेंशन स्कीम कब लागू की गयी है ?

न्यू पेंशन स्कीम को 1 अप्रैल, 2004 को लागू किया गया था।

OPS और NPS में क्या अंतर है ?

OPS और NPS में अंतर जानने के लिए ऊपर दिया गया आर्टिकल पढ़े। यहाँ आपको OPS और NPS के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी है।

ओल्ड पेंशन स्कीम के क्या लाभ है ?

ओल्ड पेंशन स्कीम के तहत कर्मियों को निश्चित पेंशन का भुगतान, सेवावधि की बाध्यता से मुक्ति, सामान्य भविष्य निधि (GPF) का लाभ, टैक्स में छूट जैसे अन्य लाभ मिलते थे। विस्तृत जानकारी के लिए ऊपर दिया गया आर्टिकल चेक करें।

क्या न्यू पेंशन स्कीम के तहत सामान्य भविष्य निधि (GPF) का प्रावधान है ?

नहीं। न्यू पेंशन स्कीम के तहत सामान्य भविष्य निधि (GPF) का प्रावधान खत्म कर दिया गया है।

Leave a Comment

Join Telegram