मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर फसलों का पंजीकरण 31 जनवरी तक कराएं

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा: दोस्तों हमारी सरकार आये दिन किसानों के लिए कई योजनाओं का शुभारम्भ करते रहते हैं। जिससे कि किसानों का विकास हो सके और वे आत्मनिर्भर बन सकें। ऐसी ही एक योजना की शुरुआत सरकार द्वारा की गयी है। इस योजना को मेरी फसल-मेरा ब्यौरा के नाम से जाना जाता है। इसके लिए सभी किसानों को मेरी फसल-मेरा ब्यौरा के पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाना होगा। इससे किसानों को फसल बेचने में सुविधा प्राप्त होगी। यदि आप भी इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो इस पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाएं और इसका लाभ लें। आईये आपको इसके विषय जानकारी देते हैं।

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल

किसानों को फसल बेचने में आसानी हो इसके लिए सरकार ने इस पोर्टल की शुरुआत की है। इस पोर्टल पर पंजीकरण करवाने वाले किसानों को फसल बेचने में सुविधा प्राप्त होगी। इतना ही नहीं बल्कि इस पोर्टल पर पंजीकृत होने से किसानों को कई योजनाओं का लाभ मिलेगा। इस पोर्टल पर किसान अपनी फसल की जानकारी के साथ साथ भूमि का विवरण व बैंक खाता विवरण दर्ज करना होगा। इस पोर्टल पर किसान ऑनलाइन माध्यम से अपना पंजीकरण करवा सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण करवाना आवश्यक कर दिया है।

31 जनवरी तक करवा पाएंगे पंजीकरण

मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसानों का पंजीकरण कबसे शुरू हो चुका है। 17 व 18 जनवरी को यह पोर्टल तकनिकी सुधार के कारण बंद रहा। लेकिन अब इसमें किसान अपना पंजीकरण आसानी से कर सकते हैं। जी हाँ अब किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर 31 जनवरी 2022 तक अपना पंजीकरण करवा सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इसकी जानकारी कैप्टन मनोज कुमार ने दी। इसके साथ साथ उन्होंने बताया कि अब तक जिले में 16200 किसानों ने रबी फसल की समर्थन लगत पर बिक्री के लिए पंजीकरण करवाया है। जिले में लगभग 38.58 प्रतिशत जगह के लिए पंजीकरण हो चुका है।

कैसे करें पोर्टल पर पंजीकरण

कृषि उप निदेशक डा. वजीर सिंह ने बताया कि किसान अपनी फसलों का पंजीकरण मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर जाकर करवा सकते हैं। इसके साथ साथ किसान ऑनलाइन या नजदीकी अटल सेवा केंद्र पर जाकर अपना पंजीकरण करवा सकते है। इसके लिए कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की ओर से टोल फ्री नंबर 1800-180-2117 भी जारी किया गया है। किसान इनमें से किसी भी माध्यम से अपनी फसल का पंजीकरण करवा सकते हैं। पंजीकरण करवाते समय किसानों को अपना मोबाइल फ़ोन अपने पास रखना अनिवार्य है। पोर्टल पर पंजीकरण होने के बाद किसान आसानी से अपनी फसलों को उचित दाम में बेच सकते हैं।

Leave a Comment