(Akhara) अखाड़ा क्या होता है? अखाड़े कैसे काम करते हैं ? जानें इनकी परंपरा और इतिहास के बारे में सब कुछ

अखाड़ा क्या होता है – तो दोस्तों जैसा की आप सभी जानते है की आप सभी यह तो जानते ही है की विश्व का सबसे बड़ा मेला भारत में आयोजित होता है। जिसका नाम है कुम्भ और महाकुम्भ यह दोनों ही मेले बहुत ही बड़े होते है आपको यह भी बता दे की कुम्भ का मेला हर 6 वर्ष में एक बार आयोजित किया जाता है और महाकुम्भ हर 12 वर्ष में एक बार आयोजित होता है। यह मेला इतना बड़ा होता हैकि पूरे विश्व की नजरे इसपर तिकी होती है। यह भारत के बहुत राज्यों और शहरों में आयोजित किया जाता है जैसे की – हरिद्वार, वाराणसी, प्रयागराज, उज्जैन, आदि जैसे कई पावन स्थानों पर इस शुभ मेले का आयोजन होता है। आप सभी यह तो जानते ही होंगे की इस मेले में सबसे मशहूर क्या होता है। इस मेले में भारत के सभी अखाड़ों के साधू एकत्रित होते है।

(Akhara) अखाड़ा क्या होता है ? अखाड़े कैसे काम करते हैं ? जानें इनकी परंपरा और इतिहास के बारे में सब कुछ
(Akhara) अखाड़ा क्या होता है ?

आप सभी अखाड़ों के बारे में तो जानते ही होंगे की अखाडा क्या होता है ? अगर आप यह नहीं जानते है तो आप में से किसी को भी चिंता करने की कोई भी आवश्यकता नहीं है क्योंकि आज हम आप सभी को इस लेख में अखाड़े के बारे में बहुत सी आवश्यक जानकारी प्रदान करने वाले है जैसे की – अखाड़ा क्या होता है ? अखाड़े कैसे काम करते हैं ? जानें इनकी परंपरा और इतिहास आदि जैसी बहुत सी जानकारियां। तो दोस्तों अगर आप भी अखाड़ों के बारे में अधिक जानकारी और इससे सम्बंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हो तो उसके लिए आप सभी को हमारे इस लेख को अंत तक पढ़ना होगा। क्योंक इस लेख में ही हमने इससे सम्बंधित जानकारी प्रदान की हुई है जिसको पढ़ने से ही आप इसके बार में जान सकोगे। तो इसलिए कृपया करके हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

इसको भी अवश्य पढ़े :- अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद द्वारा जारी फर्जी बाबा के नाम की सूची

अखाड़ा क्या होता है | What is Akhara ?

अखाडा साधु व संतों का समूह होता है। अखाड़े के सभी साधु व संत देश व धर्म पर कभी भी संकट आने पर राष्ट्र की व धर्म की रक्षा करने के लिए हमेशा ही तथपर रहते है। राष्ट्र रक्षा या फिर धर्म रक्षा करने के लिए सभी साधु संत अपने अस्त्रों का भी प्रयोग करते है। इन अखाड़ों में रहने वाले साधु व संत अस्त्र विद्या का भी अभ्यास करते है ताकि समय आने पर वह इसका उपयोग कर सकें।

अखाड़े का इतिहास

आप सभी शंकराचार्य जी के बारे में तो जानते ही होंगे शंकराचार्य जी ने हिन्दू धर्म (सनातन धर्म) की स्थापना करते वक़्त शंकराचार्य जी के द्वारा चार पीठ का निर्माण किया गया था। उन चारों पीठों का नाम कुछ इस प्रकार है

  1. श्रृंगेरी मठ – यह मठ भारत के दक्षिण भाग में रामेश्वरम में स्थित है।
  2. गोवर्धन मठ – गोवर्धन मठ भारत के ओडिसा राज्य के पूरी में स्थित है।
  3. शारदा मठ – इस मठ को द्वारका मठ के नाम से भी जाना जाता है यह मठ गुजरात राज्य के द्वारका में स्थित है।
  4. ज्योतिर्मठ – यह मठ उत्तराखंड राज्य के बद्रिकाश्रम में स्थित है।

आप सभी को यह बता दे की यह सनातन धर्म के बहुत ही महत्वपूर्ण मठ है। इन सभी सनातन धर्म के महत्वपूर्ण मठों की सुरक्षा करने के लिए हिन्दू धर्म की बहुत सी सम्प्रदाय को इसकी रक्षा के लिए लिए रखा गया है और इन्ही सम्प्रदाओं की शाखाओं को अखाड़े का रूप दिया गया है। इन अखाड़ों में आप सभी को मैदान भी देखने को मिल जाएगा जहाँ पर आज भी कुस्ती पहलवानी के बहुत से डाव पेंच सिखाये जाते है। भारत में बहुत से अखाड़े है। इन सभी अखाड़ों के अध्यक्ष भी होते है जो की एक चुनावी प्रक्रिया के द्वारा उनका चयन किया जाता है। भारत में करीब 14 अखाड़े है जो की काफी मशहूर भी है उनका नाम कुछ इस प्रकार है :-

कुल 14 अखाड़े हैं
शिव संन्यासी सम्प्रदाय के 7 अखाड़े

  1. श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी- दारागंज प्रयाग (उत्तर प्रदेश)
  2. श्री पंच अटल अखाड़ा- चैक हनुमान, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)
  3. श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी- दारागंज, प्रयाग (उत्तर प्रदेश)
  4. श्री तपोनिधि आनन्द अखाड़ा पंचायती- त्रम्केश्वर, नासिक (महाराष्ट्र)
  5. श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा- बाबा हनुमान घाट, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)
  6. श्री पंचदशनाम आवाहन अखाड़ा- दशस्मेव घाट, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)
  7. श्री पंचदशनाम पंच अग्नि अखाड़ा- गिरीनगर, भवनाथ, जूनागढ़ (गुजरात)

बैरागी वैष्णव सम्प्रदाय के 3 अखाड़े

  1. श्री दिगम्बर अनी अखाड़ा- शामलाजी खाकचौक मन्दिर, सांभर कांथा (गुजरात)
  2. श्री निर्वानी अनी अखाड़ा- हनुमानगढ़ी, अयोध्या (उत्तर प्रदेश)
  3. श्री पंच निर्मोही अनी अखाड़ा- धीर समीर मन्दिर बंसीवट, वृन्दावन, मथुरा (उत्तर प्रदेश)

उदासीन संप्रदाय के 4 अखाड़े

  1. श्री पंचायती बड़ा उदासीन अखाड़ा- कृष्णनगर, कीटगंज, प्रयाग (उत्तर प्रदेश)
  2. श्री पंचायती अखाड़ा नया उदासीन- कनखल, हरिद्वार (उत्तराखण्ड)
  3. श्री निर्मल पंचायती अखाड़ा- कनखल, हरिद्वार (उत्तराखण्ड)
  4. अन्तरराष्ट्रीय जगतगुरु दसनाम गुसांई गोस्वामी एकता अखाड़ा परिषद, दिल्ली (गृहस्थ दसनामी गोस्वामी गुसांई का सबसे बड़ा, सामाजिक अखाड़ा )

अखाड़े कैसे काम करते हैं ?

आप सभी को यह बता दे की यह सभी अखाड़ा के नियम वे कानून बहुत ही कठोर होते है इनको उन सभी नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है। अगर कोई भी साधू या फिर संत कोई भी अपराध या फिर जुर्म करता है तो उस साधु व संत को अखाड़े ही सजा देते है और कोई इनको सजा नहीं देता है। अखाड़ा परिषद् में एक पद कोतवाल का भी होता है और अगर कोई भी साधू या संत किसी भी प्रकार का जुर्म या दुष्कर्म करते है तो उनको कोतवाल के साथ के गंगा नदी में 108 डुबकी भी लगनी होती है उसके बाद उनको उन्ही भीगे कपड़ो में देवस्थान जाकर अपनी गलती की क्षमा मांगनी पढ़ती है।

आप सभी को यह भी बता दे की अगर कोई साधू या फिर संत कुछ गलत कार्य कर देता है या फिर किसी दुष्कर्म में पकड़ा जाता है तो अखाडा परिषद् उनको अखाड़े से निरस्त भी कर देते है। जब तक कोई भी साधू अखाड़े में होते है तो उनपर संविधान के कई नियम लागू नहीं होत्ये है उनपर केवल अखाड़े के नियम लागु होते है लेकिन जब किसी साधू या संत को अखाड़े से निरस्त कर दिया जाता है तो उस साधू पर संविधान के सभी नियम व कानून लागू होते है।

अखाड़े से सम्बंधित कुछ प्रश्न व उनके उत्तर यहाँ पर जानिए

अखाड़ा क्या होता है

अखाडा साधु व संतों का समूह होता है। अखाड़े के सभी साधु व संत देश व धर्म पर कभी भी संकट आने पर राष्ट्र की व धर्म की रक्षा करने के लिए हमेशा ही तथपर रहते है। राष्ट्र रक्षा या फिर धर्म रक्षा करने के लिए सभी साधु संत अपने अस्त्रों का भी प्रयोग करते है। इन अखाड़ों में रहने वाले साधु व संत अस्त्र विद्या का भी अभ्यास करते है ताकि समय आने पर वह इसका उपयोग कर सकें।

भारत में कितने अखाड़े हैं ?

भारत में केवल 14 अखाड़े है जिनका नाम हमने आप सभी को इस लेख में बताया हुआ है तो इस लेख को पढ़कर आप भी सभी अखाड़ों के नाम जान सकोगे।

अखाड़ों का निर्माण कब किया गया था ?

अखाड़ों का निर्माण प्राचीन काल में किया गया था। ताकि इन सभी अखाड़ों के साधू संत सनातन धर्म के चारों पीठों की सुरक्षा कर सकें।

अखाड़ों का निर्माण किसके द्वारा किया गया था ?

अखाड़ों का निर्माण शंकराचार्य जी के द्वारा किया गया था।

भारत में स्थित चारों पीठ का नाम बताइये ?

उन चारों पीठों का नाम कुछ इस प्रकार है
श्रृंगेरी मठ – यह मठ भारत के दक्षिण भाग में रामेश्वरम में स्थित है।
गोवर्धन मठ – गोवर्धन मठ भारत के ओडिसा राज्य के पूरी में स्थित है।
शारदा मठ – इस मठ को द्वारका मठ के नाम से भी जाना जाता है

Leave a Comment

Join Telegram