अपनी राशि (Zodiac) कैसे जाने? राशि (Zodiac) कितनी होती है ?

हमारे देश के ज्योतिषशास्त्र में राशि (Zodiac) का बहुत अधिक महत्व है। अकसर कोई भी महत्वपूर्ण कार्य करने से पहले हम राशि के अनुसार शुभ मुहूर्त अवश्य देखते है जिससे की कार्य कुशलतापूर्वक सम्पन हो। इसके अतिरिक्त व्यापार शुरू करने, शादी-ब्याह, नया वाहन खरीदने और नया कार्य शुरू करने से पूर्व भी हम राशि के अनुसार कार्य करने को प्राथमिकता देते है। हालांकि बहुत सारे लोगो को अपने राशि की जानकारी नहीं होती है। अगर आपको भी अपनी राशि के बारे में पता नहीं है तो आपको बिल्कुल भी परेशान होने की जरूरत नहीं है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की अपनी राशि (Zodiac) कैसे जाने? साथ ही आर्टिकल में राशि (Zodiac) कितनी होती है ? और इनका हमारे जीवन पर क्या प्रभाव है सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी भी प्रदान की जाएगी।

अपनी राशि

राशि का क्या मतलब होता है?

हिन्दू ज्योतिषशास्त्र में राशि को बहुत अधिक महत्व दिया गया है। किसी भी शुभ कार्य को करने से पूर्व हमारे धर्म में शुभ मुहूर्त को देखना आवश्यक माना जाता है जिसके अनुसार कार्य करने पर कार्यो का सफलतापूर्वक सम्पन होना निश्चित माना जाता है। हालांकि सभी राशियों के लिए शुभ मुहूर्त का निर्धारण भी राशि के अनुसार किया जाता है ऐसे में सभी को अपनी राशि के बारे में जानना आवश्यक है। राशि के आधार पर शुभ मुहूर्त के आधार पर ही लोग अकसर अपना नया व्यवसाय शुरू करते है, नया वाहन खरीदते है, नया निर्माण कार्य शुरू करते है और विवाह के लिए कुंडली मिलाने के लिए भी लड़का-लड़की की राशि देखी जाती है। आप अपने नाम, जन्मतिथि, जन्मस्थान और जन्म के समय के आधार पर अपनी राशि का पता लगा सकते है।

राशि (Zodiac) कितनी होती है ?

हमारे ज्योतिषशास्त्र के अनुसार 12 प्रकार की राशियां मानी गयी है जिनका वर्णन इस प्रकार है :-

1. मेष2. वृषभ
3. मिथुन4. कर्क
5. सिंह6. कन्या
7. तुला8. वृश्चिक
9. धनु10. मकर
11. कुंभ12. मीन

नाम के आधार पर अपनी राशि ऐसे जाने

आप अपने नाम के प्रथम अक्षर के माध्यम से अपनी राशि का निर्धारण कर सकते है। इसके लिए यहाँ निम्न सारणी दी गयी है।

  • मेष (Aries):- ज्योतिषशास्त्र द्वारा निर्धारित राशियों के अनुसार मेष राशि चक्र में आने वाली प्रथम राशि है। जिन भी लोगो का नाम चू, चो, चे, ला, लू, ली, ले, लो, और आ से शुरू होता है ऐसे नाम वाले जातक मेष राशि में आते है। इसका चिन्ह मेष यानी की भेड़ होती है और मेष राशि वाले जातकों का स्वामी मंगल होता है।
  • वृष (Taurus) :- राशि चक्र की दूसरी राशि के रूप में ज्योतिषचार्यों द्वारा वृष राशि को रखा गया है। ई, ए, ऊ, ओ, वी, वा, वू, वो, वे और से नाम से शुरू होने वाले जातक वृष राशि वाले होते है। इस राशि का प्रतीक चिन्ह वृष यानी बैल है और इस राशि के जातको का स्वामी वृष का स्वामी यानी शुक्र होता है।
  • मिथुन (Gemini):- राशि चक्र की तीसरी राशि मिथुन का प्रतीक चिन्ह नारी-पुरुष का युग्म होता है। जिन लोगो के नाम का, कू, घ, की, ङ, के, छ, को, और ह से शुरू होते है ऐसे जातक मिथुन राशि के अंतर्गत आते है। मिथुन राशि का स्वामी बुध ग्रह को माना गया है।
  • कर्क (Cancer):- कर्क राशि को राशि चक्र में चौथे स्थान पर रखा गया है जिसका प्रतीक चिन्ह कर्क यानी की केकड़ा होता है। जिन भी लोगो के नाम ही, हे, हू, हो, डी, डा, डू, डो, डे और वे से शुरू होते है ऐसे जातक कर्क राशि के होते है। कर्क राशि के जातको का स्वामी चँद्रमा को माना गया है।
  • सिंह (Leo):- सिंह राशि राशि चक्र में पाँचवे नंबर पर आने वाली राशि है। मा, मू, मो, मी, मे, टा, टू, टे और टी नाम वाले लोग सिंह राशि के जातक होते है। इस राशि का प्रतीक चिन्ह सिंह यानी की शेर को माना जाता है। सूर्य को सिंह राशि का स्वामी माना जाता है।
  • कन्या (Virgo):- कन्या राशि को राशि चक्र में 6वें नंबर पर निर्धारित किया गया है। ढो, पी, ष, पू, पा, ठ, ण, पो और पे नाम राशि वाले जातक कन्या राशि वाले होते है। कन्या राशि का प्रतीक चिन्ह कन्या होती है जबकि बुध को इस राशि का स्वामी माना गया है।
  • तुला (Libra):- राशि चक्र में सातवे स्थान पर आने वाली तुला राशि का प्रतीक चिन्ह तुला यानी की पुरुष द्वारा पकड़ी हुयी तराजू है। जिन भी लोगो के नाम रा, रो, रू, री, रे, ता, ते, तू और ती से आते है ऐसे जातक तुला राशि वाले होते है। तुला राशि वाले जातको का स्वामी शुक्र ग्रह को माना जाता है।
  • वृश्चिक (Scorpius):- राशि चक्र की 8वीं राशि के रूप में प्रतिष्ठित वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल ग्रह को माना गया है। तो, ना, नू, नी, नो, ने, या, यू, और यी नाम राशि वाले जातक वृश्चिक राशि वाले होते है। इस राशि का प्रतीक चिन्ह वृश्चिक यानी की बिच्छू को माना जाता है।
  • धनु राशि (Sagittarius):- राशि चक्र के क्रमानुसार धनु राशि 9वें स्थान पर आती है। जिन भी लोगो के नाम ये, भा, यो, भी, धा, फा, भू, ढा, और भे अक्षरो से शुरू होते है ऐसे नाम राशि वाले जातक धनु राशि वाले होते है। इस राशि का प्रतीक चिन्ह धनुष ताने हुआ आधा पुरुष और आधा घोड़ा है। इस राशि का स्वामी वृहस्पति को माना जाता है।
  • मकर राशि (Capricorn):- मकर राशि को राशि चक्र में 10वें स्थान पर निर्धारित किया गया है। भो, जी, जा, खी, खे, खो, खू, गी और गा नाम वाले जातक मकर राशि वाले होते है जिसका प्रतीक चिन्ह मृग है। मकर राशि का स्वामी शनिदेव को माना गया है।
  • कुंभ (Aquarius):- राशि चक्र की 11वीं राशि कुम्भ का स्वामी भी शनिदेव महाराज को माना गया है।  गू, गो, गे, सी, सा, सू, सो, से,और दा अक्षरों से नाम शुरू होने वाले जातक कुम्भ राशि के होते है। इसका प्रतीक चिन्ह हाथ में कुम्भ (घड़ा) लिए पुरुष है।
  • मीन (Pisces):- राशि चक्र में अंतिम स्थान पर आने वाली राशि मीन है। इस राशि का स्वामी बृहस्पति ग्रह है। दी, दू, थ, दे, दो, ञ, चा, और ची नाम वाले लोग मीन राशि के जातक होते है। इसका प्रतीक चिन्ह मछलियों का जोड़ा है।

जन्मतिथि से ऐसे चेक करे अपनी राशि (Zodiac)

अपनी जन्मतिथि से नागरिक ऐसे अपनी राशि चेक कर सकते है।

जन्मतिथिराशि
21 मार्च से 20 अप्रैलमेष राशि
21 अप्रैल से 21 मईवृषभ राशि
22 मई से 21 जूनमिथुन राशि
22 जून 22 जुलाईकर्क राशि
23 जुलाई से 21 अगस्तसिंह राशि
22 अगस्त से 23 सितंबरकन्या राशि
24 सितंबर से 23 अक्टूबरतला राशि
24 अक्टूबर से 22 नवंबरवृश्चिक राशि
23 नवंबर से 22 दिसंबरधनु राशि
23 दिसंबर से 20 जनवरीमकर राशि
21 जनवरी से 19 फरवरीकुंभ राशि
20 फरवरी से 20 मार्चमीन राशि

इसके अतिरिक्त ज्योतिषशास्त्री और पंडितो के माध्यम से कुंडली बनवाकर भी राशि का निर्धारण किया जा सकता है। इसके लिए जन्मस्थान, जन्म की तारीख और समय का सही ब्यौरा होना आवश्यक है जिसके माध्यम से जातक की राशि का निर्धारण किया जा सकता है।

राशि सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

ज्योतिषशास्त्र में कितनी राशियां है ?

ज्योतिषशास्त्र में 12 राशियाँ होती है।

राशियों का निर्धारण कैसे किया जा सकता है ?

राशियों का निर्धारण करने हेतु आपको ऊपर दिए गए लेख के माध्यम से जानकारी प्रदान की गयी है। इसके माध्यम से आप अपने नाम के प्रथम अक्षर और जन्मतिथि के आधार पर राशि का निर्धारण कर सकते है। साथ ही ज्योतिषशास्त्री द्वारा कुंडली बनवाकर भी राशियों का निर्धारण किया जा सकता है।

राशि चक्र के अंतर्गत राशियाँ कौन-कौन सी है ?

राशि चक्र के अंतर्गत 12 राशियां होती है जिनका विवरण इस प्रकार है – मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ और मीन

राशि चक्र की प्रथम और अंतिम राशि कौन सी है ?

राशि चक्र की प्रथम और अंतिम राशि क्रमशः मेष और मीन है।

Leave a Comment