पुलिस रैंक लिस्ट 2023- Indian Police Ranks, पुलिस की वर्दी और रैंक कैसे पहचानें

भारत में पुलिस सेवा को अत्यधिक प्रतिष्ठित सेवा के रूप में गिना जाता है। हर वर्ष लाखों युवा कंधे पर सितारों को सजाने का सपना संजोकर पुलिस विभाग में भर्ती (Police Bharti) की तैयारी करते है। परन्तु क्या आप जानते है की पुलिस विभाग में विभिन श्रेणी के पदों पर कार्यरत पुलिसकर्मियों की पहचान कैसे की जाती है। भारत के सभी राज्यों में पुलिस की वर्दी खाकी रंग की होती है ऐसे में कौन सा पुलिस अधिकारी किस पद पर कार्यरत है यह पहचान करना मुश्किल होता है। हालांकि आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपकी इसी समस्या को सुलझाने वाले है। आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की पुलिस की वर्दी और रैंक कैसे पहचानें? साथ ही इस आर्टिकल के माध्यम से आपको पुलिस रैंक लिस्ट 2023- (Indian Police Ranks) के बारे में भी सम्पूर्ण जानकारी प्रदान की जाएगी।

Police Full Form – पुलिस का पूरा नाम क्या है ?

पुलिस रैंक लिस्ट
Indian Police Ranks (पुलिस रैंक लिस्ट)

पुलिस भर्ती की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों को पुलिस की रैंक एवं पद के बारे में जानकारी होना आवश्यक है ऐसे में पुलिस भर्ती की तैयारी करने वाले अभ्यर्थियों के लिए भी यह आर्टिकल महत्वपूर्ण होने वाला है।

पुलिस रैंक लिस्ट 2023

भारत के सभी राज्यों में पुलिस विभाग सबसे महत्वपूर्ण सरकारी विभाग में शामिल किया जाता है। राज्य सूची में आने वाला पुलिस विभाग राज्य में कानून एवं व्यवस्था को बनाये रखने के लिए जिम्मेदार विभाग है ऐसे में प्रतिदिन के जीवन में नागरिको की सेवा में पुलिस विभाग की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका है। देश में सभी राज्यों में पुलिस की वर्दी का कलर खाकी होता है ऐसे में हमे अकसर पुलिस कर्मी के पद एवं रैंक की पहचान करना मुश्किल होता है।

Indian-Police-Rank

हालाँकि पुलिस की वर्दी पर लगे स्टार एवं बैज (Star & Badge) की मदद से हम आसानी से पुलिसकर्मी के पद एवं रैंक की पहचान कर सकते है। साथ ही पुलिसकर्मियों के कंधे पर लगे विभिन प्रतीक चिन्हों की सहायता से भी आसानी से पुलिस अधिकारियों के पद एवं रैंक की पहचान की जा सकती है। अधिकारियों के कंधे पर लगे स्टार, बैज एवं विभिन प्रतीक चिन्ह अधिकारी के पद एवं रैंक के बारे में सभी प्रकार की महत्वपूर्ण सूचना प्रदान करते है।

Indian Police Ranks-2023

यहाँ आपको पुलिस कर्मियों की वर्दी पर लगे सितारे, बैज एवं विभिन प्रतीक चिन्हो के आधार पर पुलिस कर्मी के पद एवं रैंक की जानकारी प्रदान की गयी है। इस लिस्ट में आपको पुलिस अधिकारियों के सबसे निचले स्तर से लेकर उच्च स्तर तक के पदों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की गयी है :-

1. होमगार्ड (Home Guard)

homeguard

होमगार्ड पुलिस विभाग में सबसे निचले रैंक पर स्थित पद होता है। आमतौर पर होमगार्ड की नियुक्ति ट्रैफिक को संभालने या चुनाव जैसे कार्यक्रमों के दौरान की जाती है। हालाँकि यह याद रखना आवश्यक है की होमगार्ड को नियमित रूप से ड्यूटी पर नहीं रखा जाता अपितु वर्क-लोड ज्यादा होने पर तैनात किया जाता है। वही देश के कुछ ही राज्यों में होमगार्ड जैसे पद सृजित किए गए है। होमगार्ड के जवानों को सादी खाकी वर्दी एवं आमतौर पर लाल रंग की टोपी दी जाती है। होमगार्ड जवानों की वर्दी पर किसी तरह का कोई बैज नहीं लगा होता।

2. कांस्टेबल (Constable)

POLICE-CONSTABLE

पुलिस विभाग में वास्तविक रूप से शुरू होने वाला सबसे निचले रैंक का पद कांस्टेबल का होता है। कांस्टेबल पदों पर नियुक्ति राज्य सरकार द्वारा 12वीं के उत्तीर्ण अभ्यर्थियों के मध्य प्रतियोगी एवं शारीरिक परीक्षा के माध्यम से करवाई जाती है। कॉन्स्टेबल राज्य में सामान्य कानून एवं व्यवस्था बनाये रखने हेतु उत्तरदायी होते है। कांस्टेबल की वर्दी खाकी रंग की होती है जिस पर किसी भी प्रकार के स्टार या बैज नहीं लगे होते। पुलिस विभाग में कांस्टेबल सबसे निचले रैंक का पद होता है।

3. हेड कांस्टेबल (Head Constable)

police-rank-head-constable

पुलिस विभाग में कांस्टेबल पद पर 5 वर्ष या अधिक समय तक तैनाती वाले पुलिस कर्मचारियों को प्रमोशन के पश्चात हेड कांस्टेबल के पद पर तैनाती दी जाती है। हेड कांस्टेबल पदों को सिर्फ प्रमोशन के माध्यम से ही भरा जाता है। हेड कांस्टेबल की पहचान वर्दी में बाएँ हाथ पर लगे 3 रंग की पट्टियों से की जाती है। हालाँकि कुछ राज्यों में यह पट्टी सफ़ेद या काले रंग की भी होती है। हेड कांस्टेबल की वर्दी पर भी किसी भी प्रकार के स्टार नहीं होते। कुछ राज्यों में कांस्टेबल के बाद वरिष्ठ कांस्टेबल (Senior Constable) या लांस नायक पद भी होते है जिनकी वर्दी पर एक सिंगल स्ट्रिप होती है एवं इसके पश्चात हेड कांस्टेबल का पद होता है।

4. सहायक सब इंस्पेक्टर (Assistant Sub-Inspector ASI)

police-rank-head-ASSISTANT-SUB-INSPECTOR

पुलिस विभाग में किसी भी अधिकारी पद की शुरुआत सहायक सब इंस्पेक्टर (ASI) के पद से होती है। सहायक सब इंस्पेक्टर (ASI) थाने में सहायक के रूप में विभिन कार्यो को करता है जिसकी सबसे प्रमुख पहचान इसके कंधे पर दोनों तरफ लगे एक-एक सितारे होते है एवं इसके नीचे लाल एवं नीले रंग की पट्टियाँ भी लगी होती है। अधिकतर राज्यों में पुलिस अधिकारियों के बाएँ हाथ की आस्तीन पर सम्बंधित राज्य के पुलिस का बैज भी लगा होता है।

5. सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector SI)

Sub-Inspector

प्रथम विवेचक अधिकारी के रूप में सब इंस्पेक्टर किसी भी राज्य के पुलिस विभाग में प्रमुख विवेचन अधिकारी के रूप में स्थापित पद है जो की चौकी इंचार्ज के रूप में थाने के सभी महत्वपूर्ण दायित्वों को संभालता है। सब इंस्पेक्टर को आमतौर पर दरोगा भी कहा जाता है जो की पुलिस विभाग में महत्वपूर्ण पद है। इस पद पर आमतौर पर स्नातक के अभ्यर्थियों को चयन किया जाता है। सब इंस्पेक्टर के पद की पहचान इसके कंधे पर दोनों ओर लगे 2-2 सितारे एवं इनके नीचे लाल एवं नीले रंग की पट्टियाँ है। साथ ही एसआई (SI) अधिकारियों की वर्दी के बाएं हाथ की आस्तीन पर सम्बंधित राज्य के पुलिस का बैज भी लगा होता है।

6. इंस्पेक्टर (Inspector)

Inspector-TI

किसी भी थाने के सबसे प्रमुख पुलिस अधिकारी की बात की जाए तो इंस्पेक्टर पद थाने में सबसे महत्वपूर्ण पद होता है। थाने के इंचार्ज होने के साथ-साथ इंस्पेक्टर को आसपास के क्षेत्रों में कानून व्यवस्था सम्बंधित दायित्व भी दिया जाता है ऐसे में थाने में इंस्पेक्टर की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। इंस्पेक्टर को आमतौर पर SO, कोतवाल एवं SHO (एसएसओ) के नाम से भी जाना जाता है। इंस्पेक्टर (Inspector) पद के पहचान की बात की जाए तो खाकी वर्दी में कंधे के दोनों ओर लगे 3-3 सितारे एवं इसके नीचे लाल एवं नीले रंग की पट्टियाँ इंस्पेक्टर (Inspector) पद की पहचान होती है।

7. डिप्टी सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (DSP)

Deputy-Superintendent-Of-Police

राज्य पुलिस सेवा के माध्यम से नियुक्त होने वाले पुलिस अधिकारियों को सर्वप्रथम डिप्टी सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस(Deputy Superintendent of Police) के पद पर नियुक्ति दी जाती है जिनके अधीन आमतौर पर 4 से 5 थाना क्षेत्र होते है। इसी कारण से इन्हे क्षेत्राधिकारी या CO(Circle Officer) के नाम से भी जाना जाता है। देश के केंद्रशासित प्रदेशो में DSP पद के समकक्ष अधिकारी को ACP/DCP भी कहा जाता है। डिप्टी सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस के पद की पहचान की बात की जाए तो DSP अधिकारियों की खाकी वर्दी में दोनों तरफ सिल्वर कलर के 3-3 स्टार लगे होते है साथ ही इनके नीचे सम्बंधित राज्य की पुलिस सर्विस का बैच भी लगा होता है। डिप्टी सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस का चयन राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा किया जाता है।

8. एडिशनल सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (ASP)

पुलिस रैंक लिस्ट

पुलिस सेवा में संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के अंतर्गत भारतीय पुलिस सेवा आईपीएस (IPS) के माध्यम से नियुक्त होने वाला सर्वप्रथम अधिकारी एडिशनल सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस  (Assistant Superintendent of Police) होता है जहाँ आईपीएस अधिकारियों की प्रथम नियुक्ति की जाती है। देश के केंद्रशासित प्रदेशों में ASP पद के समकक्ष अधिकारी को ADC(Additional Deputy Commissioner) के नाम से जाना जाता है। Assistant Superintendent of Police अधिकारियों की पहचान इनकी वर्दी के दोनों तरफ लगे अशोक-स्तम्भ से की जाती है।

9. सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP)

पुलिस रैंक लिस्ट

जिला-स्तर पर पुलिस के सबसे बड़े अधिकारी की बात की जाए तो सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) किसी भी जिले में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए सबसे बड़ा पुलिस अधिकारी होता है। पुलिस अधीक्षक (Superintendent of Police) के अंतर्गत ही समस्त जिले की पुलिस फ़ोर्स कार्य करती है एवं जिले में व्यवस्था बनाये रखने का सम्पूर्ण दायित्व एसपी (SP) के जिम्मे होता है। सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) की नियुक्ति UPSC के माध्यम से चयनित आईपीएस अधिकारियों के मध्य से की जाती है। सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस की पहचान खाकी वर्दी दोनों ओर लगे अशोक स्तम्भ एवं एक सिल्वर स्टार से की जाती है।

10. सीनियर सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP)

पुलिस रैंक लिस्ट

Senior Superintendent of Police (SSP) जिसे की आमतौर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के नाम से जाना जाता है जिले में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए सर्वोच्च अधिकारी होता है। सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) एवं सीनियर सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) की नियुक्ति की बात की जाए तो सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) की नियुक्ति देश के सभी छोटे एवं मध्यम आबादी वाले जिलों में की जाती है जबकि देश के अधिक आबादी वाले जिलों एवं महानगर क्षेत्रों में कानून व्यवस्था हेतु SSP की नियुक्ति की जाती है। सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) को ही लम्बे कार्यकाल के बाद पदोन्नति द्वारा सीनियर सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) के पद पर नियुक्ति दी जाती है। सीनियर सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) पद की वर्दी SP के समान होती है परन्तु जहाँ SP की वर्दी पर अशोक स्तम्भ के साथ दोनों तरफ एक-एक स्टार होता है वही SSP की वर्दी पर अशोक स्तम्भ के साथ दोनों तरफ दो-दो स्टार होते है।

11. डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DIG)

पुलिस रैंक लिस्ट

डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DIG) राज्य की पुलिस व्यवस्था में एक महत्वपूर्ण पद होता है जो की सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SP) एवं सीनियर सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) के पदों पर लम्बे समय तक अनुभव प्राप्त आईपीएस अधिकारियों को प्रदान किया जाता है। डीआईजी (Deputy Inspector General of Police) को हिंदी में पुलिस उपमहानिरीक्षक कहा जाता है। डीआईजी को पुलिस विभाग के अधिकारियों के निरिक्षण का सम्पूर्ण अधिकार होता है। डीआईजी (DIG) अधिकारी की पहचान दोनों ओर लगे अशोक स्तंभ के साथ 3 सिल्वर स्टार होते है जिनके नीचे भारतीय पुलिस सेवा (IPS) का बैच लगा होता है।

12. इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (IG)

Inspector-General-Of-Police

राज्य में स्थित विभिन मंडलो में पुलिस विभाग का कार्यभार भारतीय पुलिस सेवा (IPS) के अनुभवी एवं सीनियर अधिकार को सौंपा जाता है जिसे की इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (IG) या पुलिस महा निरीक्षक भी कहा जाता है। राज्य के मंडल स्तर पर पुलिस विभाग के सभी महत्वपूर्ण दायित्व आईजी (IG) के अंतर्गत आते है जहाँ आमतौर पर डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DIG) से प्रमोशन प्राप्त अधिकारियों को नियुक्त किया जाता है। इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (IG) की पहचान दोनों ओर लगे एक-एक सिल्वर स्टार एवं इसके नीचे क्रॉस आकार में तलवार एवं बेंटन होता है। साथ ही सबसे नीचे भारतीय पुलिस सेवा (IPS) का बैच लगा होता है।

13. एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (ADGP)

Additional-Director-General-Of-Police-rank

राज्य पुलिस में वरीयता के क्रम में द्वितीय स्थान पर आने वाला पद एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (ADGP) या पुलिस उप-महानिदेशक का पद होता है जो की राज्य की कानून व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह प्रमुखत डीजीपी की सहायता के लिए सृजित पद है जिसकी पहचान वर्दी के दोनों तरफ अशोक चिन्ह एवं क्रॉस आकार में तलवार के साथ इसके नीचे आईपीएस का बैच है। साथ ही एडीजीपी (ADGP) की सबसे प्रमुख पहचान (ADGP) वर्दी के कॉलर पर Gorget Patch का लगा होना है।

14. डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DGP)

पुलिस रैंक लिस्ट

डीजीपी या Director General of Police (DGP) किसी भी राज्य का सर्वोच्च पुलिस अधिकारी होता है जिसे की पुलिस महानिदेशक के नाम से भी जाना जाता है। पुलिस महानिदेशक सम्पूर्ण राज्य की पुलिस का सर्वोच्च अधिकारी होता है जिसके कंधो पर सम्पूर्ण राज्य के कानून एवं व्यवस्था का उत्तरदायित्व होता है। राज्य में कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए डीजीपी के हाथों में सर्वाधिक अधिकार होते है जिससे की इसे राज्य की पुलिस का मालिक भी कहा जाता है। डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DGP) की पहचान दोनों तरफ लगे अशोक स्तंभ के साथ क्रॉस आकृति में तलवार का सिंबल होता है जिसके नीचे भारतीय पुलिस सेवा (IPS) का बैच लगा होता है।

केंद्र स्तर पर सबसे बड़े पुलिस अधिकारी की बात की जाए तो डायरेक्टर ऑफ इंटेलिजेंस ब्यूरो (Director of Intelligence Bureau) के निदेशक का पद सबसे बड़ा पुलिस पद माना जाता है। Director of Intelligence Bureau के निदेशक की पहचान अशोक स्तम्भ एवं क्रॉस आकृति में तलवार सिंबल के साथ एक सितारा होता है।

पुलिस रैंक लिस्ट से सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

पुलिस किस विषय के अंतर्गत रखा गया है ?

भारतीय संविधान की 7वीं सूची के अंतर्गत पुलिस को राज्य का विषय माना गया है। पुलिस को राज्य सूची के अंतर्गत रखा गया है।

पुलिस में सबसे निचली रैंक पर कौन सा पद होता है ?

पुलिस में सबसे निचली रैंक पर कांस्टेबल का पद होता है।

राज्य में पुलिस का सबसे बड़ा अधिकारी कौन होता है ?

राज्य में पुलिस का सबसे बड़ा अधिकारी डीजीपी या Director General of Police (DGP) होता है जिसे की पुलिस महानिदेशक के नाम से भी जाना जाता है।

थाना इंचार्ज किस अधिकारी को कहा जाता है ?

थाना इंचार्ज के पद पर आमतौर पर सब इंस्पेक्टर (Sub Inspector (SI) की नियुक्ति की जाती है।

पुलिस विभाग के उच्च-अधिकारियों की नियुक्ति किसके माध्यम से की जाती है ?

पुलिस विभाग के उच्च-अधिकारियों की नियुक्ति UPSC के माध्यम से चयनित आईपीएस अधिकारियों के मध्य से की जाती है।

Leave a Comment

Join Telegram