NEET PG 2022: क्या रद्द होगा नीट PG का एग्जाम, नाराज छात्र पहुँचे सुप्रीम कोर्ट

राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (नीट) पीजी परीक्षाओं को स्थगित करने को लेकर छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट में राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (नीट) पीजी की परीक्षा को स्थगित करने को एमबीबीएस छात्रों के समूह ने याचिका दाखिल की है और 12 मार्च 2022 को होने वाली नीट-पीजी परीक्षा को टालने की मांग की है। छात्रों का कहना है की इंटर्नशिप पूरी ना होने की वजह से वे नीट-पीजी परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे जिससे की उन्हें नुकसान उठाना पड़ेगा। साथ ही परीक्षा को छात्रों की इंटर्नशिप पूरी होने के बाद करवाए जाने के लिए भी सुप्रीम-कोर्ट में अर्जी दाखिल की गयी है।

मार्च में होनी है NEET PG 2022 परीक्षा

आपको बता दे की राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड द्वारा नीट-पीजी 2022 के लिए परीक्षाओं की तिथि घोषित कर दी गयी है। जारी परीक्षा कार्यक्रम के अनुसार NEET PG 2022 का आयोजन 12 मार्च 2022 को किया जाना है। इसी बीच दुबे लॉ चैंबर्स के माध्यम से दायर याचिका में एमबीबीएस के 6 छात्रों ने 12 मार्च को होने वाली NEET-PG की परीक्षा के आयोजन को रद्द करने की माँग की है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की गयी याचिका में छात्रों द्वारा कहा गया है की कई छात्रों की अनिवार्य एमबीबीएस इंटर्नशिप कोविड ड्यूटी के कारण लेट हुयी है ऐसे में वे 12 मार्च की होने वाली परीक्षा में नहीं बैठ पाएंगे।

साथ ही याचिका में छात्रों द्वारा NEET-PG परीक्षा को छात्रों की इंटर्नशिप अवधि पूरी होने तक स्थगित करने की माँग की गयी है ताकि वे भी परीक्षा में भाग ले सके। इसके लिए छात्रों द्वारा राष्ट्रीय परीक्षा बोर्ड को भी निर्देश देने के लिए अनुरोध किया गया है।

ये है पूरा मामला

आपको बता दे की एमबीबीएस के छात्रों को कोर्स पूरा होने के बाद अनिवार्य इंटर्नशिप करनी होती है। कोविड महामारी के दौरान सरकार द्वारा अधिकतर एमबीबीएस स्टूडेंट को टेलीमेडिसिन और अन्य स्वास्थ्य सेवाओं के लिए नियुक्त किया गया था ऐसे में सैकड़ो एमबीबीएस स्टूडेंट अपनी इंटर्नशिप पूरी नहीं कर पाए थे। वही NEET-पीजी में सिर्फ वही छात्र भाग ले सकते है जो अपनी इंटर्नशिप पूरी कर चुके हो ऐसे में सैकड़ो एमबीबीएस छात्रों को नीट-पीजी 2022 की परीक्षा से वंचित होना पड़ सकता है। छात्र इसी मुद्दे को लेकर सुप्रीम-कोर्ट से परीक्षा की स्थगित करने की माँग कर रहे है।

प्रधानमन्त्री भी दे चुके है बयान

आपको बता दें की पिछले वर्ष प्रधानमन्त्री मोदी द्वारा भी ट्वीट करके एमबीबीएस प्रशिक्षण पूरा कर चुके डॉक्टरों को कोरोना के माइल्ड सिम्पटम्स वाले मरीजों की देखभाल के लिए और नीट-पीजी परीक्षा को कम से कम 4 महीने तक स्थगित करने के लिए कहा गया था। अब छात्रों द्वारा इस ट्वीट का उलेख करते हुए नीट -पीजी 2022 को स्थगित करने की मांग की गयी है। इसको लेकर कुछ स्टूडेंट ट्विटर के माध्यम से भी कैंपेन चला चुके है।

Leave a Comment