हरियाली, कजरी और हरतालिका तीज में क्या है अंतर? [2022] जानिए इन तीनों त्योहारों का महत्व

भारत एक बहुत ही बड़ा देश हैं जहाँ पर तरह तरह के लोग निवास करते हैं और उन सभी लोगो के अपने अपने त्यौहार होते हैं जिनको लोग बड़े ही धूम धाम और खुशियों के साथ मनाये जाते हैं और जितने भी त्यौहार होते हैं त्यौहार के पीछे कोई न कोई कहानी या फिर कारण तो होता ही हैं। तो आज हम ऐसे ही एक त्यौहार के बारे में बात करने वाले हैं जिसका नाम हैं तीज। तीज एक ऐसा त्यौहार हैं जो की हिन्दू धर्म में मनाया जाने वाला त्यौहार होता हैं। इस त्यौहार के भी प्रकार होते हैं जैसे की हरियाली तीज, कजरी तीज, हरतालिका तीज, तीनों को मनाने के अलग-अलग तरीके और कारण है,

तो आज हम आपको इस लेख मे यह बताने वाले हैं की तीज क्या है ? और हरियाली, कजरी और हरतालिका तीज में क्या है अंतर? और इनको क्यों मनाया जाता है, इनका महत्त्व क्या है ?

हरियाली, कजरी और हरतालिका तीज में क्या अंतर है ?

इसको भी पढ़िए :- दिवाली कब है 2022, जानें 2022 में दीपावली कितने तारीख को है?

तीज क्या है ?

तीज हिन्दुओं का एक त्यौहार हैं। यह त्यौहार सुहागन महिलाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इस दिन शादी शुदा महिलायें अपने पति यानि के उनके सुहाग पूरे परिवार के लिए व्रत रखती है। ताकि उनकी उम्र बढ़ सके और घर में सुख शांति रहे और सभी का स्वास्थ्य भी अच्छा रहे। और भगवान की कृपा सभी पर बनी रहे। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखतीं हैं और इस दिन माता पार्वती और भगवान शिव जी की पूजा की जाती है। तीज का त्यौहार साल में तीन बार मनाया जाता हैं। हरियाली तीज, कजरी तीज, हरतालिका तीज तीनों को मानाने के अपने हैं जिनके बारे में हम आज बात करने वाले हैं। तो कृपया इस लेख को अंत तक पढ़े

हरियाली तीज

हरियाली तीज हिन्दुओं के कैलेंडर के मुताबिक़ यह हरियाली तीज हिन्दुओं के पवित्र माह में यानि के श्रावण के महीने के शुक्ल पक्ष के तीसरे तिथि को मनाई जाती हैं। इस शुभ अवसर पर महिलायें भगवान शिवजी और माता पार्वती जी की पूजा करती हैं और इस दिन महिलायें निर्जला व्रत भी रखती हैं ताकि उनके पति एवं उनके परिवार को सुख समृद्धि,अच्छा स्वास्थ्य और लम्बी आयु मिलें। इस वर्ष हरियाली तीज 31 तारीख को मनाई जायेगी।

हरियाली तीज का दूसरा नाम श्रावणी तीज, छोटी तीज, मधुश्रवा भी हैं इसको इन नामों से भी जाना जाता है। हरियाली तीज के दिन वह महिलायें जिनकी नई नई शादी हुई होती हैं वह अपने ससुराल (पति का घर) से मिली हुए कपडे, आभूषण, मेहंदी एवं श्रृंगार का सामान और मिठाई आदि जैसी चीजे नए शादी शुदा लड़की को भेजी जाती हैं।

बताया यह भी जाता हैं की इस त्यौहार यानि के हरियाली तीज के बाद ही हिन्दुओं के बहुत से महत्वपूर्ण त्यौहार आते हैं जैसे की – रक्षा बंधन, जन्माष्टमी और नवरात्रे, दशहरा, नाग पंचमी आदि जैसे त्यौहार। इस दिन आप अपने और भी बहुत से शुभ कार्य कर सकते हो जिसके लिए आपको किसी से भी पूछने की आवश्यकता नहीं होती क्योंकि हिन्दुओं के त्यौहार वाले दिन बहुत ही शुभ हैं।

कजरी तीज

कजरी तीज हिन्दुओं के कैलेंडर के अनुसार यह कजरी तीज भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की तीसरी तिथि को मनाई जाती हैं। कजरी तीज को भी बहुत से नामों से भी जाना जाता हैं जी की – बूढी तीज, सातुड़ी तीज। यह तीज हरियाली तीज के बाद मनाई जाती हैं। कजरी तीज के शुभ दिन पर भी विवाहित महिलायें भगवान शिव जी की और माता पार्वती जी की आराधना करती हैं और भगवान से अपने पति, परिवार के लिए लम्बी आयु एवं सुख समृद्धि की प्रार्थना करती हैं।

कजरी तीज को अधिकतर उत्तरप्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, बिहार जैसे क्षेत्रों में मनाई जाती हैं। इस वर्ष कजरी तीज 14 अगस्त की तिथि को मनाई जायेगी। इस दिन भी शादीशुदा महिलायें निर्जला व्रत रखती हैं केवल शादी शुदा महिलाएं ही नहीं इस व्रत को कुंवारी लड़किया भी रखती हैं ताकि उनको एक अच्छा पति मिलें।

हरतालिका तीज

हरतालिका तीज हिन्दुओं के पंचांग शुभ दिन भाद्रपद माह के तीसरे तिथि को हरतालिका तीज के नाम से जाना जाता हैं। हिन्दुओं के अनुसार यह तीज तीनों तीजों में सबसे बड़ी तीज मानी जाती हैं। हरियाली तीज को भारत की कुछ जगहों पर तीजा के नाम से भी जाना जाता हैं। इस हरैयाली तीज के शुभ अवसर पर भी विवाहित महिलायें निर्जला व्रत रखती हैं और अपने पति की लम्बी आयु और अच्छे स्वास्थ्य, सुख समृद्धि की प्रार्थना करती हैं। इस दिन पर भी महिलायें भगवान शिव जी की और माता पारवती जी पूजा व अर्चना करती हैं। इस व्रत को कुंवारी लड़कियां भी रख सकती हैं ताकि उन सभी लड़कियों को अपनी पसंद का वर मिलें।

शिव पुराण में बताया गया है की माता पार्वती जी ने भगवान शिव जी को अपने पति के रूप में पाने के लिए उन्होंने भी यह व्रत रखा हुआ था और माता पार्वती जी की भक्ति व तप को देखकर भगवन शिव जी ने माता पार्वती जी को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार किया था। इस वर्ष हरतालिका तीज 30 अगस्त को मनाई जायेगी। महिलायें अगले दिन खोलती हैं।

हरियाली कजरी और हरतालिका से सम्बंधित पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न

तीज क्या है ?

तीज हिन्दुओं का एक त्यौहार हैं। यह त्यौहार सुहागन महिलाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण हैं क्योंकि इस दिन शादी शुदा महिलायें अपने पति यानि के उनके सुहाग पूरे परिवार के लिए व्रत रखती है। ताकि उनकी उम्र बढ़ सके और घर में सुख शांति रहे और सभी का स्वास्थ्य भी अच्छा रहे। और भगवान की कृपा सभी पर बनी रहे। इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखतीं हैं और इस दिन माता पार्वती और भगवान शिव जी की पूजा की जाती है।

तीज कितने प्रकार की होती हैं ?

तीज तीन प्रकार की होती हैं जिनका नाम कुछ इस प्रकार हैं
1. हरियाली तीज
2. कजरी तीज
3. हरतालिका तीज

हरियाली तीज हिन्दुओं के कौनसे माह में मनाई जाती हैं ?

हरियाली हिन्दुओं के पावन महीने श्रावण के महीने में शुक्ल पक्ष के तीसरे तिथि को मनाई जाती हैं।

इस वर्ष कजरी तीज किस तारीख को मनाई जाएगी ?

इस वर्ष कजरी तीज 14 अगस्त को मनाई जायेगी।

हरियाली तीज को किस किस नाम से जाना जाता हैं ?

हरियाली तीज को श्रावणी तीज,छोटी तीज,मधुश्रवा के नाम से भी जाना जाता हैं।

Leave a Comment