Holika Dahan 2022 Date: होलिका दहन के दिन भूलकर भी ना करें ये काम, हो सकता है नुकसान

जल्द ही होली का त्यौहार आने वाला है ऐसे में सभी लोग इसे लेकर उत्सुक है। दिवाली की भाँति ही होली भी बुराई पर अच्छाई का प्रतीक माना जाता है। होलाष्टक यानी की होली से 8 दिन पहले का समय इस समय अंतराल में शुभ कार्यो को करना वर्जित माना जाता है क्यूंकि इस समय नकारात्मक शक्तियाँ अधिक हावी रहती है। हालांकि ज्योतिषियो के अनुसार इसके बाद आप सभी शुभ कार्य कर सकते है परन्तु यदि इस अवधि के दौरान कुछ कार्यो को टाला जाए तो ही ये आपके लिए बेहतर है। होलिका दहन के दिन आपको कुछ कार्यो से बचकर रहना चाहिए तभी आप विभिन मुश्किलों से बच सकते है। चलिए जानते है उन कार्यो को जो आपको होलिका दहन के दिन भूलकर भी नहीं करने चाहिए।

Holika Dahan 2022 Date

सनातन धर्म के अनुसार होलिका दहन को बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है। होलिका दहन होली के पहले दिन की शाम को होता है और इस साल होलिका दहन 17 मार्च, 2022 को होगा। इस बार होली का शुभ मुहूर्त 1 घंटा 10 मिनट का होगा जो 17 मार्च को 9 बजकर 20 मिनट पर शुरू होगा और 10 बजकर 31 मिनट तक रहेगा।

होलिका दहन में उग्र रहता है ग्रहो का स्वभाव

आपको बता दे की होलिका दहन होली से एक दिन पहले यानी की फाल्गुन मास की पूर्णिमा को किया जाता है। जबकि चैत्र माह की प्रतिपदा तिथि को होली मनाई जाती है। पौराणिक कथाओं की अनुसार असुर दैत्य हिरण्यकश्यप का पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु का अनन्य भक्त था। वह दिन रात प्रभु की भक्ति में ही खोया रहता था जिस कारण हिरण्यकश्यप ने अपने पुत्र को कई बार मारने की कोशिश भी की परन्तु भगवान विष्णु की कृपा के कारण प्रह्लाद को किसी भी प्रकार की हानि नहीं हुयी। ऐसे में हिरण्यकश्यप की बहन होलिका जिसे की भगवान शिव द्वारा प्राप्त चादर से ना जलने का वरदान प्राप्त था वह प्रह्लाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ गयी। परन्तु इस अग्नि में होलिका स्वयं भस्म हो गयी परन्तु भगवान विष्णु की कृपा से प्रह्लाद की जान बच गयी। इसके बाद से ही होलिका मनाने की प्रथा शुरू हुई।

होलिका दहन के दिन बचे इन कामो से

  • होलिका दहन के दिन काले कपड़ो के प्रयोग से बचना चाहिए क्यूंकि इस दिन नकारात्मक शक्तियाँ अधिक प्रबल होती है।
  • इस दिन लोग विभिन प्रकार के टोने-टोटके और जादू करते है ऐसे में किसी के भी घर में इस दिन भोजन करने से बचना चाहिए।
  • सिर को खुला रखकर भ्रमण करना भी इस दिन अशुभ माना जाता है ऐसे में अपने सिर को किसी कपडे या रुमाल से ढककर रखे।
  • पुत्र प्राप्त लोगों को इस दिन होलिका दहन से बचना चाहिए साथ ही इसके लिए उन्हे किसी पंडित या अन्य व्यक्ति से होलिका दहन की प्रक्रिया पूरी करवानी चाहिए ।
  • होलिका दहन के दिन किसी भी प्रकार के मादक वस्तुओ का उपभोग नहीं करना चाहिए साथ ही नवविवाहित स्त्रियों को इस कार्यक्रम में शामिल नहीं होना चाहिए।

Leave a Comment