यूपी के सन्यासी बेटे की घर वापसी में 3 लाख रुपए की बाधा, बेटे को लेकर परेशान पिता का मामला जाने

Amethi Son Returned Home After 22 Years: अमेठी में गायब बेटे की कहानी में एक नया मोड़ आया है। 22 साल पहले गायब हुआ बेटा अचानक सन्यासी बनकर लौटा था जिसके बाद परिवार खुशी से झूम उठा था। लेकिन अब कहा जा रहा है कि मठ की तरफ से बेटे को वापस पिता को सौंपने के लिए पैसे की डिमांड की जा रही है। यह खबर सुनकर सभी हैरान रह गए हैं।

Amethi Son Returned Home After 22 Years

पूरा मामला जाने

22 साल पहले अमेठी से एक बेटा गायब हो गया था। वह अचानक सन्यासी बनकर लौटा जिसके बाद परिवार खुशी से झूम उठा। लेकिन अब कहा जा रहा है कि मठ की तरफ से बेटे को वापस पिता को सौंपने के लिए 3 लाख 60 हजार रुपये की डिमांड की जा रही है। यह मामला इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह एक गंभीर सामाजिक मुद्दे को उजागर करता है।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

परिवार बड़ी रकम देने में असमर्थ

परिवार का कहना है कि वे इतनी बड़ी रकम नहीं दे सकते। उन्होंने मठ से आग्रह किया है कि वे बेटे को वापस सौंप दें। मठ का कहना है कि बेटे ने अपनी मर्जी से सन्यास लिया है। उन्होंने कहा कि वे बेटे को वापस सौंपने के लिए कोई पैसा नहीं लेंगे।

बेटे मिल पिता के आँसू आए

जायस थाना क्षेत्र के खरौली गांव के रहने वाले रतीपाल सिंह के पुत्र अरूण कुमार दिल्ली से साल 2000 में अचानक लापता हो गए थे। करीब 23 वर्ष बाद जब 6 फरवरी को वे घर पहुंचे तो उनके पिता रतीपाल सिंह और परिजनों ने उन्हें पहचान लिया। अपने सन्यासी बने बेटे को देखकर पिता की आंखें भर गईं।

3,000 साधुओ के लिए पैसे की डिमांड

अमेठी में गायब बेटे की कहानी में पिता की चिंता बढ़ गई है। बेटा 3 हजार साधुओं को दक्षिणा देना चाहता है जिसके लिए 10 लाख 80 हजार रुपये की आवश्यकता होगी। जब पिता ने कहा कि वे इतने रुपये नहीं दे सकते तो बेटे ने 3 लाख 60 हजार रुपये की डिमांड की।

व्हॉट्सऐप चैनल से जुड़ें WhatsApp

पिता की चिंता इसलिए बढ़ गई है क्योंकि वे इतने रुपये नहीं दे सकते। उन्हें डर है कि वे अपने बेटे को वापस नहीं पा सकेंगे। यह स्पष्ट नहीं है कि बेटा 3 हजार साधुओं को दक्षिणा क्यों देना चाहता है। यह संभव है कि वह उन साधुओं का आभार व्यक्त करना चाहता हो जिन्होंने उन्हें सन्यास में मदद की। पिता ने कहा है कि वे जैसे तैसे पैसे का इंतजाम करेंगे।

अन्य खबरें भी देखें:

Leave a Comment