साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन | Longest and Shortest Day of The Year in Hindi

वर्ष के सभी महीनों में हम दिनों को घटते एवं बढ़ते देखते रहते है। सर्दियों में जहाँ दिन छोटे एवं रातें लम्बी होती है वही गर्मियों में दिन लम्बे एवं रातें छोटी हो जाती है। चलिए अब आपसे एक सवाल पूछते है ? क्या आप जानते है की साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन कौन सा है? अगर आपको इस सवाल का जवाब नहीं मालूम तो चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपके इसी सवाल का जवाब देने वाले है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन (Longest and Shortest day of the year in hindi) कौन सा है।

सौरभ जोशी कौन है | Sourav joshi Vlogs

साल 2022 का सबसे लम्बा और छोटा दिन
Winter Solstice 2023

साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको दिनों के घटने एवं बढ़ने के भौगोलिक तथ्यों के बारे में भी जानकारी प्रदान की जाएगी। भूगोल में रूचि रखने वाले जिज्ञासुओं एवं प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए भी यह आर्टिकल समान रूप से उपयोगी होने वाला है।

क्यों घटते-बढ़ते है दिन

साल के सबसे लम्बे एवं सबसे छोटे दिन के बारे में जानकारी प्राप्त करने से पूर्व हमे इसके कारण के बारे में जानकारी प्राप्त करना आवश्यक है। दिनों की अवधि (दिनों का छोटा या बड़ा होना) एक खगोलीय घटना “संक्रांति” यानि सोल्सटिस (Solstice) के कारण होता है। यह घटना वर्ष में दो बार, सर्दियों एवं गर्मियों के मौसम में घटित होती है। इसी घटना के कारण पृथ्वी पर दिनों की अवधि में अंतर आता है एवं दिन छोटे या बड़े होते है।

longest-and-shortest-day-of-the-year

धरती को भौगोलिक आधार पर 2 भागो में विभाजित किया गया है – उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) एवं दक्षिणी गोलार्ध (Southern hemisphere)। यह विभाजन पृथ्वी की मध्य रेखा से किया गया है जिसे की भूमध्य रेखा (Equator) या विषुवत रेखा के नाम से भी जाना जाता है। इसके उत्तरी भाग को उत्तरी गोलार्ध एवं दक्षिणी भाग को दक्षिणी गोलार्ध कहा जाता है।

उत्तरी गोलार्ध के 23.50 डिग्री उत्तरी अक्षांश रेखा को कर्क रेखा (Tropic of Cancer) एवं दक्षिणी गोलार्ध के 23.50 डिग्री दक्षिणी अक्षांश रेखा को मकर रेखा (Tropic of Capricorn) कहा जाता है। जब सूर्य उत्तरी गोलार्ध की ओर अग्रसर होता है तो इसे कर्क संक्राति कहा जाता है एवं सूर्य के दक्षिणी गोलार्ध में अग्रसर होने को स्थिति को मकर संक्राति कहा जाता है। सूर्य के कर्क एवं मकर रेखा की ओर अग्रसर होने के कारण ही दिनों की अवधि में अंतर दर्ज किया जाता है।

साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

सूर्य के कर्क रेखा एवं एवं मकर रेखा की अग्रसर होने के आधार पर ही दिनों की अवधि में अंतर दर्ज किया जाता है। उत्तरी गोलार्ध में सबसे बड़ा दिन 21 जून को दर्ज किया जाता है वही उत्तरी गोलार्ध में सबसे छोटा दिन 22 दिसंबर को दर्ज किया जाता है। साल 2023 का सबसे छोटा दिन 21 दिसम्बर 2023, दिन बृहस्पतिवार को है, जिसकी कुल अवधि 10 घंटे 19 मिनट एवं 10 सेकेंड की दर्ज की गयी है। वही अगर साल के सबसे बड़े दिन की बात की जाए तो वर्ष 2023 का सबसे बड़ा दिन 21 जून 2023, दिन बुधवार को है जिसकी कुल अवधि 13 घंटे 33 मिनट और 46 सेकेंड है।

लियोनेल मेसी का जीवन परिचय | Lionel Messi Biography in Hindi

ग्रीष्मकालीन संक्रांति, साल का सबसे बड़ा दिन

साल का सबसे बड़ा दिन ग्रीष्मकालीन संक्रांति (Summer Solstice) या ग्रीष्मकालीन अयनांत वह स्थिति है जब सूर्य अपने सबसे उत्तरी बिंदु अर्थात कर्क रेखा पर स्थित होता है। यह स्थिति लगभग प्रत्येक वर्ष 21 जून को आती है (20 या 22 जून भी संभव है) . इस दिवस के मौके पर सूर्य की किरणे उत्तरी गोलार्ध में स्थित कर्क रेखा पर सीधी पड़ती है जिसके कारण यहाँ साल का सबसे बड़ा दिन होता है। इस दिन सूर्य उत्तरी गोलार्ध में 12 घंटे की अवधि से भी अधिक समय तक चमकता है।

ग्रीष्मकालीन संक्रांति का महत्व

हमारे देश में ग्रीष्मकालीन संक्रांति का धार्मिक एवं सांस्कृतिक दृष्टि से अत्यंत महत्व है। ग्रीष्मकालीन संक्रांति के अवसर पर देश में विभिन त्यौहारो का आयोजन किया जाता है एवं विभिन प्रकार के अनुष्ठान भी सम्पन किए जाते है। ग्रीष्मकालीन संक्रांति के अवसर पर उत्तरी गोलार्ध में गर्मियों का मौसम रहता है।

शीतकालीन संक्रांति, साल का सबसे छोटा दिन

साल का सबसे छोटा दिवस शीतकालीन संक्रांति (Winter Solstice) या शीतकालीन अयनांत वह स्थिति है जब सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में स्थिति मकर रेखा पर स्थित होता है जिसके कारण उत्तरी गोलार्ध में दिन की अवधि सबसे कम होती है। साल का सबसे छोटा दिन 22 दिसंबर को पड़ता है एवं इसी कारण से शीतकालीन संक्रांति के अवसर पर उत्तरी गोलार्ध में सबसे छोटा दिन होता है। इस अवधि के समय उत्तरी गोलार्ध में सर्दियों का मौसम होता है।

शीतकालीन संक्रांति का महत्व

शीतकालीन संक्रांति का ईसाई धर्म में अत्यंत महत्व है। शीतकालीन संक्रांति के सप्ताह में ही 25 दिसंबर को ईसाईयों का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार क्रिसमस डे मनाया जाता है। साथ ही इस अवसर पर अन्य महत्वपूर्ण आयोजन भी संचालित किए जाते है।

इस प्रकार से इस आर्टिकल के माध्यम से आपको साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की गयी है। साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से भूगोल के अन्य महत्वपूर्ण बिन्दुओ के बारे में भी जानकारी प्रदान की गयी है।

अन्य जानकारी भी जानें :-

साल 2023 का सबसे लम्बा और छोटा दिन सम्बंधित प्रश्नोत्तर (FAQ)

साल का सबसे लम्बा और सबसे छोटा दिन कौन सा होता है ?

साल का सबसे बड़ा दिन 21 जून को ग्रीष्मकालीन संक्रांति (Summer Solstice) या ग्रीष्मकालीन अयनांत के अवसर पर एवं एवं सबसे छोटा दिन 22 दिसंबर को शीतकालीन संक्रांति (Winter Solstice) या शीतकालीन अयनांत के अवसर पर दर्ज किया जाता है।

साल 2023 का सबसे लम्बा दिन कौन सा है ?

साल 2023 का सबसे लम्बा दिन 21 जून 2023, दिन गुरुवार को है जिसकी कुल अवधि 13 घंटे 33 मिनिट और 46 सेकेंड है।

साल 2023 का सबसे छोटा दिन कौन सा है ?

साल 2023 का सबसे छोटा दिन 21 दिसम्बर 2023, दिन शुक्रवार को है, जिसकी कुल अवधि 10 घंटे 19 मिनट एवं 10 सेकेंड की दर्ज की गयी है।

पृथ्वी पर दिन रात क्यों होते है ?

पृथ्वी पर दिन रात पृथ्वी की परिभ्रमण गति के कारण होते है।

पृथ्वी पर दिनों की अवधि में अंतर क्यों दर्ज किया जाता है ?

पृथ्वी पर दिनों की अवधि में अंतर सूर्य के उत्तरी गोलार्ध एवं दक्षिणी गोलार्ध की ओर अग्रसर होने के कारण होता है।

पृथ्वी को कुल कितने भागो में बाँटा गया है ?

धरती को भौगोलिक आधार पर 2 भागो में विभाजित किया गया है – उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) एवं दक्षिणी गोलार्ध (Southern hemisphere)

Leave a Comment

Join Telegram