Maha Shivratri 2023: महाशिवरात्रि कब है? जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

देवो के देव महादेव को समर्पित महाशिवरात्रि पर्व का भक्तो के लिए ख़ास महत्व है। शिव-पार्वती के मिलन के रूप में मनाये जाने वाले महाशिवरात्रि पर्व के अवसर पर भगवान भोलेनाथ की विधि-विधान से पूजन करने पर सभी इच्छाओं की पूर्ति होती है। भगवान भोलेनाथ की अपने भक्तो पर सदैव कृपा दृष्टि रहती है ऐसे में महाशिवरात्रि के पर्व पर भोलेनाथ की पूजा का विशेष महत्व है। शास्त्रों में भी भगवान शिव को अत्यंत दयालु एवं भक्तवत्तस्ल देव के रूप में मंडित किया गया है। वर्ष 2023 के महाशिवरात्रि के पर्व पर शनि प्रदोष व्रत तिथि भी पड़ रही है ऐसे में संतान प्राप्ति के लिए यह पर्व खास होने वाला है। यहाँ आपको वर्ष 2023 में महाशिवरात्रि कब है? (Maha Shivratri 2023) सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ प्रदान की जा रही है। साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको Maha Shivratri 2023 की तिथि, महाशिवरात्रि शुभ मुहूर्त एवं पूजा विधि एवं महाशिवरात्रि के महत्व के बारे में भी सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ प्रदान की जाएगी।

महाशिवरात्रि
महा शिवरात्रि

महाशिवरात्रि 2023 तिथि

हिन्दू पंचाग के अनुसार महाशिवरात्रि के पर्व को प्रत्येक वर्ष फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। इस वर्ष यह तिथि शनिवार 18 फरवरी को रात 08 बजकर 02 मिनट से प्रारंभ होकर रविवार 19 फरवरी को सांय 04 बजकर 18 मिनट तक पड़ रही है ऐसे में मुहूर्त के अनुसार वर्ष 2023 में शिवरात्रि पर्व (Maha Shivratri 2023 Date) 18 फरवरी 2023 को मनाया जायेगा

महाशिवरात्रि 2023 पूजा मुहूर्त

इस वर्ष महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के अवसर पर 18 फरवरी 2023 को मनाया जायेगा। इस अवसर पर मुहूर्त के अनुसार पूजा करने पर भगवान शिव की विशेष कृपा प्राप्त होती है। यहाँ आपको महाशिवरात्रि 2023 पूजा मुहूर्त से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ प्रदान की जा रही है :-

  • महाशिवरात्रि 2023 तिथि- 18 फरवरी 2023, शनिवार
  • निशीथ काल पूजा मुहूर्तरात्रि 12:09- देर रात 01 बजे तक

महाशिवरात्रि 2023 में निशीथ काल पूजा मुहूर्त का शुभारंभ रात्रि 12 बजकर 9 मिनट से होगा जो की कुल 51 मिनट तक चलेगा। निशीथ काल पूजा मुहूर्त का समापन रात्रि के 1 बजे तक होगा। निशीथ काल में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने का विशेष महत्व माना जाता है। महाशिवरात्रि 2023 में भक्तजन 18 फरवरी को शिवरात्रि का व्रत रखेंगे एवं 19 फरवरी को इसका पारण करेंगे। 19 फरवरी को महाशिवरात्रि पारण का समय प्रातः 6 बजकर 57 मिनट से शुरू होगा जो की मध्यान्ह दोपहर 3 बजकर 33 मिनट तक चलेगा।

महाशिवरात्रि पूजा विधि

महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव के पूजन को अत्यंत फलदायक एवं शीघ्र कामना पूर्ति वाला बताया गया है। महाशिवरात्रि के अवसर पर प्रातः काल उठकर स्नान आदि से निवृत होकर भगवान सूर्यदेव को अर्घ देना चाहिए। इसके पश्चात लोटे में जल लेकर इसमें गंगाजल की कुछ बूंदे डाल दे एवं भगवान भोलनाथ को प्रिय बेलपत्र, आक एवं धतूरे का फूल एवं पत्तियाँ डालकर इसे शिवलिंग पर अर्पित करें। साथ ही दूध, दही, शहद एवं पंचामृत से भी भगवान शिव का अभिषेक कर सकते है। अभिषेक के दौरान भगवान शिव का जाप करते रहे। महाशिवरात्रि के अवसर पर ॐ नम: शिवाय का जाप करना शुभ माना जाता है।

मकर संक्रांति 2023 शुभ मुहूर्त | Makar Sankranti 2023

महाशिवरात्रि का महत्व

हिन्दू धर्म ग्रंथो में महाशिवरात्रि को भगवान भोलेनाथ का अत्यंत पावन पर्व बताया गया है। महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान भोलेनाथ ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुये थे ऐसे में शिवरात्रि के अवसर पर भगवान भोलेनाथ के पूजन का विशेष महत्व है। साथ ही इस दिवस को भगवान भोलेनाथ के माँ पार्वती से मिलन का दिवस भी माना जाता है। मान्यता है की महाशिवरात्रि के अवसर ही भगवान शिव का माँ पार्वती से विवाह हुआ था एवं इस दिवस को महाशिवरात्रि पर्व के रूप में मनाया गया था। महाशिवरात्रि पर्व के अवसर पर भगवान शिव की पूजा करने से वैवाहिक जीवन में समृद्धि आती है एवं दांपत्य जीवन में आने वाले सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। विवाहित जोड़ों के लिए भी महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान भोलेनाथ का पूजन फलदायक एवं कल्याणकारी माना गया है।

Lohri 2023 : कब है लोहड़ी का पर्व? जानें इसका महत्व

महाशिवरात्रि से सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

महाशिवरात्रि का पर्व कब मनाया जाता है ?

महाशिवरात्रि का पर्व प्रतिवर्ष फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के अवसर पर मनाया जाता है। इस वर्ष यह तिथि 18 फरवरी को रात 08 बजकर 02 मिनट से प्रारंभ होकर रविवार 19 फरवरी को सांय 04 बजकर 18 मिनट तक पड़ रही है ऐसे में महाशिवरात्रि का पर्व 18 फरवरी 2023 को मनाया जायेगा।

वर्ष 2023 में महाशिवरात्रि की तिथि क्या है ?

वर्ष 2023 में महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि के अवसर पर शनिवार, 18 फरवरी 2023 को मनाया जायेगा।

महाशिवरात्रि 2023 पूजा मुहूर्त सम्बंधित जानकारी प्रदान करें ?

महाशिवरात्रि 2023 में निशीथ काल पूजा मुहूर्त का शुभारंभ रात्रि 12 बजकर 9 मिनट से होगा जो की कुल 51 मिनट तक चलेगा। निशीथ काल पूजा मुहूर्त का समापन रात्रि के 1 बजे तक होगा। इस प्रकार रात्रि 12 बजकर 9 मिनट से रात्रि एक बजे तक महाशिवरात्रि 2023 पूजा का शुभ मुहूर्त है।

महाशिवरात्रि पूजा विधि क्या है ?

महाशिवरात्रि के अवसर पर शिवलिंग पर जल एवं बेलपत्र, धतूरे की पत्तियाँ एवं भगवान शिव को प्रिय अन्य वस्तुओं का अभिषेक करना शुभ माना जाता है। साथ ही दूध, दही एवं शहद से शिवलिंग पर अभिषेक करने से सभी इच्छित वस्तुओ की प्राप्ति होती है। वैवाहिक जीवन में समृद्धि एवं समस्याओ को दूर करने के लिए भी महाशिवरात्रि पूजन का विशेष महत्व है।

महाशिवरात्रि का क्या महत्व है ?

महाशिवरात्रि को भगवान शिव एवं माता पार्वती के मिलन के अवसर के रूप में मनाया जाता है। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर ही माँ पार्वती एवं कैलाशपति शंकर का विवाह हुआ था। इस दिवस के अवसर पर ही भगवान भोलेनाथ ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। महाशिवरात्रि के अवसर पर विवाहित दम्पति द्वारा भगवान शिव का पूजन करने से दांपत्य जीवन सुखी रहता है एवं जीवन में सभी प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है।

Leave a Comment

Join Telegram