बैंक से ही नही बल्कि माता-पिता और रिश्तेदारों से भी ले सकते हैं होम लोन! टैक्स में मिलेगी छूट, जानिए तरीका

घर बनाने के लिए अधिकतर लोग होम लोन लेते है लेकिन यह प्रक्रिया इतनी आसान नहीं होती. होम लोन लेने के लिए बैंक में बहुत लंबा समय लगता है साथ ही इसके लिए होने वाली कागजी कार्यवाही भी बहुत लम्बी और थकाऊ होती है. साथ ही अगर आपका लोन अप्प्रूव हो भी जाता है इंट्रेस्ट की दरें इतनी भारी भरकम होती है की इसे चुकाने में लोगों के पसीने छूट जाते है. लेकिन क्या आप जानते है की आप सिर्फ बैंक से ही नहीं बल्कि अपने दोस्तों, करीबियों और रिश्तेदारों से भी होम लोन ले सकते है. इस प्रकार के होम लोन लेने में सबसे बड़ा फायदा यह है की आपको ना तो ज्यादा फॉर्मलिटीज से गुजरना पड़ता है और ना ही ज्यादा इंट्रेस्ट रेट की झंझट होती है. साथ ही आपको टैक्स में भी छूट मिल जाती है चलिए जानते है क्या है इसका पूरा प्रोसेस

ये है फायदे

आपको बता दे की बैंक की अपेक्षा परिवार के लोगो या दोस्तों से होम लोन लेने पर आप ना सिर्फ कागजी कार्यवाही और फॉर्मलिटीज से बच जाते है बल्कि इससे अन्य कई तरह के फायदे भी मिलते है.

  • परिवारजनों और दोस्तों से लोन लेने पर इंट्रेस्ट की दरें बैंको की अपेक्षा कम होती है इसलिए आप पर ज्यादा बोझ नहीं पड़ता .
  • लोन लेने के लिए कागजी कार्यवाही नहीं करनी पड़ती इसलिए आपका समय भी बच जाता है.
  • चूँकि आपके दोस्त और रिश्तेदार आपको अच्छे से जानते है इसलिए आपको बैंक हिस्ट्री, इनकम और अन्य पर्सनल जानकारियों की पड़ताल नहीं करते.
  • अगर आप बैंक का लोन चुकाने में देरी करते है तो इसके लिए बैंक आप पर कार्यवाही करता है वह रिश्तेदारों से लोन लेने में यह दिक्कत नहीं है.
  • अगर आप बैंक से लोन लेते है तो आपको बैंक द्वारा लागू किये गए सभी नियम मानने पड़ते है वही रिश्तेदारों में आपको ऐसे नियम नहीं मानने होते.
  • रिश्तेदारों और परिवारजनों से लोन लेने की प्रक्रिया लचीली और सहज होती है वही बैंक के लोन सम्बंधित नियम कड़े होते है.

ऐसे ले परिवारजनों रिश्तेदारों से लोन

आपको बता दे की परिवारजनों और दोस्तों रिश्तेदारों से लोन लेने की प्रक्रिया काफी सरल है. आप आपस में बातचीत करके और शर्तों को बताकर लोन लेने की प्रक्रिया पूरी कर सकते है. हालांकि आपको इसके लिए किसी लीगल एक्सपर्ट की मदद लेने की सलाह दी जाती है क्यूंकि इस मामले को ज्यादा निजी रखने पर अगर कोई विवाद की सिचुएशन आती है तो ऐसे समय में आपके सामने मुश्किलें खड़ी हो सकती है वही लीगल एक्सपर्ट के सामने इस प्रकार का प्रोसेस होने पर विवादों को आसानी से सुलझाया जा सकता है.

मिलता है टैक्स में फायदा

बता दे की सम्बन्धियों और रिश्तेदारों दोस्तों से लोन लेने पर आपको ना सिर्फ आसानी से कम दरों पर होम लोन मिल जाता है बल्कि आपको टैक्स में भी फायदा मिलता है. होम लोन लेने पर आपको प्रिंसिपल अमाउंट और इंट्रेस्ट रेट पर छूट प्रदान की जाती है. अगर आप बैंक से होम लोन लेते है तो आयकर एक्ट के सेक्शन 80C के तहत आपको डेढ़ लाख तक की छूट प्रदान की जाती है. वही होम लोन पर आयकर की धारा 24 के तहत आपको लोन के इंट्रेस्ट पर 2 लाख तक की छूट प्रदान की जाती है. हालांकि यह ध्यान रखना जरूरी है की अगर आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से होम लोन लेते है तो आपको आयकर एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट नहीं दी जाती.

ऐसे समझें पूरा गणित

मान लीजिये की आपको 20 लाख के होम लोन की जरूरत है और आप अपने दोस्तों रिश्तेदारों से यह लोन लेते है. माना इस रकम को चुकाने के लिए आपने 20 वर्ष का समय और 6 फीसदी ब्याज दर तय की हुयी है तो इस तरह से आपको हर महीने 14,329 रुपए की ईएमआई चुकानी होगी. इस तरह से आपका सालाना ब्याज हुआ 1,18,547 रुपए वही आपका सालाना 53,396 रुपये प्रिंसिपल अमाउंट के रूप में चुकाने होंगे.

आपको बता दे की इस रकम में आपको सालाना ब्याज 1,18,547 रुपए पर आयकर की धारा 24 के तहत टैक्स में छूट प्रदान की जाएगी हालांकि जानकारी के लिए बता दे की आपको प्रिंसिपल अमाउंट पर कोई भी छूट प्रदान नहीं की जाएगी. वही अगर आप घर के री-कंस्ट्रक्शन और रिपेयर सम्बंधित कामो के लिए लोन लेना चाहते है तो इस में भी आपको 30,000 रुपए तक की टैक्स छूट का लाभ मिल जायेगा.

ऐसे ले टैक्स में छूट

होम लोन के तहत 2 लाख तक के टैक्स छूट के लिए आपको दोस्त या रिश्तेदार जिससे भी आपने होम लोन लिया है उसके द्वारा जारी किया गया सर्टिफिकेट दिखाना होगा जिसमे आपके द्वारा पे किये गए टैक्स का विवरण होगा साथ ही अन्य जानकारियाँ भी दर्ज होंगी. आपको बता दे की यह छूट सिर्फ पोस्सेड प्रॉपर्टी पर ही मिलेगी जिसे आप 5 हिस्सों में ले सकते है.

Leave a Comment