मिर्गी क्या है? मिर्गी कैसे होती है? लक्षण, कारण, उपचार, सावधानियां | What is Epilepsy in hindi

तो दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है की आज के समय में बहुत सी जानलेवा बीमारियां आगयी है जो की बहुत ही खतरनाक होती है। दोस्तों वैसे तो हर एक बीमारी खतरनाक होती है लेकिन आप भी जानते है की जो बीमारी सेंधा दिमाग से जुडी हुई होती है वह काफी हद तक जानलेवा भी होती है उसे बहुत से नुक्सान भी होते है। ऐसी ही एक बीमारी के बारे में भी हम आज कुछ बात चीत करने वाले है। तो दोस्तों दिमागी की एक खतरनाक बीमारी के बारे में हम आप सभी को बताने वाले है। जिसका नाम होता है मिर्गी (Epilepsy) दोस्तों आप में से अधिकतर लोग इस बीमारी के बारे में अवश्य जानते होंगे। तो दोस्तों क्या आप यह जानते है की मिर्गी क्या है ?मिर्गी कैसे होती है ? अगर आप नहीं जानते है तो उसम आपको चिंता करने की कोई भी आवश्यकता नहीं है।

सर्वाइकल पेन का घरेलू इलाज – Survical Pain Ka Gharelu ilaaj

मिर्गी क्या है? मिर्गी कैसे होती है? लक्षण, कारण, उपचार, सावधानियां |
What is Epilepsy in hindi

क्योंकि आज हम आप सभी को आज अपने इस लेख के जरिए इस खतरनाक बीमारी यानि के मिर्गी के बारे में बहुत सी जानकारी प्रदान करने वाले है जैसे की – मिर्गी क्या है? मिर्गी कैसे होती है? लक्षण, कारण, उपचार, सावधानियां | What is Epilepsy in hindi आदि जैसी कई अन्य जानकारी। तो दोस्तों क्या आप भी इसके बारे में इस प्रकार की जानकारी प्राप्त करना चाहते है। अगर हाँ तो उसके लिए आप सभी को हमारे इस लेख को बड़े ही ध्यान से पढ़ना होगा। क्योंकि इस लेख में ही हमने इससे जुडी जानकरी जैसे की – मिर्गी क्या है? मिर्गी कैसे होती है? लक्षण, कारण, निदान, उपचार, सावधानियां | What is Epilepsy in hindi के बारे में बताया हुआ है। के बारे में बताया हुआ है जिसको पढ़ने से ही आप इसके बारे में जान सकोगे। तो दोस्तों इसलिए कृपया करके हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़े।

इसपर भी गौर करें :- टाइफाइड की कमजोरी को कैसे दूर करे

मिर्गी क्या है | What is epilepsy?

तो दोस्तों सबसे पहले तो आप सभी को यह बता दे की मिर्गी को अंग्रेजी में epilepsy के नाम से जाना जाता है। आप सभी को यह बतादे की मिर्गी एक प्रकार की बीमारी है जो की केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (Central nervous system) से सम्बंधित होती है। इसके कारण हमारे दिमाग की  की तंत्रिका कोशिकाएं (nerve cells) कार्य करना बंद कर देती है। जिसके कारण व्यक्ति को बहुत सी चीजों का सामना करना पढ़ सकता है जैसे की – व्यक्ति को दौरे पढ़ना, व्यक्ति का अचानक से बेहोश हो जाना आदि जैसी कई अन्य चीजों का सामना करना पढ़ सकता है। केवल यह ही नहीं बल्कि जिस समय किसी मिर्गी पीड़ित व्यक्ति को दौरे पढ़ रहे होते है तो ऐसे में व्यक्ति का दिमागी संतुलन पूर्ण रूप से बिगड़ जाता है और उसका शरीर भी लड़खड़ाने लगता है।

आप सभी को इसकी मुख्य बात यह बतादे की मिर्गी किसी एक बीमारी का नाम नहीं है बल्कि कई मिर्गी के दौरे आने के बहुत से कारन हो सकते है। कई बार किसी अन्य बीमारी के कारण भी मिर्गी के दौरे आने की सम्भावना होती है। इसके साथ साथ आपको यह भी बतादे की मिर्गी भी कई प्रकार की होती है यानि के मिर्गी के मरीज भी कई प्रकार के होते है। यह एक आम बीमारी की ही तरह होती है जो की कई लोगो में से कुछ को होती है। कुछ लोगो का मानना तो यह भी होती है की यह बीमारी अनुवांशिक तौर पर भी होती है। परन्तु ऐसा अवश्य नहीं है की यह अनुवांशिक ही हो यह वैसे भी बहुत से लोगो को हो सकती है। अनुमान यह भी लगाया गया है की विश्व में करीब 5 करोड़ से भी अधिक लोग इस बीमारी से पीड़ित है।

उसके साथ साथ अनुमान यह भी लगाया गया है की विश्व के कुछ प्रतिशत लोगो को मिर्गी का दौरा आने की संभावना रहती है। इसलिए हर वर्ष 17 नवंबर को विश्वभर में मिर्गी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन बहुत से लोग इसके प्रति कैंपेन चलाते है और इसके प्रति जागरूकता अभियान भी चलाते है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज

मिर्गी के लक्षण क्या होते है | What are the symptoms of epilepsy.

तो दोस्तों अब हम आप सभी को यहाँ पर मिर्गी के कुस्ज लक्षण बताने वाले है। तो अगर आप भी इसके लक्षण जानना चाहते है तो कृपया दी गोई जानकारी को ध्यान से पढ़े।

  • चेहरे, गर्दन और हाथ की मांसपेशियों में बार-बार झटके आना
  • एक ही जगह घूमना
  • बिना तापमान के एक आवेग
  • अचानक गुस्सा होना
  • ब्लैकआउट या मेमोरी लॉस होना
  • कुछ समय के लिए कुछ भी याद नहीं रहना
  • शरीर में झुनझुनी और सनसनी होना
  • बिना किसी कारण के स्तब्ध रह जाना
  • छूने, सुनने या सूंघने की क्षमता में अचानक बदलाव आना
  • अचानक खड़े-खड़े गिर जाना
  • बार-बार एक जैसा व्यवहार करना
  • चक्कर आना
  • लगातार ताली बजाना या हाथ रगड़ना
  • कुछ अंतराल में बेहोश होना (इस दौरान बोवेल या ब्लैडर का कंट्रोल खो जाता है, शरीर में थकावट होती है)
  • अचानक से डर जाना और बात करने में असमर्थ होना

मिर्गी के कारण

  • जन्म से मौजूद विकास संबंधित विकार या तंत्रिका संबंधित रोग
  • आनुवंशिक कारण
  • सिर पर घातक चोट लगना
  • अत्यधिक शराब या नशीली दवाओं का सेवन
  • एड्स
  • मेनिन्जाइटिस 
  • ब्रेन स्ट्रोक (35 से अधिक उम्र के लोगों में मिर्गी का यह मुख्य कारण माना जाता है)
  • संवहनी रोग
  • ब्रेन ट्यूमर या सिस्ट होना
  • न्म से पहले शिशु के सिर में चोट लगना
  • मनोभ्रंश या अल्जाइमर रोग
  • शिशु के जन्म के दौरान मस्तिष्क में ऑक्सीजन की कमी होना

मिर्गी का उपचार (Epilepsy Treatment)

तो दोस्तों अब हम आप सभी को यहाँ पर मिर्गी के उपचार के बारे में बताने वाले है जिनकी वजह से मिर्गी ठीक हो सकती है तो कृपया दी गयी जानकारी को ध्यान से पढ़े।

  • दोस्तों आपको बतादे की दवा की मदद से भी मिर्गी को ठीक किया जा सकता है।
  • सर्जरी के जरिये भी मिर्गी का उपचार किया जा सकता है।
  • पर्याप्त नींद लेनी भी है आवश्यक। क्योंकि नींद की कमी से भी दुष्प्रभाव हो सकते है।
  • जड़ी बूटयों की मदद से भी मिर्गी को ठीक किया जा सकता है।
  • तनाव मुक्त रहे क्योंकि तनाव के कारण भी मिर्गी हो सकती है।

कफ और खांसी का घरेलू इलाज

कुछ सम्बंधित प्रश्न व उनके उत्तर

मिर्गी क्या है

आप सभी को यह बतादे की मिर्गी एक प्रकार की बीमारी है जो की केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (Central nervous system) से सम्बंधित होती है। इसके कारण हमारे दिमाग की  की तंत्रिका कोशिकाएं (nerve cells) कार्य करना बंद कर देती है।

विश्व मिर्गी दिवस किस दिन मनाया जाता है ?

विश्व मिर्गी दिवस हर वर्ष 17 नवंबर को मनाया जाता है।

मिर्गी के कारण क्या होते है ?

आनुवंशिक कारण
सिर पर घातक चोट लगना
अत्यधिक शराब या नशीली दवाओं का सेवन
एड्स
मेनिन्जाइटिस 

मिर्गी का उपचार कैसे होता है ?

दोस्तों आपको बतादे की दवा की मदद से भी मिर्गी को ठीक किया जा सकता है।
सर्जरी के जरिये भी मिर्गी का उपचार किया जा सकता है।
पर्याप्त नींद लेनी भी है आवश्यक। क्योंकि नींद की कमी से भी दुष्प्रभाव हो सकते है।

Leave a Comment

Join Telegram