खुशखबरी! Kusht Rogi Pension: योगी सरकार ने बढ़ाई कुष्ठ रोगी पेंशन की रकम, अब इतने रुपये मिलेंगे

Kusht Rogi Pension: उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार के द्वारा राज्य के विकास के लिए और नागरिकों को सुविधा प्रदान करने के लिए कई योजनाओं की शुरुआत की जाती है। जिसका लाभ राज्य के पात्र लोग उठा सकते हैं। ऐसे ही उन्होंने राज्य के वृद्ध लोगों, महिलाओं और दिव्यांगों की पेंशन की शुरुआत की है। इन सभी की पेंशन में सरकार द्वारा बढ़ौतरी भी की गयी है। आज हम आपको इस लेख के माध्यम से कुष्ठ रोगी पेंशन के विषय की सभी जानकारी देंगे। तो यदि आप कुष्ठ रोगी पेंशन के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। और यदि आप इसके लिए पात्र हैं तो इसमें आवेदन करके इस पेंशन का लाभ जरूर उठाएं।

क्या है कुष्ठ रोगी पेंशन

भारत में कई प्रकार के दिव्यांग हैं जो की कुष्ठ रोग से ग्रस्त हैं। ऐसे लोग अपने लिए धन कमाने में असमर्थ हैं, और जिनकी परिवार की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। ऐसे लोगों के लिए उत्तर प्रदेश की सरकार ने कुष्ठ रोगी पेंशन की सुविधा आरम्भ की है। इसके अंतर्गत सभी पात्र लोगों को आर्थिक सहायता के रूप में कुछ धनराशि प्रदान की जाएगी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सभी वृद्धों और महिलाओं की पेंशन के साथ साथ दिव्यांग लोगों की पेंशन को बढ़ा दिया है। इस पेंशन का लाभ पाने वाले लाभार्थियों के लिए किसी भी आयु सीमा का निर्धारण नहीं किया गया है। इस पेंशन का लाभ केवल उत्तर प्रदेश के कुष्ठ रोगी ही ले पाएंगे। आईये जानते हैं कि कुष्ठ रोगी पेंशन में कितनी बढ़ौतरी हुई है।

योगी सरकार ने बढ़ाई कुष्ठ रोगी पेंशन की रकम

कुष्ठ रोगी पेंशन के धारकों के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है। जानकारी के मुताबिक पता चला है की उत्तर प्रदेश की राज्य सरकार ने राज्य के कुष्ठ रोगियों की पेंशन में बढ़ौतरी की है। जिस प्रकार सरकार ने वृद्धों और महिलाओं के पेंशन में 500 रूपये की बढ़ौतरी की है उसी प्रकार राज्य सरकार ने कुष्ठ रोगियों के पेंशन में भी 500 रूपये की बढ़ौतरी की है। पहले कुष्ठ रोगियों को 2500 रूपये की पेंशन प्रति माह मिलती थी लेकिन अब 3000 रूपये तक मिलेगी। यह सभी पेंशन धारकों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और ख़ुशी की खबर है।

कुष्ठ रोगी पेंशन के लिए पात्रता और दस्तावेज

इस पेंशन का लाभ लेने के लिए दिव्यांग के पास निम्न पात्रताएं और दस्तावेज होने आवश्यक हैं।

  • जिसमे कुष्ठ रोग के कारण दिव्यांगता उत्पन्न हुई हो।
  • कुष्ठ रोगी उत्तर प्रदेश का मूल निवासी हो।
  • कुष्ठ रोगी की पेंशन के लिए दिव्यांगता का प्रतिशत मायने नहीं रखता है।
  • इसके लिए कोई आयु सीमा का निर्धारण नहीं किया गया है।
  • आवेदक किसी अन्य पेंशन का लाभ न ले रहा हो।
  • आवेदक के पास कुष्ठ रोग के कारण उत्पन्न दिव्यांगता का प्रमाण पत्र।
  • गरीबी रेखा से नीचे के वर्ग में जीवन यापन करने वाले।
  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र
  •  ग्रामीण क्षेत्र की दशा में ग्राम सभा का प्रस्ताव व शहरी क्षेत्र की दशा में बैंक पासबुक की फोटोकॉपी
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Leave a Comment