चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना: 5 लाख रुपये तक का इलाज बिल्कुल मुफ्त, ऐसे करें आवेदन

राजस्थान सरकार द्वारा प्रदेश के नागरिको को बेहतर इलाज देने के लिए चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की शुरुआत की गयी है. इस योजना के तहत लाभार्थियों को सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटलों में 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज प्रदान किया जायेगा. इसमें गंभीर बीमारियों को भी शामिल किया गया है ताकि सभी पात्र लोग महंगे खर्च से बच सकें. इस योजना के लिए सरकार ने 3,500 करोड़ रूपये का बजट रखा है. इसके लिए प्रदेश के सभी नागरिक ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से आवेदन कर सकते है. चलिए जानते है इसकी पूरी प्रोसेस

चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना, गरीबो को भी मिलेगा कैशलेस उपचार

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की शुरुआत राज्य के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को 5 लाख रुपए तक का कैशलेस उपचार देने के लिए की है. इस योजना में प्रदेश के प्रत्येक परिवार को 5 लाख रुपए तक का मुफ्त और कैशलेस उपचार सभी सरकारी और लिस्टेड प्राइवेट हॉस्पिटलों में दिया जायेगा. इस स्कीम में सरकार द्वारा बीमारियों के इलाज के 1576 पैकेजेज और प्रोसिजर शामिल किये गए है जिससे की लोग गंभीर बीमारी की स्थिति में भी बाहर इलाज करवाने को मजबूर ना हो. आपको बता दे की इसके तहत मरीज के हॉस्पिटल में भर्ती होने के 5 दिन पहले की चिकित्सकीय परामर्श, जांचें, दवाइयां, और डिस्चार्ज होने के 15 दिन बाद तक की सभी चिकित्सा व्यय शामिल किये गये है.

इस योजना में भाग लेने के लिए पात्र परिवारों को सालाना मात्र 850 रुपए बीमा प्रीमियम भरना होगा जिससे की वे इस योजना के लिए रजिस्ट्रेशन कर इस योजना का लाभ ले सकें.

इन लोगो को दी जाएगी प्राथमिकता

सरकार द्वारा चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत पहले इस योजना में पहले वाली स्वास्थ्य योजनाओं का लाभ लेने वाले परिवार, आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों और सामजिक रूप से पिछड़े परिवारों को शामिल किया गया था. अब इस योजना का दायरा बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसमें संविदाकर्मियों तथा लघु एवं सीमांत कृषकों को भी शामिल करने का फैसला किया है. इसमें शामिल होने के लिए ये शर्ते पूरी करना जरुरी है.

  • आवेदक को राजस्थान का स्थाई निवासी होना जरुरी है.
  • उसे आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग से होना चाहिए.
  • संविदाकर्मियों और लघु किसानों को भी इस योजना का लाभ दिया जायेगा.

जरुरी दस्तावेज

  • जन आधार या भामाशाह कार्ड
  • स्थाई निवास प्रमाणपत्र
  • बैंक पासबुक
  • इनकम सर्टिफिकेट
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

कलेक्टर विजय ने बताया की इस योजना में रजिस्ट्रेशन करने के लिए पात्र परिवारों को जन-आधार या भामाशाह कार्ड के साथ आधार कार्ड लेकर आना जरुरी है तभी वे इस योजना में पंजीकरण करवा पायेंगे. उन्होंने कहा है की जिन लोगो ने अभी तक भामाशाह या जन-आधार कार्ड नहीं बनाया है वे इन्हें जल्द से जल्द बनवा लें.

ऐसे करवा सकेंगें पंजीकरण

इस योजना में पंजीकरण करवाने के लिए आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यमों से रजिस्ट्रेशन कर सकते है. अगर आप ऑनलाइन माध्यम से रजिस्ट्रेशन करना चाहते है तो आपको e-Mitra पर जाकर इसके लिए रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

ऑफलाइन माध्यम से रजिस्ट्रेशन करने के लिए शासन द्वारा गाँवो में ग्राम पंचायत स्तर पर तथा शहरी क्षेत्र में वार्ड स्तर पर विशेष पंजीयन शिविर लगाए जा रहे है. आप इन शिविर में जाकर योजना का आवेदन फॉर्म भरकर और दस्तावेजों को संलग्न करके इस योजना में पंजीकरण करवा सकते है.

Leave a Comment