भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य | Amazing Facts About India in hindi

भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य:- एशिया महाद्वीप में स्थित हमारा देश भारत सम्पूर्ण विश्व में अनोखा देश है। विविध प्रकार के धर्म, संस्कृतियों, भाषा, जलवायु, समुदायों, पहनावा एवं खान-पान की अनेकता लिए यह देश सम्पूर्ण विश्व में अपने आप में ही आश्चर्य का विषय है। प्राचीन काल में दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यता हड़प्पा से लेकर वेदो के ज्ञान तक, स्वर्ण युग से लेकर औपनिवेशिक गुलामी तक, विभिन साम्राज्यों में बंटा होने से लेकर विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने का खिताब पाने तक इस देश के इतिहास ने हजारो उत्तार-चढ़ाव देखे है। सम्पूर्ण दुनिया में भारत ही सम्भवता ऐसा देश है जहाँ नागरिको, बोली-भाषा, जलवायु, खानपान एवं क्षेत्र को लेकर इतनी विविधता देखने को मिलती है यही कारण है की भारत की विविधता के कारण सम्पूर्ण विश्व में इसे संस्कृतियों का खजाना कहते है।

भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य
भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपको भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य (Amazing Facts About India in hindi) बताने वाले है जिससे की ना सिर्फ आप अपने देश के महान आश्चर्यो के बारे में जानकर अपने ज्ञान में वृद्धि कर पाएंगे अपितु देश के आश्चर्यजनक तथ्यो के बारे में जानकर आप भी इस देश पर गर्व किये बिना नहीं रह पाएँगे।

Article Contents

भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य

भारत देश आश्चर्यो से भरा हुआ देश है। यहाँ जीवन के हर स्तर पर विविधता के दर्शन होते है जो की अपने आप में ही आश्चर्यजनक प्रतीत होता है। यहाँ भारत के कुछ आश्चर्यजनक तथ्य दिए गए है।

दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में शुमार

दुनिया की सबसे प्राचीन सभ्यताओं में भारत का नाम ना हो ऐसा होना संभव नहीं है। जी हाँ। दुनिया की प्राचीन 4 सभ्यताओं में भारत की हड़प्पा सभ्यता (Indus Valley Civilisation) भी शामिल थी जो की सिंधु नदी के किनारे बसी हुयी थी। यह सभ्यता दुनिया के सभी सभ्यताओं में सबसे आधुनिक एवं विकासवादी सभ्यता थी जहाँ शहरो का नियोजित प्रबंध किया गया था। हड़प्पा और मोहनजोदड़ो इस सभ्यता के दो प्रमुख नगर थे।

दुनिया का सबसे प्राचीन ग्रंथ

दुनिया का सबसे प्राचीन ग्रंथ ऋग्वेद को भारत का प्राचीन ग्रंथ होने का गौरव प्राप्त है। यह ग्रन्थ भारत में ऋग्वेदिक काल में लिखा गया था जिसमे कुल 10 मंडल, 1028 सूक्त और 10462 ऋचाएँ है। सम्पूर्ण विश्व में ऋग्वेद ही एक मात्र ऐसा ग्रंथ है जो की इतना प्राचीन होने के पश्चात भी आधुनिक समय में उपलब्ध है। भारत में वेदों के परिपेक्ष्य में ऋग्वेद का प्रथम स्थान है। हालांकि यह याद रखना आवश्यक है की वेदो को भारतीय दर्शन शास्त्र में अपौरुषेय माना जाता है।

सबसे प्राचीन नगर, वाराणसी

उत्तर-प्रदेश में स्थित वाराणसी जिसे की काशी के नाम से भी जाना जाता है दुनिया का सबसे प्राचीन नगर माना जाता है। इस नगर की स्थापना 5000 हजार वर्ष पूर्व हुई थी। कहा जाता है की इस नगरी की स्थापना स्वयं भगवान शिव ने की थी यही कारण है की इसे भगवान शिव की नगरी के रूप में भी जाना जाता है। अपने प्राचीन धार्मिक मान्यताओ एवं हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध मंदिरो के कारण यह नगर श्रद्धालुओ के मध्य आस्था का केंद्र है।

सबसे अधिक धर्मों का उद्भव

भारत पूरी दुनिया के आध्यात्म का केंद्र माना जाता है जिसे की प्राचीन काल से पुण्यभूमि के रूप में मान्यता प्राप्त है। यही कारण रहा है दुनिया में सबसे अधिक धर्मों का उदय भारत में ही हुआ है। भारत में हिन्दू धर्म के अतिरिक्त बौद्ध-धर्म, जैन धर्म, और सिख धर्म का भी उदय हुआ है। भारत विभिन धर्मो का उद्गम स्थल होने के कारण विभिन मतों के निवासियों का घर भी रहा है।

विश्व की सबसे पहला विश्वविद्यालय नालंदा

प्राचीन काल से ही भारत शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी रहा है। दुनिया का सबसे पहला विश्वविद्यालय भारत में ही खुला था जिसे की नालंदा विश्वविद्यालय कहा जाता था। इस विश्वविद्यालय की स्थापना गुप्त वंश के प्रतापी राजा चन्द्रगुप्त द्वितीय के पुत्र कुमारगुप्त द्वारा की गयी थी जो की बौद्ध धर्म के अध्ययन का प्रमुख केंद्र था। हर्षवर्द्धन के शासनकाल में आये चीनी यात्री ह्वेनसांग द्वारा इस विश्वविद्यालय की महिमा का वर्णन किया गया है। इस विश्वविद्यालय में ना सिर्फ देश के अपितु विदेश के छात्र भी विद्या अर्जन करने आया करते थे।

प्लास्टिक सर्जरी की शुरुआत

भले ही आज पश्चिमी चिकित्सा प्रणाली अपनी आधुनिकता के कारण पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो परन्तु एलोपैथी चिकित्सा प्रणाली से कई वर्ष पूर्व ही भारत में आयुर्वेद के महान चिकित्सक सुश्रुत द्वारा प्लास्टिक सर्जरी को अंजाम दिया जा चुका था। सुश्रुत द्वारा 1000 ई. पू. से 800 ई. पू. के मध्य आयुर्वेद की सहायता से मानव के नाक की सफलतापूर्वक प्लास्टिक सर्जरी की गयी थी।

शून्य का अविष्कार

दुनिया में गणित के क्षेत्र में भारत का योगदान अतुलनीय है। भारत के द्वारा ही दुनिया को शून्य अंक दिया गया है जिससे की गणित का समुचित विकास संभव हो पाया है। शून्य की खोज आर्यभट्ट के द्वारा की गयी है जो की गुप्त काल के गणितज्ञ थे। इसके अतिरिक्त भारत के द्वारा दशमलव की खोज भी भारत में आर्यभट्ट के जीवनकाल में की गयी थी। आपको बता दे की बीजगणित और कलन जैसे उच्च-स्तर की गणित का विकास भी भारत में ही हुआ है।

दुनिया का सबसे विशाल मेला

दुनिया का सबसे विशाल धार्मिक मेला जिसे की कुंभ मेला के नाम से भी जाना जाता है पूरे विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक मेला है। इस मेले को पूरे भारत में सिर्फ चार ही स्थानों पर आयोजित किया जाता है जिनके नाम इस प्रकार से है :- हरिद्वार, प्रयागराज, नासिक एवं उज्जैन। कहा जाता है कुम्भ मेले का आयोजन उन स्थानों पर किया जाता है जहाँ समुद्र मंथन के दौरान अमृत की बूँदे गिरी थी।

विभिन खेलों का आविष्कार

भारत दुनिया में विभिन खेलों का जन्मदाता भी रहा है। वर्तमान समय में पूरी दुनिया में प्रचलित शतरंज का अविष्कार भारत में ही हुआ था जिसे की उस काल में चुतुरंग (chaturanga) के नाम से जाना जाता था। इसके अतिरिक्त साँप-सीढ़ी जिसे की स्नेक एंड लैडर (Snakes and ladders) भी कहा जाता है की खोज भी भारत में ही हुयी है जिसे की ‘मोक्षपातम्‘ या ‘ज्ञान चौपड़’ या परम् पदम्’ कहा जाता था। उस काल में इस खेल को पासे और चौकड़ियों से खेला जाता था।

स्वतंत्रता आंदोलन की प्रेरणा

भारत का स्वतंत्रता आंदोलन पूरी दुनिया के लिए प्रेरणा का स्रोत है। हमारा देश 200 वर्षो से भी अधिक समय तक ब्रिटिश उपनिवेश रहा था जिसके पश्चात देश के नागरिको के बलिदान के फलस्वरूप यह देश ब्रिटिश उपनिवेश से आजाद हुआ था। दुनिया में जहाँ विभिन देशों के आजादी के संग्राम में भीषण हिंसक संघर्ष देखने को मिला वही हमारे देश में छिटपुट हिंसक संघर्षो के इतर अधिकतर आंदोलन अहिंसक ही रहा था यही कारण है की भारत के स्वतंत्रता आंदोलन को सम्पूर्ण विश्व में आदर्श आंदोलन के तौर पर देखा जाता है। भारत के स्वतंत्रता आंदोलन को अहिंसक रखने में महात्मा गाँधी का योगदान महत्वपूर्ण है।

दुनिया का अकेला उपमहाद्वीप

हमारा देश भाषा, खानपान एवं पहनावे के अतिरिक्त विभिन चीजों में भी विविधता रखता है। भारत की भौगोलिक विविधता पूरी दुनिया में सबसे अद्वितीय है। भारत ही दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जहाँ हिमालय के ऊँचे-ऊँचे पर्वतों से लेकर भीषण गर्मी से युक्त थार का मरुस्थल, दक्कन के पठार से लेकर समुद्र तट, उत्तर के मैदानों से लेकर डेल्टाई भूमि पायी जाती है। इसी कारण इसे प्रायः उपमहाद्वीप भी कहा जाता है। इसके अतिरिक्त भारत में सभी प्रकार की जलवायु भी पायी जाती है जिसके कारण हमारे देश में प्रत्येक स्तर पर इतनी विविधता दिखाई देती है।

दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान

भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। भारत का संविधान 26 जनवरी 1950 को लागू हुआ था जिसे तैयार होने में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा था। भारत जैसे विविधता से भरे देश के लिए एक संविधान तैयार करना किसी चुनौती से कम नहीं था परन्तु हमारे संविधान निर्माताओं से इस कार्य को बखूबी अंजाम दिया जिस कारण से हमारा संविधान दुनिया का सबसे जीवंत और प्रगतिशील संविधान की श्रेणी में आता है। भारत के संविधान निर्माण में भीमराव अम्बेडकर का सबसे महत्वपूर्ण योगदान था।

22 से अधिक आधिकारिक भाषाएँ

भारत दुनिया में भाषाओं के मामले में सबसे अधिक धनी देश है। भारत के बारे में कहा जाता है की “कोस-कोस पर पानी बदले चार कोस पर वाणी” जिसका अर्थ है की यहाँ कुछ-कुछ दूरी पर ही आपको भाषा में परिवर्तन होता है । भारत में विभिन राज्यों का बंटवारा भी भाषायी आधार पर हुआ है। भारत की विविध भाषाओ के महत्व को देखते हुए ही भारत सरकार द्वारा देश की 22 भाषाओ को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया है। 22 आधिकारिक भाषाओ के अतिरिक्त देश के हर राज्य की अपनी प्रमुख मातृभाषा है इसके अतिरिक्त हमारे देश में सैकड़ो बोलियाँ भी बोली जाती है।

सबसे अधिक मसालों का उत्पादन

अपने अनोखे खानपान के कारण भारत पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है और हमारे खानपान की जान है देश में उगने वाले मसाले। जी हाँ। भारत दुनिया का सबसे बड़ा मसाला उत्पादक देश है यही कारण है की पूरी में 50 फीसदी से भी अधिक मसालों का निर्यात भारत के द्वारा किया जाता है। भारत के मसाले सदियों से ही पूरी दुनिया में प्रसिद्ध रहे है जिसके कारण यूरोप की विभिन देश भी भारतीय मसालों की खोज में हमारे देश में आये थे। भारत में उगने वाली काली-मिर्च को यूरोप में काला सोना कहा जाता था।

शाकाहार में अग्रणी

भारत प्राचीन काल से ही धार्मिक एवं अध्यात्म के क्षेत्र में अग्रणी देश रहा है। इसके अतिरिक्त हमारे धार्मिक ग्रंथो में भी शाकाहार को महत्व दिया गया है। यही कारण है दुनिया में सबसे अधिक शाकाहारी आबादी भारत में ही पायी जाती है। कई रिपोर्ट्स के अनुसार भारत में कुल जनसंख्या के लगभग 39 से 40 फीसदी लोग शाकाहारी है जो की पूरी दुनिया के कुल शाकाहारी लोगो से अधिक जनसंख्या है। भारत में कई राज्यों में 50 फीसदी से अधिक आबादी शाकाहारी है।

दुनिया में सबसे अधिक अंग्रेजी बोलने वाले देशों में शुमार

आपको यह जानकर शायद आश्चर्य होगा की भारत में अंग्रेजी बोलने वालों की आबादी ब्रिटेन में अंग्रेजी बोलने वाले नागरिको से भी अधिक है। जी हाँ भारत में कुल 10 फीसदी आबादी अंग्रेजी बोलती और समझती है जो की 125 मिलियन के करीब है। भारत दुनिया में अमेरिका के बाद सबसे अधिक अंग्रेजी बोलने वाले नागरिकों के क्रम में दूसरे स्थान पर है।

पहले चरण में मंगल पर फतह

अपने प्रथम प्रयास में ही मंगल ग्रह की कक्षा तक पहुंचने वाला विश्व का प्रथम देश भारत ही है। भारत द्वारा लांच किये गए मंगलयान मिशन के द्वारा 23 सितम्बर 2014 को सफतापूर्वक मंगल ग्रह की कक्षा में प्रवेश किया गया जिसके बाद भारत मंगल की कक्षा में पहुंचने वाला चौथा देश बन गया है। हालांकि यह याद रखना आवश्यक है की भारत इस मिशन में प्रथम प्रयास में सफल होने वाला पहला देश है इसके अतिरिक्त भारत का यह मिशन सिर्फ 450 करोड़ रुपए में पूरा हुआ है।

दुनिया में सबसे अधिक वर्षा

भारत के मेघालय राज्य में स्थित मानिसराम को दुनिया में सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान दर्ज किया गया है। चेरापूंजी में स्थित मानिसराम दुनिया का सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान है जहाँ सालाना औसत वर्षा 11हजार mm से भी अधिक दर्ज की गयी है। यही कारण है की इसे दुनिया में सबसे अधिक वर्षा वाला स्थान होने का गौरव प्राप्त है।

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है। भारत दुनिया में आबादी के मामले में दूसरे स्थान पर काबिज है जिससे की यह चीन के बाद दुनिया में दूसरी सबसे अधिक आबादी वाला देश है। भारत ब्रिटिश उपनिवेश से 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था जिसके पश्चात यहाँ संविधान के माध्यम से लोकतांत्रिक प्रणाली को सुनिश्चित किया गया है। यही कारण है वर्तमान में भारत पूरी दुनिया में सबसे बड़ा लोकतान्त्रिक देश है।

भारत के बारे में आश्चर्यजनक तथ्य सम्बंधित प्रश्न (FAQ)

भारत की प्राचीन सभ्यता कौन सी थी ?

भारत की प्राचीन सभ्यता सिंधु घाटी सभ्यता को माना जाता है जिसे की हड़प्पा सभ्यता भी कहा जाता है।

दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी किसे माना जाता है ?

दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी काशी या वाराणसी को माना जाता है जिसकी स्थापना 5000 वर्ष पुरानी मानी जाती है।

दुनिया का सबसे प्राचीन ग्रंथ कौन सा है ?

दुनिया का सबसे प्राचीन ग्रंथ ऋग्वेद है जिसकी रचना ऋग्वेदिक काल में मानी जाती है।

दुनिया में उपमहाद्वीप किसे कहा जाता है ?

अपनी विशिष्ट भौगोलिक विशेषताओं के कारण भारत को प्रायः उपमहाद्वीप या प्रायद्वीप की संज्ञा दी जाती है।

शून्य की खोज किस गणितज्ञ द्वारा की गयी है ?

शून्य की खोज भारत के महान गणितज्ञ आर्यभट्ट द्वारा 3 शताब्दी के मध्य की गयी थी।

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र कौन सा देश है ?

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र भारत को कहा जाता है। इसके अतिरिक्त भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है।

Leave a Comment