आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2022 रजिस्ट्रेशन: ऑनलाइन आवेदन, लाभ व पात्रता

केंद्र सरकार द्वारा देश के नागरिको को बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें प्रदान करने के लिए समय-समय पर विभिन योजनाओ का संचालन किया जाता है। इसी क्रम में केंद्र सरकार द्वारा आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2022 (Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022) का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के तहत केंद्र सरकार द्वारा देश के स्वास्थ्य ढाँचे को बेहतर बनाने और सभी नागरिको तक स्वास्थ्य सुविधाओं की पहुँच सुनिश्चित करने के लिए हेल्थ-इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास किया जायेगा साथ ही शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य इकाइयो को मजबूत करने के लिए वित्तीय सहायता भी प्रदान की जायेगी। इस योजना की घोषणा वित् मंत्री निर्मला सीतारमण के द्वारा वित् वर्ष के बजट को पेश करने के दौरान की गयी है जिसके लिए सरकार द्वारा स्वास्थय संरचनाओं पर विशेष ध्यान दिया जायेगा। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको बताने वाले है की Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022 क्या है ? इस योजना का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएँ, पात्रता और आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेज क्या-क्या है? साथ ही लेख के माध्यम से आपको योजना में आवेदन करने के बारे में भी अवगत कराया जायेगा।

Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna -आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना
Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna -आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना

देश में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने और नागरिको तक स्वास्थ्य सुविधाओं की आसान पहुंच सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022 की शुरुआत की गयी है। इस योजना के अंतर्गत केंद्र सरकार द्वारा देश के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए आधारभूत सरंचनाओं का विकास किया जायेगा ताकि देश के स्वास्थ्य ढाँचे को एकीकृत किया जा सके। योजना के क्रियान्वयन के लिए केंद्र सरकार द्वारा आगामी 6 वर्षो के लिए 64,180 करोड़ रुपए के बजट की घोषणा की गयी है जिसके माध्यम से देश के सभी भागो में अस्पतालों, वेलनेस सेंटर, लैब और अन्य स्वास्थ्य इंफ्रास्ट्रचर को विकसित किया जायेगा साथ ही भविष्य में आने वाली स्वास्थ्य सम्बंधित चुनौतियों से निपटने के लिए सरकार द्वारा योजना के माध्यम से अनुसंधान के क्षेत्र पर भी ख़ासा जोर दिया जायेगा ताकि सभी आगामी चुनौतियों से आसानी से निपटा जा सके। योजना के तहत सरकार द्वारा देश के 17,788 ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य कल्याण केन्द्रो और सभी राज्यों में 11,024 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर की स्थापना की जाएगी।

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2022, Highlights

इस टेबल के माध्यम से आपको Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022 से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं की जानकारी प्रदान की गयी है :-

योजना का नाम आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2022
योजना का उद्देश्य देश में स्वास्थ्य सरंचना को मजबूत करना
शुरू की गयी केंद्र सरकार द्वारा
लाभ नागरिको को बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें प्राप्त होंगी
वर्ष 2022
कुल बजट 64,180 करोड़ रुपए
लाभार्थी पूरे देश के नागरिक
आधिकारिक वेबसाइट जल्द लांच की जाएगी (Will be launched soon)
आवेदन का माध्यम ऑनलाइन

Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022, उद्देश्य

देश में स्वास्थ्य ढाँचे की स्थिति पर्याप्त सही ना होने के कारण नागरिको को विभिन समस्याओ का सामना करना पड़ता है। शहरी क्षेत्रों में आबादी के हिसाब से पर्याप्त अस्पताल और अन्य स्वास्थ्य सुविधायें उपलब्ध नहीं होती साथ ही इस क्षेत्र में अन्य सरंचनात्मक सुविधाओं की भी कमी है। वही ग्रामीण क्षेत्रों में भी ना तो पर्याप्त मात्रा में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और डॉक्टर है और ना ही जांच, टेस्ट और दवायें जैसी सुविधायें मूलभूत स्वास्थ्य सुविधायें। ऐसे में नागरिको को खासकर ग्रामीण क्षेत्र के नागरिको को छोटी-छोटी बीमारियों की स्थिति में भी शहरो के चक्कर लगाने पड़ते है जिससे उनकी आर्थिक स्थिति ख़राब होती है। इन सभी समस्याओ को दूर करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022 शुरू की गयी है। इस योजना के तहत सरकार द्वारा देश में स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के लिए सरंचनात्मक सुविधाओं का विकास किया जायेगा जिससे की नागरिको को बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें प्राप्त हो। इस योजना के माध्यम से सरकार द्वारा देश में अस्पतालों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रो, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, वैलनेस सेंटर, जांच केंद्र, लैब और फार्मेसी जैसी मूलभूत सुविधाओं का विकास किया जायेगा जिससे की सभी नागरिक लाभान्वित होंगे।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन 2022:-ये है आवेदन प्रक्रिया, जाने यहाँ

Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna-2022 के तहत सरकार द्वारा स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े 3 क्षेत्रों पर फोकस किया जायेगा:- जांच, इलाज और अनुसंधान। इसके माध्यम से सरकार द्वारा देश के सभी 3382 ब्लॉक में इंटीग्रेटेड पब्लिक हेल्थ प्रयोगशालाओं की स्थापना की जाएगी ताकि समय पर सभी रोगो की जांच के द्वारा नागरिको को आवश्यक्तानुसार इलाज प्रदान किया जा सके। साथ ही मूलभूत सुविधाओं के विकास के लिए सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत 64,000 करोड़ से अधिक का बजट जारी किया गया है।

योजना का क्रियान्वयन

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना 2022 के तहत सरकार द्वारा स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर के तीन पिलर्स पर कार्य किया जायेगा।

  • जाँच (Diagnosis):- नागरिको को बेहतर इलाज प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत पूरे देश में एकीकृत सार्वजानिक प्रयोगशालाओं का निर्माण किया जायेगा ताकि सभी बीमारियों की आसान, किफायती, समयबद्ध और प्रभावी जांच सुनिश्चित की जा सके। साथ ही इन लैबों को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से भी जोड़ा जायेगा ताकि सभी नागरिक समय पर ऑनलाइन माध्यम से अपनी टेस्ट्स रिपोर्ट्स को प्राप्त कर सके। इससे बीमारियों की समुचित जांच सुनिश्चित की जाएगी ताकि सभी नागरिको को सही ट्रीटमेंट मिल सके।
  • इलाज (Treatment):- योजना के दूसरे पिलर के रूप से सरकार द्वारा लोगो को बेहतर इलाज प्रदान करने के लिए शहरी क्षेत्र में अस्पतालो, वेलनेस सेंटर और अन्य सार्वजिक स्वास्थ्य इकाईयाँ एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और जिला मुख्यालयों में क्रिटिकल केयर सेंटरों की स्थापना की जाएगी ताकि सभी नागरिको को बेहतर इलाज प्रदान किया जा सके।
  • अनुसंधान (Research):- योजना के तीसरे पिलर के रूप में सरकार द्वारा रिसर्च के क्षेत्र पर ध्यान दिया जायेगा। इसके लिए सरकार द्वारा नेशनल केयर फॉर डिजीज कंट्रोल और देश के विभिन भागों में फैली इसकी 5 क्षेत्रीय शाखाओ के साथ अन्य 20 मेट्रोपॉलिटन हेल्थ सरवायलेंस यूनिट को अनुसंधान के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी ताकि भविष्य में आने वाली बीमारियों से लड़ने के लिए पर्याप्त रोकथाम की जा सके। साथ ही इसके तहत वैक्सीन और नयी-नयी दवाओं के लिए भी अनुसंधान किया जायेगा ताकि कोरोना जैसी महामारी की स्थिति से बेहतरी से निपटा जा सके।

इस प्रकार योजना के माध्यम से सरकार द्वारा स्वास्थ्य के सभी पहलुओं के विकास के लिए विभिन क्षेत्रों पर ध्यान दिया जा रहा है। इस योजना से देश के सभी क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाने के साथ-साथ बीमारियों की प्रभावी रोकथाम भी की जा सकेगी।

निर्मित होगा एकीकृत स्वास्थ्य सिस्टम

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के तहत प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी द्वारा 25 अक्टूबर 2021 को इंटीग्रेटेड हेल्थ इनफॉरमेशन पोर्टल का शुभारंभ किया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से देश में स्थापित सभी सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाओं को जोड़ा जायेगा ताकि नागरिक ऑनलाइन माध्यम से अपनी टेस्ट-रिपोर्ट्स प्राप्त कर सके। साथ ही देश के17778 गांवों और सभी राज्यों में 11024 वेलनेस सेंटर स्थापित करने के लिए भी योजना के अंतर्गत बजट का प्रावधान किया गया है। देश के सभी जिलों में आपात स्थिति में स्वास्थ्य सेवायें प्रदान करने और इमरजेंसी में पेशेंट को रेफर करने के लिए सभी जिला मुख्यालयों में क्रिटिकल केयर यूनिट्स भी निर्मित की जाएगी। साथ ही योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा सभी क्षेत्रों तक स्वास्थ्य सुविधाओं की पहुँच सुनिश्चित करने के लिए 2 मोबाइल वैन भी लांच की जाएगी ताकि सभी क्षेत्रों को योजना के अंतर्गत कवर किया जा सके। इसके अतिरिक्त सरकार द्वारा विभिन क्षेत्रों में 15 हेल्थ इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर को स्थापित करने के लिए प्रावधान किये गये है।

पीएम जन आरोग्य योजना – मिलेगा 5 लाख रूपए तक फ्री इलाज, ये है आवेदन प्रक्रिया

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के अंतर्गत सरकार पूरे देश में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में अति-पिछड़े 10 राज्यों का चयन किया जायेगा जिनमे सभी जिलों में इंटीग्रेटेड पब्लिक हेल्थ लैब को शुरू किया जायेगा। साथ ही योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए देश के 3382 ब्लॉक में सार्वजानिक स्वास्थ्य इकाइयों का निर्माण भी किया जायेगा जिससे की योजना की सफलता को सुनिश्चित किया जा सके।

योजना के मुख्य बिंदु

केंद्र द्वारा शुरू की गयी आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना देश की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना है जिसके लिए सरकार द्वारा 64000 करोड़ रुपए से भी अधिक का बजट जारी किया गया है। इसके अंतर्गत सरकार द्वारा विभिन जिलों में मेडिकल कॉलेजो की स्थापना भी की जाएगी ताकि देश में डॉक्टरों को कमी को दूर किया जा सके। इस योजना के मुख्य बिंदु इस प्रकार है :-

  • इस योजना को केंद्र सरकार द्वारा देश में हेल्थ-इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने के लिए लांच किया गया है जिसके माध्यम से स्वास्थ्य ढाँचे को बेहतर बनाने के लिए अगले 6 वर्षो में 64,000 करोड़ से अधिक की धनराशि खर्च की जाएगी।
  • योजना के तहत शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधाओं में मौजूद कमियों को दूर करके क्रिटिकल केयर सेंटर और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो को बेहतर बनाया जायेगा साथ ही उनमे सभी मूलभूत सुविधाओं का विकास भी किया जायेगा।
  • देश के 5 लाख से अधिक आबादी वाले जिलों में क्रिटिकल केयर हॉस्पिटल ब्लॉक का निर्माण किया जायेगा जिससे की इमरजेंसी की स्थिति में मरीजों को बड़े शहरो में रेफर ना करना पड़े। साथ ही अन्य सभी जिलों को भी योजना के माध्यम से रेफरल सेवाओं के द्वारा कवर किया जायेगा।
  • स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने और लोगो को आधुनिकतम स्वास्थ्य सुविधायें प्रदान करने के लिए योजना के अंतर्गत ब्लॉक, डिस्ट्रिक्ट, रीजन और अन्य क्षेत्रीय स्तर पर रोगो की जांच के लिए प्रयोगशालाओं का नेटवर्क स्थापित किया जायेगा साथ ही रोगो की प्रभावी निगरानी के लिए आधुनिक तकनीक की मदद भी ली जाएगी जिससे की स्वास्थ्य सेवाओं के लिए आईटी इनेबल तकनीक का उपयोग किया जा सके।
  • इस योजना के माध्यम से सरकार द्वारा देश में हेल्थ-इंफ्रास्ट्रक्टर ढाँचे में विस्तार करने के लिए नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर वन हेल्थ, 9 बायोसेफ्टी लेवल-3 की प्रयोगशालाएँ, नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर वन हेल्थ, नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल के 5 नये सेंटर और विश्व स्वास्थ्य संगठन का साउथ-ईस्ट एशिया क्षेत्र के लिए क्षेत्रीय अनुसंधान कार्यालय स्थापित किया जायेगा।
  • योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा देश के विभिन क्षेत्रों में 17 नयी पब्लिक स्वास्थ्य इकाईयां और और एंट्री-पॉइंट्स पर मौजूद पहले से संचालित हो रही 33 पब्लिक स्वास्थ्य इकाईयों को मजबूत किया जायेगा।
  • साथ ही योजना के माध्यम से देश में मेडिकल प्रोफेशनल और डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने के लिए प्रभावी उपाय किया जायेगे। सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत पूरे देश में 157 नये मेडिकल कॉलेज खोलने का निर्णय लिया गया है जिनमे से 57 मेडिकल कॉलेज वर्तमान में संचालित हो रहे है।
  • ग्राउंड-लेवल पर स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाने के लिए सभी जिले में क्रिटिकल केयर यूनिट्स का संचालन किया जायेगा साथ ही जिला अस्पतालों को अधिक प्रभावी बनाने के लिए बेहतर कार्ययोजना का निर्माण किया जायेगा।

आयुष्मान भारत गोल्डन कार्ड 2022 डाउनलोड करें -ये है पूरा प्रोसेस

आवेदन करने हेतु आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाणपत्र
  • राशन कार्ड
  • बैंक अकाउंट की पासबुक
  • आय प्रमाणपत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

योजना में आवेदन करने के लिए आवेदक को भारत का स्थाई निवासी होना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त उसे सरकार द्वारा तय की गयी अन्य पात्रताओं को भी पूरा करना होगा।

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना, ऐसे करें आवेदन

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के तहत आवेदन करने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सबसे पहले योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जायें।
  • होमपेज पर आपको आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना में आवेदन का लिंक दिखाई देगा। इस पर क्लिक कर दे।
Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna Online registration
Atmanirbhar Swasth Bharat Yojna Online registration
  • इसके बाद आपके सामने योजना का आवेदन फॉर्म खुल जायेगा। इसमें मांगी गयी सभी जानकारियाँ दर्ज कर दे। साथ ही सभी जरुरी दस्तावेजों को भी अपलोड कर दे।
  • अन्य औपचारिकतायें पूरी करने के बाद आप इसे सबमिट कर सकते है।
  • इस प्रकार से आप आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना के तहत आवेदन कर सकते है।

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना से सम्बंधित अकसर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना क्या है ?

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी है। इस योजना के तहत सरकार द्वारा देश में हेल्थ-इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत बनाने के लिए प्रावधान किये जायेंगे।

इस योजना का क्या लाभ है ?

इस योजना के द्वारा देश में हेल्थ-इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत होगा जिससे सभी नागरिको को बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें मिलेंगी। साथ ही देश में सभी नागरिको को स्थानीय स्तर पर बेहतर स्वास्थ्य सुविधायें मिलेंगी। ग्रामीण क्षेत्रों को लाभ प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो के विकास पर विशेष ध्यान दिया जायेगा।

योजना में आवेदन करने का प्रोसेस क्या है ?

आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना में आवेदन करने के लिए ऊपर दिया गया लेख पढ़े। इसमें बताये गए स्टेप्स को फॉलो करके आप योजना में आवेदन कर सकते है।

Leave a Comment